फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, April 22, 2007

अपराधबोध!!!


नन्हें कदमों की आहट सुनने का चाव...
अवयस्क बेटा,
अवयस्क बहू...
पर,
अपराधबोध नहीं...

चार माह बाद,
शायद ख़ुशखबरी?,
जाँच...
रिपोर्ट..
लड़की!

अपराधबोध!!!

बहू क्यों ढ़ोये?
अनावश्यक भार,
बहा दो,
दलदल

बहता हुआ अंश
दे रहा अपराधबोध
मगर
माँ चुप...

आखिर,
त्याग परम्परा है!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

30 कविताप्रेमियों का कहना है :

अरुण का कहना है कि -

बहुत खूब शायद कल इस सवाल को हर घर मे उठाना होगा अगर अभी भी न सुधरे तो जब न बहू होगी न बच्चे

sunita (shanoo) का कहना है कि -

त्याग सदा औरत को ही क्यूँ देना पडता है कब जागेगी औरत? खुद अपना अस्तित्व कब तक अधंकार के हवाले करती रहेगी,..आपकी कविता सच्चाई का आईना है,...बहुत सुंदर,...
सुनीता(शानू)

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

छोटे छोटे शब्द..गहरे गहरे भाव
किंतु करें गंभीर,भीतर तक के घाव

*** राजीव रंजन प्रसाद

Bhushan का कहना है कि -

Itne kam sabdo me...itna kuch kahana hi aapki kaabiliyat ka udaharan hai.....

नीरज दीवान का कहना है कि -

ऐसी रचनाएं पढ़कर ग़ुस्सा आता है. कोफ़्त होती है. क्यूं हम नहीं समझते कि प्रकृति संतुलन चाहती है और हम उसके ख़िलाफ़ जाते हैं? मुझे पहले पता होता कि यहां कन्या भ्रूण हत्या पर रचना छपी है तो न आता. लानत है हम पर कि ऐसा हो रहा है. ऐसा सोचना भी हमारे इंसान होने पर सवाल खड़ा कर देता है. लानत है.. शर्म है.

tanha kavi का कहना है कि -

सच्चाई बयां करती आपकी रचना दिल को छू गई।
कम शब्दों में आपने बहुत कुछ कहा है। बधाई स्वीकारें।

ग़रिमा का कहना है कि -

किस अपराधबोध की बात कर रहे हैं भईया.....?

जो आज इस माँ के साथ हूआ, कल वो भी यही काम करेगी... कल फिर अपनी बहू के साथ यही खेल खेलेगी.... तो अपराधबोध कहा हैं?

माना कि त्याग नारी का जीवन है... पर क्या सीख नही लेनी चाहिये कि कम से कम मै इस घृणित परंपरा का निर्वाह ना करूँ... पर सदियो से ऐसा हो रहा है...

कहाँ है अपराधबोध ???

संजय बेंगानी का कहना है कि -

स्त्री भ्रुण हत्या में किसकी सक्रिय भूमिका रहती है?
बाप-दादा या माँ-दादी की?

स्त्री त्याग कर रही है, या खूद को ही खत्म?

Pankaj Bengani का कहना है कि -

स्त्री की दुर्दशा के पीछे जितना हाथ पुरूष का नही है उतना खूद स्त्री का है.


नीरजभाई सही कह रहे है, प्रकृति का संतुलन बनाए रखना अतिआवश्यक है. सिर्फ पुरूष ही पुरूष हो गए तो नतिजे भयावह होंगे.

Gaurav Shukla का कहना है कि -

बधाई कविराज
अच्छी कविता है

सस्नेह
गौरव

DR PRABHAT TANDON का कहना है कि -

"अपराधबोध!!!"
कहते है कि नारी ही नारी की सबसे बडी दुशमन होती है और कम से कम पुत्र मोह के लिये तो वह भी कम जिम्मेदार नही है . मैने अक्सर देखा है कि अल्ट्रासांऊड सेन्ट्ररों मे और निजी चिकित्सकों के पास फ़रमाइश करने वाले कम और करने वाली ही अधिक होती हैं . कहने को तो सरकार ने भ्रूण परी़क्षणों पर रोक लगा दी है लेकिन यह सब कुछ आसानी से निर्विरोध चलता रहता है . मै अपने निजी अनुभव से कह सकता हूं कि गर्भपात कराने की इच्छुक इन औरतॊ मे पशचाताप नाम की कोई चीज मैने कभी नही देखी और यह भी नही कि इन औरतॊ को दबाब उनकी सास या पति ने दिया हो , अब इसको क्या कहे सारी की सारी व्यवस्था औरतों की स्वंय ही बनाई हुयी है और शायद यही इस कुचक्र के लिये जिम्मेदार भी हैं .लेकिन इस परदे के पीछे हमारी धार्मिक सोच भी जिम्मेदार है जो हमे पुत्र संन्तति के लिये बढावा देती है.

anupama chauhan का कहना है कि -

gabheer samasyaa....man ko fir sui chbhata hua prashna.....sundar kalpana sundar baav......utaam kavita

ranju का कहना है कि -

एक सुंदर और विचार करने लायक रचना है यह
इसका ज़िम्मेवार हर कोई ख़ुद ही है किस को दोष देना बेकार है |

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

सुन्दर रचना,

देखें हम अपने गिरेबान में झांक कर
तो शायद हमें किसी से गिला ना हो

हम भी इस समाज में फ़ैली कुरीतियों का एक हिस्सा हैं...

Gurnam Singh Sodhi का कहना है कि -

baat wahin aa kar ruk jati hai ki iska zimmedar kaun hai?
ek survey ke anusar gharon me mahilayen hi sabse adhik bhedbhav karti hain ladko aur ladkiyon me....
bhrun hatya ke samay bhi yahi hota hai, sasur se adhik saas aatur hoti hai, ye jaanne ke liye ki aane wala baalak hai ya baalika,

ise kya kahen, badle ki bhawna ki uske saath jo hua wo uski bahu ke saath hona chahiye, ya samaaj ka dabaav.....

Medha Purandare का कहना है कि -

Very delicate issue still ignored by our society. All have said most of the facts present in our society.

I agree that elder ladies at family are often seen more responsible for fueling such issues and creating guilty feeling as if girls are liabilities while boys are assets for sure. This is definitely yet another debate issue,isn't it?

Aapne thode shabdonmein samasya varnit ki hai.

Mired Mirage का कहना है कि -

बहुत अच्छा व सच लिखा है । पर अभी से क्यों करें अपराधबोध ? वह और पश्चात्ताप तो तब करेंगे , जब बेटे, प्यारे दुलारे बेटे कुँवारे रह जाएँगे । या तब जब समलैंगिगकता ही एकमात्र उपाय बचेगा । जब कहीं से भी कैसी भी , अधेड़ , जो भी मिले उससे पैसे दे कर लाडले का विवाह कराया जाएगा । आओ ऐसे स्वर्णिम युग की मिलकर प्रतिक्षा करें और फिर स्वागत !
घुघूती बासूती

Anjali Katariya का कहना है कि -

Hi Giri,

in few words u say a lot which is rearlity. balance in enviorment is necessary other wise one day will cum no girl will be there if this will be continue...

- Anjali Katariya

सुनील डोगरा........ज़ालिम का कहना है कि -

प्रत्‍यक्ष को प्रमाण की आवश्‍यकता नहीं है..............;आप सचमुच कवि‍राज हैं

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

गिरि जी,

निःसंदेह आपकी काव्य-प्रतिभा में दिन प्रतिदिन निखार आता जा रहा है। उम्मीद है इस बार मानस जी की शिकायत भी थोड़ी कम होगी। कम शब्दों में पूरी कविता उसे और सुंदर बनाती है और वैसे जब वो सामाजिक सरोकार से जुड़ी हो तो क्या कहने, कविता लिखना सार्थक हो जाता है।

kamlesh का कहना है कि -

sundar kalpana !!!

Gita ( Shama) का कहना है कि -

अपने ही अंग को काटकर
इस तरह फ़ेंक देने की पीङा
बहुत मर्मांतक होती है .
आपकी लेखनी बहुत सम्वेदनशील है
गिरिराज जी
बधाई

पंकज का कहना है कि -

कितने आसान शब्दों मे कितनी मुश्किल बात कह गये।
क्या कुछ लोग सुन पा रहे हैं?

Upasthit का कहना है कि -

गिरिराज, अच्छी कविता
विषय गूढ़
उतना भी नहीं...

बना दिया जितना
हमें खुद
सुबह लानी होगी...

ajay का कहना है कि -

एक कटु सत्य को सरल शब्दों में रेखांकित करती आपकी ये कविता अच्छी लगी। हालाँकि कई पाठकों की इस बात से मैं सहमत हूँ कि प्रायः नारी की भूमिका भी इसमें सदा सही नहीं होती।

archana का कहना है कि -

ek kavi ke kandhe per is baat ki bhi zimmedaari hoti hai ki vo samajh ki her aane wali samsya ko prakisht kare.....aur sahi dager ki rah de......
aapne us zimmedari ko bakhoobhi nibhaya hai...
prashansha ke patra hai aap

archana

divya का कहना है कि -

mujhe ye rachna.......sabse behtar lagi.....jo haalat hai sab jaante hai...phir bhi female foeticide ho raha hai....ladkiyon ki sankhya saal dar saal kam hoti jaa rahi hai....baaten hoti hai hoti rahengi.....tosh kadam kab uthenge....log kab jaagrukh honge kab?jab sab khatam ho chuka hoga...

sai.... का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.
sai.... का कहना है कि -

om sai ram....

sach me its nice poem.........
sach me hamare desh me aj b ye prob. hai .......kisliye log ladke ko boj samjte hai?????? aap k is poem ne bahot kuch kah diya....kisliye har bar kise lady ko hi tyag karna padta hai????? kis liye har bar lady hi tyag kare????? paap kare??????
ye kalak hamare samaj se kab mitega......

sai un sab ko sahi rah dikhaye......

sai bless all of........

Guo Guo का कहना है कि -

true religion outlet
adidas outlet
celine outlet
lululemon
lululemon outlet
christian louboutin
lacoste polo shirts
tods outlet
kate spade outlet
tory burch handbags
jordan 11
kate spade handbags
ray ban sunglasses
tory burch outlet
mac cosmetics
valentino outlet
true religion outlet
burberry outlet
supra shoes
kate spade outlet
polo ralph lauren outlet
michael kors outlet
burberry outlet
true religion jeans
kate spade outlet
mont blanc
giuseppe zanotti
mont blanc pens
air jordan 10
coach outlet store online
air jordan 13
instyler
lebron 12
giuseppe zanotti outlet
kate spade outlet
timberland shoes
tory burch sandals
cheap ray ban sunglasses
michael kors outlet
valentino shoes
yao0410

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)