फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, February 24, 2010

माँ उपमा नहीं होती


मृत्युंजय साधक की एक कविता प्रतियोगिता के माध्यम से प्रकाशित हो चुकी हैं। आज हम इनकी जो कविता प्रकाशित कर रहे हैं, उसने जनवरी 2010 माह की प्रतियोगिता में छठवाँ स्थान बनाया है।

पुरस्कृत कविता: मां उपमा नहीं होती

माँ हिमालय से भी ऊंची होती है
लेकिन
पाषाण की तरह कठोर नहीं
सागर से भी गहरी होती है मां
लेकिन
सागर जैसी खारी नहीं
भगवान को भी जन्म देती है माँ
लेकिन
भगवान की तरह दुर्लभ नहीं होती
माँ तो वायु से भी ज्यादे गतिशील है
पर
अदृश्य बिल्कुल नहीं
दिखती रहती है हरदम
हम सब के बीमार होने पर
गुमसुम
बैठी सिरहाने
माथे पर हाथ फेरते.....
लम्बी उम्र की कामना करते ....
यह शाश्वत सत्य है...
मां उपमा नहीं हो सकती
क्योंकि
कोई नहीं है
मां के समान
किससे करें हम उपमा उसकी............
मां...
मां ...होती है
सिर्फ मां ....
मां उपमा नहीं होती


पुरस्कार- विचार और संस्कृति की मासिक पत्रिका 'समयांतर' की ओर से पुस्तक/पुस्तकें।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कविताप्रेमियों का कहना है :

Harihar का कहना है कि -

सुन्दर कविता !

pravesh soni का कहना है कि -

मां...
मां ...होती है
सिर्फ मां ....
मां उपमा नहीं होती
बिल्कुल सच कहा आपने..........मा कि कोइ तुलना नहि हे ,यह एक शब्द अपने आप मे परिपुर्ण हे

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

माँ जैसी कोई नही...एक ऐसा नाम जो भगवान से भी कहीं उँचा है....सुंदर अभिव्यक्ति...धन्यवाद

amita का कहना है कि -

ati uttam bahut hi sunder rachna hai sach main man ki tulna yogay koi nahi man to sirf man hai bahut sunder badhai
amita

dr.aalok dayaram का कहना है कि -

बढिया लिखते हो,बधाई,आभार!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)