फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, December 05, 2008

मेरे उसूल


मैं प्रोफेसर
मेरे कुछ उसूल हैं
भले हो विद्यार्थिनी
कुछ पक्षपात नहीं करता
मेरे घर का दरवाजा
पढ़ने के लिये कौन खटखटाता
इसका एहसास नहीं होता मुझे
ढँक लेता कोहरे में
उसकी शारीरिक-संरचना
मैं लहरों की कगार पर खड़ा
नहीं देखता उफनती नदी
बगिया की
पंखुड़ी अपनी अल्हड़ अदा में
भले ही खिल रही हो
बाँहे फैला कर नहीं तलाशता मैं
प्रेम की फुहार
नहीं महसुसता
आंचल से प्रस्फुटित प्रेम
भले हों किसी की बाहों में भटकती
हजारों तमन्नायें
नही सिमटता उसमें
खेल रही हो अठखेलियां
तो नहीं देखता मैं गर्दन उचकाये
नहीं बुझाता अपनी प्यास
यह सिद्धान्त ही मेरा संयम
- हरिहर झा

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 कविताप्रेमियों का कहना है :

MUFLIS का कहना है कि -

aap ki kavita ka professor kuchh
pakhshpaat nahi karta...jo nahi kehta... wo sub to keh diya unhone apni kavita mei...khair, aap to smjhaa hi sakte haiN unhei,
sanyam-siddhaant se !!
---MUFLIS---

manu का कहना है कि -

पहली टिपण्णी शायद तकनीकी खराबी के कारण पोस्ट नहीं हो पायी.....या शायद मुफलिस जी की ई मेल मैं चली गयी है ...खैर जो है ठीक है.......शायद ने मेरे ही लिए कहा होगा.
"बक रहा हूँ जूनून में क्या कुछ,
कुछ न समझे खुदा करे कोई.."

sahil का कहना है कि -

जाने क्यों आपकी कविता में "आपका सा" वाला दम नहीं लगा.माफ़ी चाहूँगा.
आलोक सिंह "साहिल"

vuong का कहना है कि -

メディカルトレーナー
自転車便
賃貸宝塚市
音響 レンタル
教員
大宮 不動産
埼玉 不動産
朝霞 賃貸
フラワーギフト
大きな靴
レーザー脱毛
法律相談
任意整理
先物 オンライン
洗面化粧台
オフィスレイアウト
介護
セイコー 時計修理
折込
老人ホーム 横浜
オートバイ駐車場
バイク駐輪場
宴会場 都内
サイト買う
債務整理 伊勢原
アクシダーム 
江東区 土地
あきる野 不動産
新聞折込チラシ
漏水調査
オフィスデザイン
介護 職
埼玉県 一戸建て
時計修理
有料老人ホーム 神奈川
蓮田 不動産

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)