फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, February 05, 2009

क्या ज़रूरी है कि सबसे ज्ञान लें


कैसे मुमकिन है कि ख़ुद को जान लें
अजनबी हो तो उसे पहचान लें

क्या ज़रूरी है कि सबसे ज्ञान लें
एक दिन तो अपना कहना मान लें

कोई उनसे कह दे इतना मान लें
चैन लूटा, दिल लिया अब जान लें

रात है, फ़ुर्सत भी है तन्हाई भी
आओ अब यादों की चादर तान लें

सर्द मौसम को बदलने के लिये
आओ नाज़िम धूप का एहसान लें

--नाज़िम नक़वी



आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

13 कविताप्रेमियों का कहना है :

Arun Mittal का कहना है कि -

क्या ज़रूरी है कि सबसे ज्ञान लें
एक दिन तो अपना कहना मान लें

सर्द मौसम को बदलने के लिये
आओ नाज़िम धूप का एहसान लें
बहुत खूब .......... अच्छा लिखा है बधाई .............

रंजना का कहना है कि -

बहुत अच्छा लिखा है! बधाई !

neelam का कहना है कि -

कैसे मुमकिन है कि ख़ुद को जान लें
अजनबी हो तो उसे पहचान लें

नाजिम जी बहुत ,बहुत .बहुत ही सुंदर लिखा है पूरी ग़ज़ल दिल में कही गहरे तक असर करती है
कलम गोयद की मन शाहे जहानम
कलमकश रा बदौलत मी रसानम

दिगम्बर नासवा का कहना है कि -

सर्द मौसम को बदलने के लिये
आओ नाज़िम धूप का एहसान लें

bahoot khoob है ये sher ...........
lajawaab

manu का कहना है कि -

नज़्म कह ,चाहे रुबाई या ग़ज़ल,
फिक्र का दिल में मगर मीजान ले,,

हुज़ूर नकवी साहेब ,आपकी जमीन पर कहा गया ये शे'र अआपकी इस हसीं ग़ज़ल के लिए हरगिज नहीं है...ये तो लिखने और परखने वालों के लिए है....मैं तो समझा था के आखिरी टिपण्णी कर चुका हूँ.....पर आपको पढ़ कर कहा रुका जाता है...
मुबारक......
हाँ ..आपके हसीं मकते से कुछ मिलता जुलता सा कहा था कभी...

गम-ऐ-हस्ती के सौ बहाने हैं
आज अपने पे आजमाने हैं

सर्द रातें गुजारने के लिए
धुप के गीत गुनगुनाने हैं.

वैसे मुझे ये यहाँ लिखना नहीं चाहिए था.....पर फ़िर भी....

चारु का कहना है कि -

रात है, फ़ुर्सत भी है तन्हाई भी
आओ अब यादों की चादर तान लें

सर्द मौसम को बदलने के लिये
आओ नाज़िम धूप का एहसान लें
बहुत बढ़िया...

sumit का कहना है कि -

गजल अच्छी लगी,
तीनो मतले बहुत अच्छे है , पहले और दूसरा ज्यादा पसंद आया

Dilsher Khan का कहना है कि -

बहुत अच्छा,
रात है, फ़ुर्सत भी है तन्हाई भी
आओ अब यादों की चादर तान लें

सर्द मौसम को बदलने के लिये
आओ नाज़िम धूप का एहसान लें

विश्व दीपक ’तन्हा’ का कहना है कि -

रात है, फ़ुर्सत भी है तन्हाई भी
आओ अब यादों की चादर तान लें

सर्द मौसम को बदलने के लिये
आओ नाज़िम धूप का एहसान लें

खूबसूरत गज़ल है।
बधाई स्वीकारें!

-विश्व दीपक

तपन शर्मा का कहना है कि -

रात है, फ़ुर्सत भी है तन्हाई भी
आओ अब यादों की चादर तान लें...

क्या बात है नाजिम जी...

आलोक सिंह "साहिल" का कहना है कि -

behatarin guruvar
ALOK SINGH "SAHIL"

Gege Dai का कहना है कि -

louis vuitton pas cher
chrome hearts outlet
rolex watches for sale
ferragamo outlet
juicy couture outlet
nike mercurial
true religion jeans
nhl jerseys
fitflops clearance
michael kors uk
nfl jersey wholesale
nfl jerseys
michael kors outlet
cheap ray ban sunglasses
air max 90
abercrombie outlet
asics
cazal sunglasses
kate spade handbags
burberry outlet
giuseppe zanotti outlet
louis vuitton handbags outlet
lululemon outlet online
rolex watches
converse shoes
hollister sale
fitflop clearance
michael kors outlet
fitflops shoes
chaussure louboutin
nike tn pas cher
replica watches
mulberry handbags
beats headphones
ray ban sunglasses sale
16.7.18qqqqqing

chenlina का कहना है कि -

toms shoes
mont blanc
tods outlet online
toms shoes outlet online
louis vuitton bags
louis vuitton handbags
michael kors handbags
michael kors outlet store
coach factory outlet
louis vuitton
coach outlet online
instyler max
hermes birkin bag
oakley sunglasses
louis vuitton
louis vuitton outlet
cheap jordans
coach outlet
jordan retro
jordan 11 concord
rolex submariner
coach outlet online
gucci outlet
michael kors outlet
supra sneakers
michael kors handbags
cheap ray ban sunglasses
cheap nfl jerseys
michael kors outlet online sale
cheap oakley sunglasses
hermes bag
longchamp outlet
adidas shoes
ray ban sunglasses
celine bags
true religion jeans
tiffany outlet
ray ban sunglasses outlet
coach factory outlet
kate spade handbags
chenlina20160729

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)