फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, May 13, 2010

कोखजने का दम तोड़ना


एम वर्मा कई बार हिन्द-युग्म की प्रतियोगिता में भाग ले चुके हैं और लगभग हर बार ही इनकी कविताओं ने शीर्ष 10 में स्थान बनाया है। जनवरी 2010 के यूनिकवि सम्मान से सम्मानित हैं। अप्रैल 2010 की यूनिकवि प्रतियोगिता में इनकी कविता ने दूसरा स्थान बनाया है।

पुरस्कृत कविताः कोखजने का दम तोड़ना

मैंने देखा है
अपने जवान पश्नों को
उन बज्र सरीखे दीवारों से टकराकर
सर फोड़ते हुए
जिसके पीछे अवयस्क बालाएँ
अट्टहासों की चहलकदमी के बीच
यंत्रवत वयस्क बना दी जाती है
और
बेशरम छतें भरभराकर ढहती भी नहीं हैं

मैनें देखा है
आक्सीजन की आपूर्ति बन्द कर देने के कारण
अपने नवजात, नाजुक और अबोध
प्रश्नों को दम तोड़ते हुए
अक्सर मैं इनके शवों को
कुँवारी की कोख से जन्मे शिशु-सा
कंटीली झाड़ियों के बीच से उठाता हूँ

बहुत त्रासद है
कोखजने को दम तोड़ते हुए देखना
और फिर खुद ही दफनाना
हिचकियाँ भी तो प्रश्नों का रूपांतरण ही हैं
तभी तो मैं इन्हें जन्म ही नहीं लेने देता
और आँसुओं की हर सम्भावना का
गला घोट देता हूँ

जी हाँ! यही सच है
अब मैं अपने तमाम प्रश्नों का गला
मानस कोख में ही घोट देता हूँ
मेरा अगला कदम
उस कोख को ही निकाल फेंकना है
जहाँ से इनका जन्म सम्भावित है


पुरस्कार- विचार और संस्कृति की मासिक पत्रिका 'समयांतर' की ओर से पुस्तक/पुस्तकें।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

वन्दना का कहना है कि -

जी हाँ! यही सच है
अब मैं अपने तमाम प्रश्नों का गला
मानस कोख में ही घोट देता हूँ
मेरा अगला कदम
उस कोख को ही निकाल फेंकना है
जहाँ से इनका जन्म सम्भावित है

gazab ki prastuti.............lajawaab aur behad gahan.

Razia का कहना है कि -

बहुत त्रासद है
कोखजने को दम तोड़ते हुए देखना
बहुत मार्मिक रचना
सुन्दर प्रस्तुति

Deepali Sangwan का कहना है कि -

मेरा अगला कदम
उस कोख को ही निकाल फेंकना है
जहाँ से इनका जन्म सम्भावित है


असरदार रचना. बधाई

दीपक 'मशाल' का कहना है कि -

वाकई पुरस्कार के काबिल रचना है वर्मा जी की.. बधाई सर.

sangeeta swarup का कहना है कि -

अब मैं अपने तमाम प्रश्नों का गला
मानस कोख में ही घोट देता हूँ
मेरा अगला कदम
उस कोख को ही निकाल फेंकना है
जहाँ से इनका जन्म सम्भावित है

बहुत मार्मिक अंदाज़ में कही है अपनी बात ...

विमल कुमार हेडा का कहना है कि -

सुन्दर रचना के लिये बहुत बहुत बधाई
धन्यवाद।
विमल कुमार हेडा़

neera का कहना है कि -

हिचकियाँ भी तो प्रश्नों का रूपांतरण ही हैं
तभी तो मैं इन्हें जन्म ही नहीं लेने देता
और आँसुओं की हर सम्भावना का
गला घोट देता हूँ

जी हाँ! यही सच है
अब मैं अपने तमाम प्रश्नों का गला
मानस कोख में ही घोट देता हूँ
मेरा अगला कदम
उस कोख को ही निकाल फेंकना है
जहाँ से इनका जन्म सम्भावित है

स्वप्निल कुमार 'आतिश' का कहना है कि -

behad shaandar rachna..khud b padh gaya aur apne dost ko b padhaya..hats off sir

ranjana का कहना है कि -

bahut paripkav kavita...ek ek shabd me gambheerta or gahrai hai

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)