फटाफट (25 नई पोस्ट):

Saturday, January 24, 2009

बालिका दिवस का नारा (हिन्दी)


आज का दिन राष्ट्रीय कन्या दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। पिछले हिन्दी-दिवस पर सीमा सचदेव द्वारा लिखे नारों को पाठकों ने बहुत पसंद किया। इसी से ऊर्जा पाकर सीमा सचदेव ने ही राष्ट्रीय बालिका दिवस पर भी ढेरों नारे लिखे भेजे हैं। बहुत से पाठकों को सामाजिक जागरूकता की खातिर अभियान चलाने के लिए भी उपयुक्त नारों की आवश्यकता होती है। पढ़िए और बताइए कि कैसे हैं

१.
उस स्रष्टा की भी जननी जो
क्यों उपेक्षित कन्या वो

इससे जुड़ी प्रविष्टियाँ-

1. अज्ञात कन्या का मर्म
2. एक महोदय बोले लड़कियों को कम फैशन करना चाहिए
3. मेरी बगिया की नन्ही कली
4. अपराधबोध!!!
5. कठपुतलियां तो नारी हैं
6. कन्या भ्रूण हत्या
7. दोषी कौन?
8. क्या नारी शक्ति आवाज़ उठा पायेगी?
२.
बेटी कुदरत का उपहार
नहीं करो उसका तिरस्कार

३.
जो बेटी को दे पहचान
माता-पिता वही महान

४.
बेटी का जीवन बचाओ
मानव दुनिया में कहलाओ

५.
पुत्रों से पुत्री बढ़कर
माता-पिता की करे फिक्र
करती सच्चे दिल से प्यार
फिर उसका हो क्यों तिरस्कार

६.
जीने का उसको भी अधिकार
चाहिए उसे थोडा सा प्यार
जन्म से पहले न उसे मारो
कभी तो अपने मन में विचारो
शायद वही बन जाए सहारा
डूबते को मिल जाए किनारा

७.
हर क्षेत्र में लडंकी आगे
फिर क्यों हम लड़की से भागें

८.
दुनिया मे उसे आने तो दो
चैन से उसको जीने तो दो
करेगी वो भी ऊँचा नाम
आएगी दुनिया के काम

९.
अति उत्तम बेटी का धन
कर देती मन को पावन

१०.
जिस घर मे बेटी आई
समझो स्वयं लक्ष्मी आईं

११.
बेटी तो घर में ज़रूरी है
वो नहीं कोई मजबूरी है

१२.
बेटी-बेटे का त्यागो भ्रम
लेने दो बेटी को जन्म

१३.
बेटों से भी बेटी भली
क्यों जन्म से पूर्व उसकी बलि

१४.
बेटी को सम्मान दो
जीवन उसको दान दो

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 कविताप्रेमियों का कहना है :

Dilsher Khan का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.
Dilsher Khan का कहना है कि -

१४ बंध, सार्थक हैं, काफी अच्छे, बधाई हो!

आलोक सिंह "साहिल" का कहना है कि -

जो बेटी को दे पहचान
माता-पिता वही महान

बेटों से भी बेटी भली
क्यों जन्म से पूर्व उसकी बलि
बहुत ही प्रेरक नारे हैं सीमा जी,
बहुत बहुत साधुवाद
आलोक सिंह "साहिल"

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

नारें अच्छी हैं|
बधाई |

अवनीश तिवारी

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

नारें अच्छे हैं|
अब तो लोगों का नज़रिया बदल रहा है , यह अच्छी बात है |
बधाई |

अवनीश तिवारी

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' का कहना है कि -

नारे लगानेवाले आचरण विपरीत करते हैं. हम नारे लगायें या न लगायें आचरण कथ्य के अनुरूप करें

सीमा सचदेव का कहना है कि -

सभी टिपणीकारो को धन्यवाद , सजीव जी न जाने आप का क्या अनुभव है जो आपको सभी मे बुराई दिखी ऎसा कौन सा विपरीत कार्य कर दिया मैने | कभी अच्छा नही किया तो अपने होशो-हवास में बुरा सोचा भी नही | मुझे नही लगता कि नारे लिख कर मैंने कोई गलती/बुराई की है |
किसी पर व्यक्तिगत टिप्पणी करने से पहले
उसे जान लेना बहुत जरूरी
होता है | किसी भी रचना पर आप खुले दिल से टिप्पणी कीजिए ,आपके हर शब्द का स्वागत है लेकिन आप किसी के व्यक्तिगत आचरण पर प्रहार करे .....ऐसी उम्मीद तो हम किसी से भी नही करते | आपकी टिप्पणी पर मुझे ऐसा जवाब देना पडा ,उसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ |

manu का कहना है कि -

SEEMA JI,
AAPNE NAARE DEKAR BAHUT HI BADHAAI WALA KAAM KIYA HAI...IS KO GALAT JAISA SOCHNE KI KISI BHI ANGLE SE RATTI BHAR BHI GUNJAAISH NAHIN HAI.
MAGAR MUJHE LAGTAA HAI KI AACHAARYA NE YE BAAT UN LOGON KE LIYE LIKHI HAI JO KAHTE KUCHH HAIN ,KARTE KUCHH HAIN.....BAHUT LOG HAIN IS DUNIYA MEIN DOHRI ZINDGI JEENE WAALE...SABSE ZYAADA TO RAAJ NETA...KUCHH JABARDASTI KE SAMAAJ SUDHAARAK...KAI EK KO TO MAINE BHI DEKHA HAI....
PLEASE AAP ISE APNE UPER NA LEIN...AACHARYA KO JAHAAN TAK MAINE UNKE LEKHAN KE AADHAAR PAR JANA HAI...WO KABHI BHI KISI MAASOOM DIL PAR PRAHAAR NAHIN KARTE.....AAPSE WINTI HAI KE IS KO DOOSRE DHANG SE DEKH KAR SOCHEIN............AUR APNAA NEK KAAM JAARI RAKHEIN........
NAARON SE BHALE HI SABKO AKAL NAA AAYE MAGAR MUTTHEE BHAR LOGON PAR BHI ASAR PAD JAAYE TO SAMJHO AAPNE MAANWTA PAR EK BAHUT BADAA UPKAAR KAR DIYA....

neelam का कहना है कि -

seema ji aap anyatha n len ,aapne galat samajha hai ,hum bhi manu ji ki baat se poori tarah se sahmat hain .

ek baat aachary ji ke liye bhi ,sir aapke kuch bure grah chal rahen hain ,kuch n kuch laga hi rahta hai ,isi ka naam jindgi hai
kisi ne theek hi kaha hai.

badnaam gar honge to kya naam n hoga? hahahahahaahahahhahah

s.v.tomer का कहना है कि -

मेरी राय में...नारे लगाने वाले आचरण के उलट हो सकते हैं...कुछ लोग ही..पर शभी को कहना अनुचित है...

s.v.tomer का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.
Riya Shah का कहना है कि -

This is a vry good poem..!! Save Girl Child..God gave the right for the girls to live in this world so who r v to kill her..We have no right 2 do so...

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)