फटाफट (25 नई पोस्ट):

Tuesday, January 20, 2009

अदीब का जन्म


आज हम जिस युवा कवि की कविता लेकर उपस्थित हैं, उसने पहली बार फरवरी २००८ में हिन्द-युग्म पर दस्तक दी थी। तक हमने इनकी 'ख़त साँस लेते हैं' कविता प्रकाशित की थी। अनिल जींगर की दूसरी कविता 'कुरकुरी धूप' मई २००८ में प्रकाशित हुई। और आज हम इनकी तीसरी कविता दिसम्बर २००८ की प्रतियोगिता की पाँचवीं कविता के रूप में लेकर हाज़िर हैं।

पुरस्कृत रचना- जन्म

सोच से अलगाव अच्छा हुनर है अदीबों का
अपने दिमाग़ का फितूर जाने
कैसे
दूसरों के जहाँ पे ढोला करते हैं

बात मुमकिन न हो
फिर भी
सितारे बाँध के फेंके हो
आसमान में ऐसा लगता है

वक़्त के पर्चों में
कुछ लिखा नहीं है
हम ही तो बहते हैं सतहों पर
जो गुजारा है
वो गुजरा नहीं है
बस हम गुजरते है

ख़याल ही में रह जाते हैं
ख़याल बन कर ही गुजर जाते हैं

ये सोच के दायरों के परे
हमेशा कुछ चुनते रहते हैं
बुनते रहते हैं
जब कभी सोच
से अलगाव होता है
उस वक़्त इक अदीब का जन्म होता है

प्रथम चरण के जजमेंट में मिले अंक- ४॰५, ६॰२५, ७॰२
औसत अंक- ५॰९८३३३
स्थान- दूसरा


द्वितीय चरण के जजमेंट में मिले अंक- ४, ५, ५॰९८३३३ (पिछले चरण का औसत
औसत अंक- ४॰९९४४
स्थान- पाँचवाँ


पुरस्कार- कवि गोपाल कृष्ण भट्ट 'आकुल' द्वारा संपादित हाडौती के जनवादी कवियों की प्रतिनिधि कविताओं का संग्रह 'जन जन नाद' की एक प्रति।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

Nirmla Kapila का कहना है कि -

sahejne yogay hai dhanyvaad

बवाल का कहना है कि -

वास्तव में सुन्दर प्रस्तुतियाँ रहीं सब की सब। संकलन करके मनन योग्य।
आभार ।

Madhu का कहना है कि -

Nice Poem,

manu का कहना है कि -

बात मुमकिन न हो
फिर भी
सितारे बाँध के फेंके हो
आसमान में ऐसा लगता है
बहुत अच्छे शब्द ....

तपन शर्मा का कहना है कि -

अच्छी कविता अनिल जी,
बधाई

rachana का कहना है कि -

वक़्त के पर्चों में
कुछ लिखा नहीं है
हम ही तो बहते हैं सतहों पर
जो गुजारा है
वो गुजरा नहीं है
बस हम गुजरते है
जी सही कहा ये ज़िन्दगी कुछ नया हर दिन हर पल लिखती रहती है और हुमुसी के सहारे बहते रहते हैं
सादर
रचना

Anonymous का कहना है कि -

soch se algaav nahin kewal bhatkaav hi ho saktaa hai,kyoon ki
soch se algaav to shabda, vichaar aur buddhi abhaav main hee sambav hai jo kewal manushya ki mrityu ke baad hi sambhav hai.Aap ki kavita bahut achchhi hai, kintu aapki soch ka hi paryaay hai.
Krishan Shekhri,7/36,Tilak Nagar,Kanpur.
e-mail address:krishpra2001@yahoo.com

neelam का कहना है कि -

वक़्त के पर्चों में
कुछ लिखा नहीं है
हम ही तो बहते हैं सतहों पर
जो गुजारा है
वो गुजरा नहीं है
बस हम गुजरते है

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

Anonymous का कहना है कि -

waqt ke parchon pur to aadikaal se likhta raha hai maanav, vo chahe Kaaldaas ho,Shakespeare ho,Tagore ho, Jai Shanker Prasad ya Krishan Chsnder ya unginat Kaviyon aur lekhakon mein se koi ek.Unka likha hum aur aap bhi asankhya paathkon ke saath anant kaal se parhte aur saraagte rahe hain. ut-eve AApka ye kathan mithya hai.Kripayaa apni ye bhool sheeghra hi sudhaar len.-Krishna Shekhri

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)