फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, May 22, 2011

इंद्रियाँ और दिमाग़



धर्मेंद्र कुमार सिंह की रचनाओं ने यूनिप्रतियोगिता मे हर माह शीर्ष पायदानों पर रहने की आदत ही बना ली है। इनकी कविताएं और ग़ज़लें पाठकों की भी पसंद बनती रही हैं। पिछले माह दूसरे स्थान पर धर्मेंद्र की गज़ल प्रकाशित हुई थी। तो इस बार उनकी प्रस्तुत कविता ने चौथा मुकाम हासिल किया है। प्रस्तुत कविता इंद्रियों और दिमाग के अंतर्संबंध के इशारे से हमारी सामाजिक व्यवस्था के इतिहास की सच्चाई बयाँ करने की कोशिश करती है।


पुरस्कृत कविता: इंद्रियाँ और दिमाग़

इंद्रियाँ तो कठपुतलियाँ हैं
सबसे ऊपर बैठे दिमाग़ की
उसी के इशारों पर नाचती हैं
इंद्रियों को तो पता भी नहीं होता
कि वो आखिर कर क्या रही हैं
आवश्यकता से अधिक सुख सुविधाएँ
जिन्हें वो गलत तरीके से इकट्ठा कर रही हैं
उन्हें या तो निकम्मा बना देंगी
या रोगी
और अगर पकड़ी गईं
तो सारी सजा मिलेगी इंद्रियों को
बलि की बकरियाँ हैं इंद्रियाँ।

इंद्रियाँ करें भी तो क्या करें
आदिकाल से
नियम ही ऐसे बनते आये हैं
जिससे सारी सजा इंद्रियों को ही मिले,
हर देवता, हर महात्मा ने
हमेशा यही कहा है
कि इंद्रियों पर नियंत्रण रखो
दिमाग़ की तरफ़ तो
कभी भूल कर भी उँगली नहीं उठाई गई
कैसे उठाई जाती
उँगली भी तो आखिरकार
दिमाग़ के नियंत्रण में थी।

मगर कलियुग आने का
पुराने नियमों से विश्वास उठने का
एक फायदा तो हुआ है
अब यदा कदा कोई कोई
उँगली दिमाग़ की तरफ भी उठने लगी है,
ज्यादातर तो तोड़ दी जाती हैं
या जहर फैल जाएगा कहकर काट दी जाती हैं
मगर क्या करे दिमाग़
अनिश्चितता का सिद्धांत तो वो भी नहीं बदल सकता
कि उठने वाली हर उँगली तोड़ी नहीं जा सकती,
कोई न कोई उँगली बची रह ही जाएगी
तथा उस उँगली की सफलता को देखकर
उसके साथ और भी उँगलियाँ उठ खड़ी होंगी,
अन्ततः दिमाग को
उँगलियों की सम्मिलित शक्ति के सामने
सर झुकाना ही पड़ेगा
अपनी असीमित शक्ति का दुरुपयोग
रोकना ही पड़ेगा।
_____________________________________
पुरस्कार: हिंद-युग्म की ओर से पुस्तक।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 कविताप्रेमियों का कहना है :

Rachana का कहना है कि -

तथा उस उँगली की सफलता को देखकर
उसके साथ और भी उँगलियाँ उठ खड़ी होंगी,
अन्ततः दिमाग को
उँगलियों की सम्मिलित शक्ति के सामने
सर झुकाना ही पड़ेगा
अपनी असीमित शक्ति का दुरुपयोग
रोकना ही पड़ेगा।
jarur hoga aesa .dimag aur ungliyon ke madhyam se achchha vyang
badhai
saader
rachana

मीनाक्षी का कहना है कि -

कविता में इन्द्रियों और दिमाग़ का प्रयोग दिल पर असर करता है..प्रभावशाली रचना...

Anant Alok का कहना है कि -

मर्म स्पर्श करने वाली रचना |दूसरा स्थान हासिल करने के लिए बधाई |

‘सज्जन’ धर्मेन्द्र का कहना है कि -

रचना जी, मीनाक्षी जी और अनंत जी आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया।

Rahul Solanki का कहना है कि -

इन्द्रिया की जिसने अपने बस में करलिया उसने मानो जीवन जीत लिया हो | इन्द्रियों को वश में कर के इंसान पंत को प्राप्त हो सकता है | Talented India News App

Alijabrel का कहना है कि -

An interesting discussion is worth comment. I think that you should write more on this topic, it might not be a taboo subject but generally people are not enough to speak on such topics. To the next. Cheers

Click Here
Visit Web

Ilham Liya का कहना है कि -

There are some interesting points in time in this article but I don’t know if I see all of them center to heart. There is some validity but I will take hold opinion until I look into it further. Good article, thanks and we want more! Added to FeedBurner as well

Meuserlib.org
Information

bobby का कहना है कि -

After study a few of the blog posts on your website now, and I truly like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark website list and will be checking back soon. Pls check out my web site as well and let me know what you think.

Click Here
Visit Web

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)