फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, June 02, 2008

कविता के गुलशन में विचरण करती पठनीयता की सीमा (परिणाम)


यूनिकवि एवम् यूनिपाठक प्रतियोगिता के परिणाम इस सत्य को पुनः स्थापित करते हैं कि किसी भाषा और उसके साहित्य का विकास दुनिया में कहीं भी और किसी के भी द्वारा हो सकता है, बशर्ते सच्चे मन का सेवक हो।

हिन्द-युग्म पर बहुत से कवि और पाठक हिन्दी के जन्मस्थल भारत के बाहर से आते हैं। यद्यपि वे भारत से संबंध रखते है, फिर भी अपनी मिट्टी से काफी समय से दूर हैं और विदेश में भी पूरे जतन से निज भाषा और निज साहित्य की सेवा कर रहे हैं।

अप्रैल माह से एक रूसी व्यक्ति वसेवोलोड पापशेव यूनिकवि प्रतियोगिता में भाग ले रहे हैं। उनका मानना है कि वो एक दिन यूनिकवि बनकर रहेंगे। फिलहाल शुरूआत है। जानकारी के लिए बता दें कि उन्हें यूनिकोड (हिन्दी) टाइपिंग आती है।

मई माह की यूनिकवि प्रतियोगिता के लिए कुल ४५ कविताएँ प्राप्त हुई थीं, दो चरणों में ७ जजों द्वारा निर्णय कराये जाने के बाद मॉरिशस निवासी गुलशन सुखलाल की कविता 'मेरे अजन्मे पुत्र' को प्रथम स्थान की कविता चुना गया। गुलशन इससे पहले और २ बार इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले चुके हैं, तथापि इनकी पुरानी कविताओं ने हमारे निर्णायकों को बहुत अधिक प्रभावित नहीं किया था। गुलशन सुखलाल के बारे में बहुत अधिक जानकारी हमारे पास नहीं है क्योंकि यूनिकवि के निर्णय के बाद परिचय और चित्र आदि के लिए हमने इनसे संपर्क साधा (ईमेल द्वार), परंतु इन्होंने अभी तक कोई उत्तर नहीं भेजा। फिर हमने गूगल पर (इनकी ईमेल आईडी के साथ) सर्च किया, तब इनका फ़ेसबुक प्रोफाइल मिला, जहाँ से हमें यह चित्र मिला। एक और सूत्र के अनुसार दक्षिण एशिया केंद्र द्वारा प्रायोजित एक कार्यक्रम 'द्वीपों के समूह को राष्ट्रीयता की तलाश' पर मॉरिशस विश्वविद्यालय में शोधरत गुलशन सुखलाल ने अपना भाषण दिया था। भारतीय सांस्कृतिक सम्बंध परिषद के एक सूत्र पर मॉरिशस के एलूमनियों की सूची है, उसमें गुलशन सुखलाल का नाम सबसे ऊपर है और निम्नलिखित विवरण है-

Name : Mr. Gangadharsing (Gulshan) Sooklall
Address : Mahatma Gandhi Rd, Petit Raffray
Tel. : 2820005, Mob:7890702
Email:
gulshansooklall@yahoo.co.uk
gulshansooklall@hotmail.com
Period of Study : 1995 to 2000
University : Delhi
College : Hansraj
Course/s : B.A. (Hons) Hindi, M.A. Hindi
Present Occupation : Lecturer, MGI (Mahatma Gandhi Institue, Mauritius)
Financing : General Cultural Scholarship, ICCR
Comments : The exp. of study in India are undeniably the best ;moments in student life. As far as suggestions are concerned, I believe many things might have changed in the six years since I have been back. Yet the two major areas requiring urgent attention from the authorities have been dissemination prior to departure for India and the arrival arrangements that follow and secondly lodging for international scholars. One very meaningful change that can be brought about is the setting of small forums for ICCR scholars within each univ. for cultural and exp. sharing. Such forums may arrange for international students to have first hand exp. of Indian family life and culture. The ICCR summer or winter tours fail in this objective as the students visit places more as tourists and not as cultural ambassadors.

पूर्णिमा वर्मन जी ध्यान दिलाया कि इनकी प्रोफाइल और इनकी कविताएँ अनुभूति पर भी उपलब्ध हैं

यदि आप खोजें तो आपको कुछ अन्य जानकारियाँ भी प्राप्त हो सकती हैं।

पुरस्कृत कविता- मेरे अजन्मे पुत्र

कुछ शब्द हैं तुम्हारे लिए
मेरे अजन्मे पुत्र...

आने से पहले ही तुम्हारे
सपनों, ईरादों, योजनाओं की बनाता जा रहा हूँ मैं कतारें
कुछ रहेंगी याद और
कुछ जाऊँगा भूल।

कुछ काम हैं तुम्हारे लिए
मेरे अजन्मे पुत्र
बड़ा होते हुए या
बड़ा होने पर...

याद दिलाना मुझे
कि तुम्हारे भविष्य
तुम्हारी सफलता, स्वास्थ्य, सौन्दर्य
और तुम्हारी भावनाओं का निर्णय
दुनिया के दूसरे कोने में बैठा कोई मार्कैटिंग गुरू
अपने विज्ञापनों के लुभावने शब्दों से
अपनी कौड़ी के मोल बिकने वाले सामानों से
नहीं करेगा।
याद दिलाना मुझे कि
यदि आज मैं तुम्हारे लिए
ये शब्द लिख पा रहा हूँ
तो इसलिए नहीं
कि मैं प्रमाण पत्रों के पीछे भागा हूँ

याद दिलाना कि
पीठ पर किताबों का बोझ लादे
देश के भविष्य के जिस बढ़ते हुजूम की
मैं निन्दा करता रहा हूँ
उसी में तुम्हें ढकेल कर
अपने कर्तव्यों की इति न समझूँ ।

याद दिलाना कि मैं तुम्हें
इस काबिल बनाऊँ कि
तुम भी ऐसे शब्द लिख पाओ
अपने अजन्मे पुत्र के लिए

याद दिलाना कि
तुम इसलिए नहीं होगे अलग
या बेहतर
ग़रीब पड़ोसी के
बच्चे से
कि तुम हो साफ़ सुथरे
सफर करते हो गाड़ी में
या क्योंकि वह
सरकारी पठशाला में पढ़ता है।

याद दिलाना मुझे तुम
कि मेरी गाड़ी, मेरे घर,
मेरी नौकरी और पगार की तरह
तुम
दोस्तों-दुश्मनों के सामने
मेरा बड़प्पन जताने के
साधन नहीं हो
’शोपीस’ नहीं जिसमें
बचपन में ही
दुनिया भर का ज्ञान
क्विज़ के उत्तरों की पोथियाँ
और सभी सम्भव कलाएँ भरकर
मैं माध्यम बनाकर
अपना अहम् संतुष्ट करूँ ।

याद दिलाना मुझे कि
मैं तुम्हें याद दिलाऊँ
मेरी सम्पत्ति,
ओहदा, मान, नाम
नहीं हैं बपौति तुम्हारी
कमाया है मैंने
कमाना होगा तुम्हें भी ।

याद दिलाना
कि मैं तुम्हें
मिट्टी में खेलने दूँ
बारिश में भीगने दूँ
धीमी गति से चलने दूँ
साईकल से गिरने दूँ
दोस्तों से भिड़ने दूँ
हाथ से खाने दूँ
खुलकर हँसने दूँ
अपनी बात कहने दूँ

और यदि कभी,
तुम्हारी नज़रों में ‘सुपर-हीरो’
तुम्हारा यह पिता अपनी
बाहरी और भीतरी कमज़ोरियों के सामने
अपनी नपुंसकता का प्रमाण देने लगे
तो तुम
उसे ये सभी बातें याद दिलाना
क्योंकि तुम्हारे भविष्य के साथ जुड़ा है
मेरा भी भविष्य।



प्रथम चरण के जजमेंट में मिले अंक- ६, ६॰५, ५॰८, ८॰५
औसत अंक- ६॰७
स्थान- दूसरा


द्वितीय चरण के जजमेंट में मिले अंक- ७॰५, ९, ५॰९, ६॰७ (पिछले चरण का औसत)
औसत अंक- ७॰२७५
स्थान- प्रथम


पुरस्कार और सम्मान- रु ३०० का नक़द पुरस्कार, प्रशस्ति-पत्र और रु १०० तक की पुस्तकें।

यूनिकवि गुलशन सुखलाल से यदि अगले कुछ दिनों में संपर्क नहीं हो पाता है तो हिन्द-युग्म शर्तानुसार यह अवसर हम दूसरे स्थान के कवि को देगा। दूसरे स्थान के कवि प्रेम सहजवाला को हम पिछले माह की तरह पुनः आमंत्रित करेंगे

इसलिए प्रेम सहजवाला को दूसरे स्थान की कविता को मिलने वाली पुस्तक के अतिरिक्त प्रति सोमवार रु १०० के हिसाब से रु ३०० का नक़द पुरस्कार भी दिया जायेगा।

इससे पहले कि हम विजेता पाठकों की बात करें, पूजा अनिल, महक, अल्पना वर्मा और आलोक सिंह साहिल का विशेष आभार व्यक्त करेंगे, ये सभी बहुत धैर्य के साथ हिन्द-युग्म को पढ़ते हैं।

इस बार यूनिपाठिका का खिताब हिन्द-युग्म को मार्च २००८ से लगातार पढ़ रहीं, दो बार से दूसरे स्थान की पाठिका के रूप में पुरस्कृत और बाल-उद्यान को अपनी सुंदर-सुंदर कविताओं से नवाजने वालीं सीमा सचदेव के नाम जाता है।

शिक्षा :- एम.ए. हिन्दी, एम.एड.,पी.जी.डी.सी.टी.टी.एस.., ज्ञानी
जन्म:- २ अक्तूबर ,१९७४
जन्म स्थान :- गाँव:- खुइयाँ सरवर ,अबोहर (पंजाब)
लेखन कार्य:- बचपन से ही हिन्दी कविताएँ लिखने में रुचि थी, और बहुत सारी कविताएँ लिखी भी लेकिन सँजो कर न रखने से खो गईं, इन्हें आज तक इसका मलाल है। इन्होंने अपनी पहली कविता आठ या नौ साल की उम्र में लिखी थी। इन्होंने अभी जितना सँजो कर रखा है ,वो है:-
१. मेरी आवाज भाग-१
२. मानस की पीड़ा ( २० भाग ,श्री रामचरित मानस पर आधारित)
३.सञ्जीवनी ( ३ खण्ड काव्य १. ब्रजबाला ,२.कृष्ण-सुदामा , कृष्ण-गोपी प्रेम )
४.आओ सुनाऊँ एक कहानी भाग-१ ( बाल-कथाएँ हिन्दी कविता के माध्यम से)
५.आओ सुनाऊँ एक कहानी भाग-२
६.आओ सुनाऊँ एक कहानी भाग-३
७.नन्ही कलियाँ
८.आओ गाएँ ( बहुत छोटी बाल-कविताएँ)
9.खट्टी-मीठी यादें (इन्हीं की न भूलने वाली यादों पर आधारित तथा कुछ रेखाचित्र)
10. मेरी आवाज भाग-२ पर कार्य कर रही हैं |
"मेरी आवाज़ भाग-१" ,"मानस की पीड़ा" ,तथा "सन्जीवनी" ई-पुस्तक के रूप में प्रकाशित हैं तथा रचनाकार पर उपलब्ध हैं | "आओ सुनाऊँ एक कहानी" की बहुत सी कथा-काव्य तथा "नन्ही कलियाँ" और "आओ गाएँ" की कुछ कविताएँ "बाल-उद्यान" में प्रकाशित, कुछ कविताएँ वेब हिन्दी मैग्जीन "कृत्या" में प्रकाशित तथा समय समय पर "दक्षिण भारत" हिन्दी पत्रिका में इनकी कविताएँ प्रकाशित होती रहती हैं। जल्दी ही बाकी सभी पुस्तकें भी ई-पुस्तक के रूप में प्रकाशित हो जाएँगी।
अब ये अपने पति के साथ बंगलूरु (कर्नाटक) में रहती हूँ, पेशे से हिन्दी अध्यापिका हैं। और इनका एक दो वर्ष पाँच माह का बेटा भी है |

पुरस्कार- रु ३०० का नकद ईनाम, रु २०० की पुस्तकें और प्रशस्ति-पत्र।

हिन्द-युग्म ने जितना धैर्यवान पाठक पैदा किया है, वो इसके लिए गौरव की बात की है। दूसरे स्थान के पाठक के रूप में हमने चुना है, बहुत अधिक सक्रिय कवि-पाठक देवेन्द्र कुमार पाण्डेय को जो अक्सर ही यूनिकवि प्रतियोगिता में भाग लेते हैं और इनकी कविताएँ शीर्ष १० में जगह बनाती हैं। इन्हें पुरस्कार स्वरूप मसि-कागद की ओर से कुछ पुस्तकें भेंट की जायेंगी।

क्रमशः तीसरे और चौथे स्थान पर हमने डॉ॰ रमा द्विवेदी और ममता पंडित को रखा है, जिन्होंने भी हिन्द-युग्म को खूब पढ़ा और हमारा मार्गदर्शन किया तथा हमारा आत्मबल बढ़ाया। इन्हें भी पुरस्कार स्वरूप रोहतक हरियाणा से प्रकाशित त्रैमासिक हिन्दी साहित्यकि पत्रिका 'मसि-कागद' की ओर से कुछ पुस्तकें भेंट की जायेंगी।

इसके अतिरिक्त पल्लवी त्रिवेदी, देवेन्द्र कुमार मिश्रा, सुमित भारद्वाज, डॉ॰ अनुराग आर्या, अपूर्ण, ने भी हमें खूब पढ़ा। इनका भी बहुत-बहुत धन्यवाद।

इस माह से हिन्द-युग्म को संतोष गौड़ राष्ट्रप्रेमी, डॉ॰ एस॰ के॰ मित्तल, बाल किशन और गिरीश बिल्लोर मुकुल के रूप में नये पाठक मिले हैं। हिन्दी को इनसे भी बहुत उम्मीदें हैं।

हमारे पुराने पाठक शैलेश जमलोकि भी १ जून से सक्रिय दिखाई दे रहे हैं। मतलब हम उम्मीद का आकाश चौड़ा कर सकते हैं।

उन १० कवियों के नाम जिनकी कविताएँ शीर्ष १० (अंत की दो कविताओं का प्राप्तांक लगभग बराबर था इसलिए शीर्ष १० में ११ कविताएँ हैं) में स्थान बनाई हैं और जो एक-एक करके जून माह में प्रकाशित होंगी, वे हैं-

प्रेमचंद सहजवाला
यश
पीयूष तिवारी
पल्लवी त्रिवेदी
अरूण मित्तल 'अद्भुत'
देवेन्द्र कुमार पाण्डेय
केशव कुमार कर्ण
निखिल सचान
अजीत पाण्डेय
सुरिन्दर रत्ती

उपर्युक्त सभी १० कवियों को कवि शशिकांत 'सदैव' की काव्य-पुस्तक 'दर्द की क़तरन' भेंट की जायेगी।

इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रत्येक प्रतिभागी का उतना ही महत्व है क्योंकि एक के न शामिल होने मात्र से आयोजन की सफलता कम होती है। इसलिए हम सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद करते हैं और निवेदन करते हैं कि सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाते हुए बारम्बार भाग लें, इस माह की प्रतियोगिता की उद्घोषणा यहाँ है

निम्नलिखित कवियों ने भी इस प्रतियोगिता में भाग लेकर इसकी शोभा बढ़ाई।

विनय के॰ जोशी
मृदुल कीर्ति
पंकज रामेन्दू मानव
अभिनव झा
सीमा सचदेव
श्याम सखा 'श्याम'
रेनू जैन
डॉ॰ अनिल चड्डा
नीरा राजपाल
मयंक शर्मा
नागेन्द्र पाठक
प्रशेन क्यावल
मैत्रेयी बनर्जी
सुमीत भारद्वाज
सतीश वाघमरे
रितु कुमारी
वीरेन्द्र आर्या
कमलप्रीत सिंह
डॉ॰ एस॰ के॰ मित्तल
शिखा वार्षने
अमित अरूण साहू
अंजु गर्ग
गोविन्द शर्मा
आलोक सिंह साहिल
सविता दत्ता
रचना श्रीवास्तव
सुरेखा आनंदराम भट्ट
अर्चना शर्मा
ममता पंडित
पूनम
देवेन्द्र शर्मा
पूजा अनिल
सी॰ आर॰ राजश्री
वसेवोलोड पापशेव

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

29 कविताप्रेमियों का कहना है :

Dr. SK Mittal का कहना है कि -

प्रतियोगिता में भाग लेने वालों व विजेता कवी साथिओं को हार्दीक बधाई
हिंदी युग्म प्रायोजकों को प्रयोजन के लिए शुभ कामनाएँ और बधाई. परम पिता परमात्मा से प्रार्थना कि 'हिंदी युग्म' दिन दुनी रात चौगनी तरक्की करे और हिंदी हिंद और हिंदवासी कि सेवा करे
हमें भी इसके माध्यम से एक दुसरे साथी के पास आने और सेवा का अवसर मिले.
हिंदी युग्म के कवि कवियत्री और पाठकों को मैसूर आने का न्योता देता हूँ. स्वीकार करें

डॉ. श्रीकृष्ण मित्तल का कहना है कि -

प्रतियोगिता में भाग लेने वालों व विजेता कवी साथिओं को हार्दीक बधाई
हिंदी युग्म प्रायोजकों को प्रयोजन के लिए शुभ कामनाएँ और बधाई. परम पिता परमात्मा से प्रार्थना कि 'हिंदी युग्म' दिन दुनी रात चौगनी तरक्की करे और हिंदी हिंद और हिंदवासी कि सेवा करे
हमें भी इसके माध्यम से एक दुसरे साथी के पास आने और सेवा का अवसर मिले.
हिंदी युग्म के कवि कवियत्री और पाठकों को मैसूर आने का न्योता देता हूँ. स्वीकार करें

sahil का कहना है कि -

इसबार के परिणामों को देखकर बहुत खुशी हुई,रूस से कवि का आना,हिन्दयुग्म की सार्थकता को सिद्ध करने वाला कदम है,सीमा जी की तो बात ही निराली है इन्होने ख़ुद के लिए इतना बड़ा आयाम स्थापित कर दिया है की ख़ुद इनके लिए उसे पार कर पाना मुश्किल है.
आप दोनों को अनंत शुभकामनाएं.
आलोक सिंह "साहिल"

pooja anil का कहना है कि -

गुलशन जी को यूनिकवि बनने की बधाई .

सीमा सचदेव जी जिस तरह से हिंद युग्म पर सक्रिय हैं , उसी तरह से लेखन के प्रति समर्पित भी हैं , इन्हें भी हार्दिक बधाईयाँ .

^^पूजा अनिल

archana का कहना है कि -

i m very sad to see the result kyuki mene pehlee baar koi poem kisi compitition mai bhejee thee lekin wo select nahee huyi ....

i m sooooooooooooooo sad but yess

jinkee poems achchee thee unko congrats !!!

:(

आलोक शंकर का कहना है कि -

Unikavi aur Unipathika ko bahut badhaiyan.
Seema ji,hardik Badhai!! Well deserved.

आलोक शंकर का कहना है कि -

Archana ji.
Koshish karne walon ki haar nahin hoti.
Baadhaon se darkar nauka paar nahi hoti.

Prayas karte rahein, aur jyada se jyada achcha likhne ki koshish karein . safalta jaroor milegi.

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

सभी प्रतियोगियों को हार्दिक बधाई..
सबसे पहले उनको बधाई जिनकी कविता यहाँ नही चुनी गयी.. वो सभी कवि कवित्रियां मेरी नजर में यूनि-कवि/यूनि-कवित्री ना सही परंतु यूनिक कवि / कवित्री है.. क्यूकि

मन के हारे हार है मन के जीते जीत..

विशेष रूप से सीमा जी और गुलशन जी को यूनि-पाठक और यूनि-कवि चुने जाने पर हार्दिक बधाई

अर्चना जी आपने पहली बार कविता भेजी मगर कई कविगण ऐसे है जिन्होने 8वीं या 10वीं बार भी कविता भेजी है अतः मन को दुखित ना करें आप तो सबसे बड़े विजेता है परोक्ष में किसी के हारने से ही किसी को जीत मिलती है कहने का अभिप्राय हार-जीत में जितनी अहम भूमिका किसी जीतने वाले की होती है उतनी ही अहम भूमिका हारने वाले की.. और यहाँ तो शब्दों का रण है.. जितनी बार धराशायी होंगे उतने ही बलवान होकर पुनः उठेंगे..

बहुत बहुत बधाई एक बार फिर..

pallavi trivedi का कहना है कि -

बहुत ही सुंदर और अर्थपूर्ण कविता...प्रथम स्थान पर आने के लिए बधाई...

pallavi trivedi का कहना है कि -

सीमाजी को यूनी पाठिका बनने पर बहुत बधाई...

संतोष गौड़ राष्ट्रप्रेमी का कहना है कि -

याद दिलाना मुझे
कि तुम्हारे भविष्य
तुम्हारी सफलता, स्वास्थ्य, सौन्दर्य
और तुम्हारी भावनाओं का निर्णय
दुनिया के दूसरे कोने में बैठा कोई मार्कैटिंग गुरू
अपने विज्ञापनों के लुभावने शब्दों से
अपनी कौड़ी के मोल बिकने वाले सामानों से
नहीं करेगा।
गुलशनजी ने बाजारीकरण के प्रभावों से बच्चों को बचाने की आवश्यकता पर ध्यान आकर्षित करके महत्वपूर्ण विषय प्रस्तुत किया है. रूस में हिन्दी के लेखन से वे हम सबके प्रेरणास्रोत हैं. सीमाजी की सक्रियता स्वयं में एक पुरस्कार है, वे अपनी टिप्पणियों से सबको प्रेरित करती रहती हैं. अर्चनाजी अनुभुतियों की अभिव्यक्ति रचनाकार को सुखद अनुभूति देती है, वही सच्ची प्रेरणा है. उसी के आधार पर आगे कर्मरत रहैं. प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी कवि-मित्रों व काव्य के रसिक सुह्रदयों को बधाई.

mehek का कहना है कि -

गुलशन जी आपको बहुत बधाई यूनिकवि के लिए,आपकी कविता बहुत पसंद आई ,सीमा जी आपको भी यूनी पाठिका के लिए बहुत बधाई ,आपको पढ़ना हमेशा अच्छा अनुभव होता है ,और रस्सी कवि का आना सोने पे सुहागा,हिंद युग्म को भी बधाई .

तपन शर्मा का कहना है कि -

रुस से वसेवोलोड पापशेव जी और मारिशियस से गुलशन जी दोनों को बहुत बहुत बधाई...
मारिशियस तो मैं फिर भी सोच पाता किन्तु रूस से व्सेवोलोड जी का नाम पढ कर बहुत अच्छा लग रहा है...
सीमा जी को भी यूनपाठक बनने की बधाई...
धन्यवाद

तपन शर्मा का कहना है कि -

अर्चना जी,
मैं खुद भी काफी बार प्रतियोगिता में भाग लेता रहता हूँ..इस बार चूक हो गई..पर कभी ३० के ऊपर भी आये हैं तो कभी १० के अंदर भी...पर भेजी निरंतर है..आप भेजती रहिये.. हिन्दयुग्म पर प्र्काशित कविताऒं से सीखती रहें..बस...
वसेवोलोड पापशेव जी से हमें प्रेरणा ले सकते हैं...
धनयवाद

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

सब को बधाई |

युग्म परिवार बढ़ रहा है | खुशी की बात है |

-- अवनीश तिवारी

Harihar का कहना है कि -

वाह गुलशन जी ! गजब कर दिया !
अजन्मे पुत्र के लिये जो भाव व्यक्त किये हैं
समयानुकूल हो कर शाश्वत सच्चाई लिये हुये हैं

devendra का कहना है कि -

गुलशन सुखलाल जी को यूनिकवि तथा सीमा सचदेव जी को यूनिपाठक प्रतियोगिता में प्रथम आने की ढेर सारी बधाई-----
पुरस्कृत कविता --मेरे अजन्मे पुत्र ---सचमुच एक शानदार कविता है। याद दिलाना मुझे-----------जैसे कोई दर्पण ---जैसे कोई मानवीय मूल्यों का दस्तावेज-जैसे कोई--------। काश ----पुत्र जन्म के बाद भी----वास्तविक जीवन में हम इस पर अमल कर पाते---।---देवेन्द्र पाण्डेय।

अल्पना वर्मा का कहना है कि -

यूनी कवि गुलशन जी की कविता वास्तव में पुरस्कार के लायक है...उत्तम!उन्हें भी बहुत बहुत बधाई..

सीमा जी सच कहूँ मुझे बहुत खुशी होती है जब मैं किसी भी महिला को विजेता देखती हूँ....:) क्योंकि घर-बाहर दोनों जगह संतुलन बनाते हुए अगर हम नारियाँ अपने शौक को भी बराबर तव्वाजो देती रहें तो इस से हमारे अपने वक्तितव में निखार आता है. आप को भी बधाई..

अर्चना जी -जैसा राघव जी ने कहा...बिल्कुल सही है--आप अपनी कवितायें भेजती रहिये.

हिंद युग्म ने हम पाठकों का आभार प्रकट किया है--मैं हिंद युग्म का आभार प्रकट करना चाहती हूँ..जिस मध्यम के जरिये हमें हिन्दी साहित्य की इतनी विधायों के नए -पुराने --छोटे -बडे रचनाकारों को पढने का मौका मिलता है.और सब से अच्छा है की यह एक interactive site भी है...जहाँ अगर आप को कोई कविता समझ न आए--तो सीधा कवि से सम्पर्क कर पूछ सकते हैं---

डॉ.मित्तल जी आप के निमंत्रण का धन्यवाद.आप ने इतना ही कहा बहुत है--[ख़ास कर हम दूर बैठे पाठकों के लिए....]दुआ है हिंद युग्म का आप सब शुभ चिंतकों की छत्र छाया में ऐसे ही बढ़ता रहे...
आप सभी को बहुत बहुत शुभकामनाएं..

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

पुरस्कार विजेताओं एवं समस्त प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई..

***राजीव रंजन प्रसाद

sumit का कहना है कि -

सभी विजेताओ और प्रतियोगियो को बधाई।
हिन्द युग्म के नये पाठको का मिलना बहुत खुशी की बात है
सभी को पुन बधाई

सुमित भारद्वाज

सतीश वाघमारे का कहना है कि -

इस सुंदर रचना पर गुलशन जी और कवयित्री-पाठिका सीमा जी को बधाइयां, और..
... रूस के नए कवि-मित्र का स्वागत !

Rama का कहना है कि -

डा. रमा द्विवेदीsaid....

यूनिकवि गुलशन सुखलाल जी एवं यूनिपाठिका सीमा सचदेव जी को हार्दिक बधाईव शुभकामनाएं...


सभी प्रतिभागिओं को भी
मुबारकवाद.....

Kavi Kulwant का कहना है कि -

हार्दिक बधाई....

निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -

"दोस्तों-दुश्मनों के सामने
मेरा बड़प्पन जताने के
साधन नहीं हो
’शोपीस’ नहीं जिसमें
बचपन में ही
दुनिया भर का ज्ञान
क्विज़ के उत्तरों की पोथियाँ
और सभी सम्भव कलाएँ भरकर
मैं माध्यम बनाकर
अपना अहम् संतुष्ट करूँ ।

याद दिलाना मुझे कि
मैं तुम्हें याद दिलाऊँ
मेरी सम्पत्ति,
ओहदा, मान, नाम
नहीं हैं बपौति तुम्हारी
कमाया है मैंने
कमाना होगा तुम्हें भी ।"

वाह....ये पंक्तियाँ ही कवि के परिचय के लिए काफ़ी है...एक अच्छे पिता के साथ-साथ...बहुत-बहुत बधाई....
यूनिपाठक सीमा सचदेव जी का भी हिन्दयुग्म विशेष आभारी है...आपकी टिप्पणियों से टू हम पहले ही से जुड़े हैं, अब आपसे और भी जुडाव हो गया....हमारा हौसला बढाती रहे....

निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -

"दोस्तों-दुश्मनों के सामने
मेरा बड़प्पन जताने के
साधन नहीं हो
’शोपीस’ नहीं जिसमें
बचपन में ही
दुनिया भर का ज्ञान
क्विज़ के उत्तरों की पोथियाँ
और सभी सम्भव कलाएँ भरकर
मैं माध्यम बनाकर
अपना अहम् संतुष्ट करूँ ।

याद दिलाना मुझे कि
मैं तुम्हें याद दिलाऊँ
मेरी सम्पत्ति,
ओहदा, मान, नाम
नहीं हैं बपौति तुम्हारी
कमाया है मैंने
कमाना होगा तुम्हें भी ।"

वाह....ये पंक्तियाँ ही कवि के परिचय के लिए काफ़ी है...एक अच्छे पिता के साथ-साथ...बहुत-बहुत बधाई....
यूनिपाठक सीमा सचदेव जी का भी हिन्दयुग्म विशेष आभारी है...आपकी टिप्पणियों से टू हम पहले ही से जुड़े हैं, अब आपसे और भी जुडाव हो गया....हमारा हौसला बढाती रहे....

Seema Sachdev का कहना है कि -

याद दिलाना मुझे कि
यदि आज मैं तुम्हारे लिए
ये शब्द लिख पा रहा हूँ
तो इसलिए नहीं
कि मैं प्रमाण पत्रों के पीछे भागा हूँ
बहुत ही सुंदर भाव | गुलशन जी हार्दिक बधाई | समयाभाव के कारण मैं टिप्पणी नही लिख सकी |हिन्दयुग्म और सभी मित्रो को धन्यवाद |

NISHI का कहना है कि -

kavi gulshan ji or kavyitri seema ji ko hardik badhai.

Anonymous का कहना है कि -

give me mahatama hansraj poem in hindi please now

ravi का कहना है कि -

give me mahamata hansraj poem in hindi please now ...............

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)