फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, February 05, 2010

साढे साती


मुझे डर था बस इसी बात का,
कि ये हश्र न हो मुलाकात का।

तूने मन को मार के क्या पाया,
बुझा ध्रुवतारा तेरी रात का।

हँसी अब जो काटती है तुझको,
है ये असर नेक ख्यालात का।

वो जो किस्मत बाँटते हैं उनके,
शनि घर में है साढे सात का।

जिसे कमतर आँकते थे सारे,
वो था अंतर शह और मात का।

-विश्व दीपक

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

11 कविताप्रेमियों का कहना है :

Harihar का कहना है कि -

जिसे कमतर आँकते थे सारे,
वो था अंतर शह और मात का।

विश्व दीपक जी ! सुन्दर गज़ल है !

Anonymous का कहना है कि -

जिसे कमतर आँकते थे सारे,
वो था अंतर शह और मात का।
सुन्दर रचना , बहुत बहुत बधाई धन्यवाद
विमल कुमार हेडा

निर्मला कपिला का कहना है कि -

वो जो किस्मत बाँटते हैं उनके,
शनि घर में है साढे सात का।

जिसे कमतर आँकते थे सारे,
वो था अंतर शह और मात का।
लाजवाब गज़ल विश्वदीपजी को बधाई

परमजीत बाली का कहना है कि -

विश्व दीपक जी ! सुन्दर गज़ल है !

Priya का कहना है कि -

jyotisshiya bhasha ke saath shabdo ka tol mol accha laga

rachana का कहना है कि -

तूने मन को मार के क्या पाया,
बुझा ध्रुवतारा तेरी रात का।
kya khoob
वो जो किस्मत बाँटते हैं उनके,
शनि घर में है साढे सात का।
sunder vichar
bahut khoob
saader
rachana

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

वो जो किस्मत बाँटते हैं उनके,
शनि घर में है साढे सात का।

एक छोटी पर लाज़वाब ग़ज़ल खूब बढ़िया से पिरोइ है आपने यह सुंदर ग़ज़ल हर एक पंक्ति बेहतरीन वैसे ये कोई पहली ग़ज़ल नही है आपकी ग़ज़ल होती ही बेहतरीन है..

sumita का कहना है कि -

वो जो किस्मत बाँटते हैं उनके,
शनि घर में है साढे सात का।

बहुत सटीक कहा आपने ऐसे बाबाओं की कमी नहीं जिनकी किस्मत के ही ठिकाने नहीं। बधाई उम्दा रचना के लिये!

kavi kulwant का कहना है कि -

gazab..

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

आपके स्तर की नहीं है।

raybanoutlet001 का कहना है कि -

cheap nike shoes
saints jerseys
oakley sunglasses
jordan shoes
green bay packers jerseys
cincinnati bengals jerseys
atlanta falcons jersey
nike store
nike store uk
yeezy boost 350 white

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)