फटाफट (25 नई पोस्ट):

Tuesday, February 01, 2011

तू दर्दे-दिल को आईना बना लेती तो अच्छा था



प्रतियोगिता की आठवीं रचना भी एक ग़ज़ल है। रचनाकार वसीम अकरम नवंबर माह के यूनिकवि रह चुके हैं।

पुरस्कृत रचना: गज़ल

तू दर्दे-दिल को आईना  बना लेती  तो  अच्छा था
मोहब्बत की कशिश दिल में सजा लेती तो अच्छा था

बचाने के लिए तुम खुद को आवारा-निगाही से
निगाहे-नाज को खंजर बना लेती तो अच्छा था

तेरी पलकों के गोशे में कोई आंसू जो बख्शे तो
उसे तू खून का दरिया बना लेती तो अच्छा था

सुकूं मिलता जवानी की तलातुम-खेज मौजों को
किसी का ख्वाब आंखों में बसा लेती तो अच्छा था

ये चाहत है तेरी मरजी, मुझे  चाहे न चाहे तू
हां, मुझको देखकर तू मुस्कुरा देती तो अच्छा था

तुम्हारा हुस्ने-बेपर्दा  कयामत-खेज है कितना
किसी के इश्क को पर्दा बना लेती तो अच्छा था

तेरी निगहे-करम के तो दिवाने हैं सभी लेकिन
झुका पलकें किसी का दिल चुरा लेती तो अच्छा था

किसी के इश्क में आंखों से जो बरसात होती है
उसी बरसात में तू भी नहा लेती तो अच्छा था

तेरे जाने की आहट से किसी की जां निकलती है
खुदारा तू किसी की जां बचा लेती तो अच्छा था.
________________________________________________________
पुरस्कार -   विचार और संस्कृति की चर्चित पत्रिका समयांतर की एक वर्ष की निःशुल्क सदस्यता।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

14 कविताप्रेमियों का कहना है :

मान जाऊंगा..... ज़िद न करो का कहना है कि -

तुम्हारा हुस्ने-बेपर्दा कयामत-खेज है कितना
किसी के इश्क को पर्दा बना लेती तो अच्छा था

किसी के इश्क में आंखों से जो बरसात होती है
उसी बरसात में तू भी नहा लेती तो अच्छा था


bahut umdaaaa.... laajwaab...
aakarshan

शारदा अरोरा का कहना है कि -

badhiya gazal hai

धर्मेन्द्र कुमार सिंह ‘सज्जन’ का कहना है कि -

सुंदर ग़ज़ल। बधाई

Navin C. Chaturvedi का कहना है कि -

भाई वसीम अकरम जी उम्दा दर्जे की आला रिवायती ग़ज़ल पेश की है आपने| हर शे'र दाद का हकदार है| बधाई स्वीकार करें बन्धुवर|

रंजना का कहना है कि -

खूबसूरत ग़ज़ल !!!

Navin C. Chaturvedi का कहना है कि -

आज के प्रासंगिक विषय का चुनाव उत्तम है अनिल जी| दमदार प्रस्तुति|

सदा का कहना है कि -

बहुत ही सुन्‍दर ।

punita singh का कहना है कि -

vaseem ji bahut achchee lagee aapkee kavitaa.shbdo kaa abhaav ho rahaa hai.gazal kee har laain,har shabd bahuta umdaa hai.kisee ke aakhon men ishk kee barasaat hotee hai--- sabase jyaadaa man ko chu gayee.badhaai.

punita singh का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.
Manoj का कहना है कि -

bhaut umda ash"ar HAIN, MUBARK.
MANOJ MANU.

Hindi Sahitya का कहना है कि -

Kya Gazal Hai


by
Hindi Sahitya
(Publish Your Poems Here)

Anonymous का कहना है कि -

speech less gazal, bahut sundar shabd hain ji

raybanoutlet001 का कहना है कि -

fitflops sale clearance
pandora jewelry
michael kors handbags
michael kors handbags sale
michael kors handbags
michael kors handbags
michael kors handbags
michael kors outlet
ralph lauren
cheap oakley sunglasses

adidas nmd का कहना है कि -

michael kors handbags
rolex replica watches
nike shoes
ugg outlet
ugg outlet
rolex replica
cheap ray ban sunglasses
oakley sunglasses
mont blanc outlet
cheap ugg boots

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)