फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, July 25, 2010

प्रिये! तुम आना


आशीष पंत से हम सब परिचित हो चुके हैं। आज हम इन्हीं की एक कविता प्रकाशित कर रहे हैं, जिसने जून 2010 की प्रतियोगिता में सोलहवाँ स्थान बनाया है।

पुरस्कृत कविता: आज और कल

आज कल्पना के गुलशन में
चटकी हैं अगणित कलियाँ,
कल जब काल की गर्मी से
ये सूखा मरुस्थल हो जाएगा
तब तुम मदमस्त निर्झरणी-सी
मेरे ख्यालों के सभी उपवन
फिर खिलाने प्रिये आना

आज जग का आकाश भरा है
साधनों के असंख्य तारों से
कल मेरी इच्छा पूर्ति को
जब ये सारे तारे टूटेंगे
तब तुम उन टूटे तारों की
मेरी माँगी अर्जियाँ बनकर
साथ देने प्रिये आना

आज यौवन के सौष्ठव की
लपटों का चढ़ता सूरज
कल जब ढलती उम्र की
रजनी का तम छाएगा
तब साहस की किरण लिए
पूनम का सौम्य उजाला बन
तम हरने प्रिये आना

आज ध्वनियों का कोलाहल
फैला है जीवन के मेले में
कल मरघट के सन्नाटे में
जब मूक सभी हो जायेंगे
तब तुम कोयल की कूक-सी
मेरे अंतर के राग सभी
गुंजित करने प्रिये आना

आज आरोह जो जीवन के
सुरों को ऊँचा किये जाता है
कल इस कालचक्र का अंतिम
अवरोह प्रिये जो शुरू होगा
तब बैठ काल के पुष्पक पर
मुझे जीवन स्त्रोत के शून्य में
सम्पूर्ण करने प्रिये आना

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

11 कविताप्रेमियों का कहना है :

Deepali Sangwan का कहना है कि -

is baar aapki kavita mein wo baat nahi jo pichli wali mein thi, thought naya nahi hai, halaki shilp ab bhi bahut khoob rahi.
badhai. keep up the good work.

M VERMA का कहना है कि -

कल मरघट के सन्नाटे में
जब मूक सभी हो जायेंगे
तब तुम कोयल की कूक-सी
मेरे अंतर के राग सभी
गुंजित करने प्रिये आना
अवलम्बन ढूढते मन को कोई तो सहारा चाहिये ही.
सुन्दर शब्दों का समावेश और बिम्ब भी अच्छे

manu का कहना है कि -

achchhaa likhaa hai..

manu का कहना है कि -

अभी पिछली भी पढ़ी...
वो सच में ज्यादा अच्छी थी..

sada का कहना है कि -

आज ध्वनियों का कोलाहल
फैला है जीवन के मेले में

सुन्‍दर पंक्तियां ।

Girdhari khankriyal का कहना है कि -

kavita bhavnatmak bhi aur darshnik bhi hAI. LEKHAN SHAILI KA ACHHA PRAYOG! LIKHTE RAHE SUDHAAR AWYASYA HONGE! BADHAI

डा. अरुणा कपूर. का कहना है कि -

कितनी सुंदर कल्पना!...एक उत्कृष्ट रचना!

वाणी गीत का कहना है कि -

तुम तब आना ...
जब सौंदर्य ढलान पर हो , अँधेरा घना हो ,
ह्रदय मरुस्थल हो ...
तब ही शाखों पर फिर से नए पात जगाने तुम आना ...
सुन्दर कविता ...!

Khush का कहना है कि -

dil garden-2 ho gaya...........:d

raybanoutlet001 का कहना है कि -

michael kors handbags wholesale
oakley sunglasses
yeezy boost 350 white
nike huarache trainers
adidas nmd r1
yeezy boost 350 black
michael kors outlet
michael kors handbags online
ed hardy outlet
michael kors handbags

Unknown का कहना है कि -

michael kors outlet clearance from
nike blazer pas cher and
michael kors handbags link
49ers jersey the
michael kors handbags online on
ravens jerseys with
minnesota vikings jerseys And
los angeles lakers jerseys identifying
michael kors handbags to
pittsburgh steelers jersey party

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)