फटाफट (25 नई पोस्ट):

Saturday, May 28, 2011

रंग की हों पपड़ियाँ उचली किसी दीवार से



शामिख फ़राज का नाम हमारे नियमित पाठकों के लिये नया नही है। कुछ वक्त पहले तक शामिख मंच के खूब सक्रिय कवि और पाठकों मे से रहे हैं। इधर कुछ समय से उनकी रचनाओं का क्रम कुछ अनियमित हुआ है। इससे पहले उनकी एक कविता गत वर्ष जनवरी माह मे आयी थी। इस अप्रैल माह की प्रतियोगिता मे उनकी प्रस्तुत रचना ने छठा स्थान हासिल किया है।

अब क्योंकि हाथ ख़ाली
 लौटा हूँ बाज़ार से,
हाथ ही सर पे
फिरा दूंगा मैं उसके प्यार से,
ज़िन्दगी लगती है यूँ
जो दोस्तों से दूर हूँ,
रंग की हों पपड़ियाँ
उचली किसी दीवार से,
आना जाना उसका
अब भगवानों के घर पे नहीं,
लौटा होगा ख़ाली जो
भगवानों के वो द्वार से,
चीख भूखे फिर किसी बच्चे की
मुझको ही क्यों
है सुनाई देती
उस पाजेब की झंकार से,
लोग सब अपने घरों को
लौट जाते हैं फ़राज़
तू परेशां से दिखे
खुद में हुई तकरार से।
____________________________________
पुरस्कार:हिंद-युग्म की ओर से पुस्तक।


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

3 कविताप्रेमियों का कहना है :

ज्योति सिंह का कहना है कि -

अब क्योंकि हाथ ख़ाली
लौटा हूँ बाज़ार से,
हाथ ही सर पे
फिरा दूंगा मैं उसके प्यार से,
bahut sundar ,isme hi rahat hai

Unknown का कहना है कि -

बहुत सुंदर रचना |खाली हाथ लोटा हूँ तो उसके सर पर आशीर्वाद का हाथ तो फिर ही सकता हूँ |

KayleBates का कहना है कि -

After study a few of the blog posts on your website now, and I truly like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark website list and will be checking back soon. Pls check out my web site as well and let me know what you think.

Click Here
Visit Web

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)