फटाफट (25 नई पोस्ट):

Saturday, September 19, 2009

छोटी-सी गुड़िया की ज़ुबानी


कवयित्री संगीता सेठी पिछले कई माहिनों से हिन्द-युग्म की यूनिकवि प्रतियोगिता में भाग ले रही है। अगस्त माह की प्रतियोगिता में इनकी एक कविता ने आठवाँ स्थान बनाया है।

पुरस्कृत कविता- छोटी-सी गुड़िया की ज़ुबानी

मैं छोटी-सी गुड़िया हूँ
मैं तो बस इतना जानूँ
माँ की बिंदी माँ का आँचल
माँ की खुशबू को पहचानूँ

धरती माँ की गोद में पलकर
हिंदी की माटी में खेली
तुतला-तुतला कर जब बोली
मैं हिंदी भाषा ही बोली

मैं हिंदी की बोली के
सारे शब्दों को पहचानूँ
माँ की बिंदी माँ का आँचल
माँ की खुशबू को पहचानूँ

अपनी संस्कृति को जानूं मैं
अंग्रेजी से उसे फैलाऊं
हिंदी वेदों की वाणी को
इस संसार के मुख पर लाऊं

अपनी संस्कृति पर मुझे गर्व है
हिंदी भाषा को अपनाऊं
माँ की बिंदी माँ का आँचल
माँ की खुशबू को पहचानूँ

मैं छोटी-सी गुड़िया हूँ

ख़ुर्शीद- सूर्य, सूरज


प्रथम चरण मिला स्थान- ग्यारहवाँ


द्वितीय चरण मिला स्थान- सातवाँ


पुरस्कार और सम्मान- मुहम्मद अहसन की ओर से इनके कविता-संग्रह 'नीम का पेड़' की एक प्रति।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

14 कविताप्रेमियों का कहना है :

Anonymous का कहना है कि -

अच्छी कविता है पर इतनी भी नहीं कि आठवे स्थान की अधिकारी हो ..

Sumita का कहना है कि -

सच बात है हम हिन्दी में ही पलकर बडे होते हैं। दूसरी भाशाएं तो बाद में हमें थोपी जाती हैं...अच्छी रचना है।

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

मैं छोटी-सी गुड़िया हूँ
मैं तो बस इतना जानूँ
माँ की बिंदी माँ का आँचल
माँ की खुशबू को पहचानूँ

Sundar aur bhavpurn kavita..badhayi..

Manju Gupta का कहना है कि -

संगीता जी तो भावी कवियत्री हैं . हिंदी और माँ की महिमा बताती सुंदर कविता लगी . बधाई .

Devendra का कहना है कि -

अपनी माटी अपनी भाषा के प्रति आपका यह प्रेम अनुकरणीय है।
-देवेन्द्र पाण्डेय।

शोभना चौरे का कहना है कि -

bahut sundar bhav
अपनी संस्कृति को जानूं मैं
अंग्रेजी से उसे फैलाऊं
हिंदी वेदों की वाणी को
इस संसार के मुख पर लाऊं

bilkul sach hai.
badhai
shubhkamnaye

Sandhya Garg का कहना है कि -

sangeeta, aakhir mene tumhe dhoondh liya jnha bhi sangeeta sethi naam pdti thi bas sochti thi ye tum to nhi. pahchaana me sandhya delhi se. aur rajeev kesa he ghr pr sb kese he? im soooooooo happy. please contact me. garg.sandhya@gmail.com

Shamikh Faraz का कहना है कि -

अच्छी कविता लेकिन कुछ sadharan सी लगी.

मैं छोटी-सी गुड़िया हूँ
मैं तो बस इतना जानूँ
माँ की बिंदी माँ का आँचल
माँ की खुशबू को पहचानूँ

sangeeta sethi का कहना है कि -

dear sandhya
tumhe bheja hua mail undelivered ho gaya hai . sucmuch baat karna chahti hain to sahi mail batayen

SUNIL DOGRA जालि‍म का कहना है कि -

बहुत खूब.. बधाई

raybanoutlet001 का कहना है कि -

nike roshe run
michael kors handbags
adidas nmd runner
fitflops clearance
nike roshe one
nfl jerseys wholesale
retro jordans
air max thea
mlb jerseys
kobe bryant shoes
tiffany and co jewellery
tiffany jewellery
cheap air jordan
fitflops sale
chrome hearts
air jordan retro
nike dunks
true religion jeans
tiffany and co jewelry
yeezy boost 350
cheap air jordans
christian louboutin outlet
links of london sale
discount oakley sunglasses
tiffany and co
coach outlet online
air jordan
adidas nmd
nike air zoom
kobe bryant shoes
http://www.cheapbasketballshoes.us.com
air jordan retro

raybanoutlet001 का कहना है कि -

polo ralph lauren
michael kors handbags
michael kors
michael kors handbags
michael kors outlet online
ralph lauren outlet online
yeezy boost 350
nike trainers uk
michael kors handbags outlet
adidas nmd

raybanoutlet001 का कहना है कि -

nike zoom
cheap jordan shoes
adidas stan smith
links of london
cheap uggs
nike huarache
michael kors handbags clearance
michael kors handbags
reebok outlet
adidas stan smith women

Unknown का कहना है कि -

new york knicks jersey sub
philadelphia eagles jerseys blog
omega watches weekly
michael kors outlet your
mont blanc pens your
eagles jerseys could
new orleans saints jerseys and
ray ban sunglasses these
miami heat on
nike blazer pas cher So,

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)