फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, December 05, 2008

वो अल्लाह मेरा भी है


जेहाद के नाम पर
मासूमों को बरगलाने वालो
उनको अपने नापाक मंसूबों
को पूरा करने में लगाने वालो
जो हाथ कितने चमत्कार कर सकते थे
उनके हाथ में बन्दूक थमाने वालो
कायरो
सामने आओ
एक माँ,
करेगी क्या हश्र तेरा
देखना है तो सामने आ
ये तेरी फितरत नहीं
बुझदिल
तू मासूमों के हाथों
मासूमों का कत्ल करा रहा है
कमीने
तुझे
तो
नहीं मिलेगी
दोजख में भी जगह
ये उस माँ शाप है
जिसने तुम्हारे लिए
पाँचों वक़्त की नमाज़ अदा करनी
शुरू कर दी है
तुम्हारी तबाही के लिए
तुम्हारी बर्बादी के लिए
क्योंकि वो अल्लाह मेरा भी है

--नीलम मिश्रा

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 कविताप्रेमियों का कहना है :

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

होश जोश अक्रोश रोष देखो कविता का
सरफरोश बन गया रूप प्यारी ममता का

विश्व दीपक ’तन्हा’ का कहना है कि -

एक इंसान के अंदर का आक्रोश कैसा रंग ले सकता है,इसका साक्षात उदाहरण नीलम जी की रचना है।

हर धर्म का खुदा सच्चों और अच्छों की हीं सुनता है। इसलिए खुदा को उसके बंदों की सुननी हीं होगी और हाँ आतंकवादी खुद को जेहादी कहें,मुज़ाहिद कहें या फिर इस्लाम के सच्चे अनुयायी, खुदा हीं जानता है कि उनकी सच्चाई क्या है। वे किसी भी धर्म के नहीं है और ना हीं किसी भी धर्म के ठेकेदार। इसलिए मुमकिन है कि जिस खुदा को बदनाम कर रहे हैं वे, उसी खुदा का रोष उन्हें सहना पड़े, बस खुदा के बंदों को नीलम जी जैसी बंदगी शुरू करनी होगी!!!

-तन्हा

निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -

ममता के आक्रोश को मेरा भी नमन....

M.A.Sharma 'सेहर' का कहना है कि -

नहीं मिलेगी
दोजख में भी जगह
ये उस माँ का शाप है
जिसने तुम्हारे लिए
पाँचों वक़्त की नमाज़ अदा करनी
शुरू कर दी है
तुम्हारी तबाही के लिए
तुम्हारी बर्बादी के लिए
क्योंकि वो अल्लाह मेरा भी है

आक्रोश की पराकाष्ठा !!!

बहुत खूब नीलाम जी

rachana का कहना है कि -

ये उस माँ शाप है
शायद इस में माँ के बाद "का" छूट गया है मुझे लगता है पर जो लिखता है उस को ज्यादा पता होता है
कविता की सुन्दरता में कोई कमी नही है एक माँ के दिल की भड़ास है और सही भी है
सादर
रचना

devendra का कहना है कि -

या अल्लाह !
इस माँ की बद्दुआ कुबूल कर
यह जानती है कि यह क्या कह रही है
या उन नामुरादों को समझ दे
जो नहीं जानते
कि वे क्या कर रहे हैं !
...........................
क्योंकि तू मेरा भी है।
--देवेन्द्र पाण्डेय।

दिगम्बर नासवा का कहना है कि -

आप की कविता मैं छाया विद्रोह स्वतः ही नज़र आता है

काश उस माँ की दुआ सुन ली जाए

sahil का कहना है कि -

आप भी क्रांति पर उतर आयीं.जरुरी ही है कि एक मां इस राह को धरे.........
आलोक सिंह "साहिल"

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)