फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, January 31, 2011

चलो गंगा में फिर मुझको बहा दो ।




उजालों की ये सब बकबक बुझा दो
मुझे लोरी सुना कर माँ सुला दो 

तुम्हे हम धूप सा माने हुए हैं
मेरे मन का ये अँधेरा मिटा दो 

दिया हूँ मैं दुआ के वास्ते तुम,
चलो गंगा में फिर मुझको बहा दो ।

खुशी गम होश बेहोशी सभी हैं,
चलो जीवन से अब जलसा उठा दो ।

ये पानी है तसव्वुर का जो ठहरा,
तुम अपनी याद का कंकर गिरा दो ।

रहे क़ायम रवायत ये दुआ की,
मेरी ऐसी दुआ है, सब दुआ दो ।

तुम्हारी याद की बस्ती में हूँ फिर,
मुसाफिर मान कर पानी पिला दो ।

लो इसकी आंच कम होने लगी है,
ये आतिश एक मसला है, हवा दो ।

यूनिकवि: स्वप्निल आतिश


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

प्रवीण पाण्डेय का कहना है कि -

बेहतरीन शेर।

Navin C. Chaturvedi का कहना है कि -

अच्छी ग़ज़ल स्वप्निल भाई| बधाई स्वीकार करें|

vandana का कहना है कि -

bahut badhiyaa ghazal hui hai swapnil ...gr88 :)

sada का कहना है कि -

बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

मान जाऊंगा..... ज़िद न करो का कहना है कि -

behatareen ke alawaa kya kahoon....

संगीता स्वरुप ( गीत ) का कहना है कि -

बहुत खूबसूरत गज़ल .

धर्मेन्द्र कुमार सिंह ‘सज्जन’ का कहना है कि -

सुंदर ग़ज़ल, बधाई।

aaa kitty20101122 का कहना है कि -

timberland outlet
michael kors outlet
michael kors
adidas ultra boost uncaged
curry shoes
nike football boots
kobe basketball shoes
kobe sneakers
stephen curry shoes
yeezy boost 350 v2

adidas nmd का कहना है कि -

ugg outlet
ray ban sunglasses
ugg boots
nike free run
ugg boots
ray ban sunglasses
coach outlet
nike blazer pas cher
fitflops shoes
coach outlet online

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)