फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, August 20, 2010

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम


प्रतियोगिता की नौवीं कविता मनोज वर्मा 'मनु' की है। मनोज पहली बार हिन्द-युग्म में शिरकत कर रहे हैं। मनोज वर्मा 'मनु' की रचनाएँ तमाम पत्र-पत्रिकाओं और कविता-संग्रहों में प्रकाशित होती रही हैं। बीएससी तक की पढ़ाई पूरी कर चुके मनु गीत, ग़ज़ल, मुक्तक, दोहे, कहानी, संस्मरण इत्यादि लिखते हैं।

पुरस्कृत कविता- ग़ज़ल

आपकी याद चली आई थी कल शाम के बाद।
और फिर हो गई एक ताज़ा ग़ज़ल शाम के बाद।।

मेरी बेख़्वाब निग़ाहों की अज़ीयत मत पूछ।
अपना पहलू मेरे पहलू से बदल शाम के बाद।।

मसअला मेज पे ये सोचके छोड़ आया हूँ।
अब न निकला तो निकल आयेगा हल शाम के बाद।।

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम।
तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम के बाद।।

छोड़ उन ख़ानाबदोशों का तज़्करा कैसा
जो तेरा शह्र ही देते हैं बदल शाम के बाद।।

कोई कांटा भी तो हो सकता है इनमें पिन्हा।
अपने पैरों से न फूलों को मसल शाम के बाद।।

पुरस्कार: विचार और संस्कृति की पत्रिका ’समयांतर’ की एक वर्ष की निःशुल्क सदस्यता।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

24 कविताप्रेमियों का कहना है :

निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम।
तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम के बाद।।

मनोज जी के इस एक शेर ने ही दीवाना बना दिया....हिंदयुग्म पर स्वागत...

M VERMA का कहना है कि -

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम।
तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम के बाद।।
बहुत खूब ... शानदार शेर
सभी शेर खूबसूरत

Deepali Sangwan का कहना है कि -

matle mein misra e saani se aek hata dijiye

मसअला मेज पे ये सोचके छोड़
आया हूँ।
bahut shaandar misra kaha yeh
अब न निकला तो निकल आयेगा हल शाम
के बाद।।

aur ek shaandaar sher

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम।
तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम
के बाद।।
outstanding..
Bahut khoob.

स्वप्निल कुमार 'आतिश' का कहना है कि -

badhiya ghazal hai sahab .hind yugm par swagat ..aur badhai....bas zara sa pech ad gaya hai ..wo ye hai ki jis sher ki tareef sabse jyada ho rahi hai ..usme maien kisi aur hee ghazal me kisi aur ke nam se4 padh ahai ...

shayar ka naam ..farhat abbas shaah...

ye raha link ...


http://www.urdupoetry.com/abbas04.html

neeche se doosra sher hai ....



..

ravi_journalist@yahoo.com का कहना है कि -

दिल तक उतर गई...आपकी लाईने क्या काम कर गईं

parveen kumar snehi का कहना है कि -
This comment has been removed by the author.
parveen kumar snehi का कहना है कि -

मसअला मेज पे ये सोचके छोड़ आया हूँ।
अब न निकला तो निकल आयेगा हल शाम के बाद।
ise main befikri to nahi kahunga..
shandaar...
badhaai

रानीविशाल का कहना है कि -

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम।
तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम के बाद।।
Bahut khubsurat sher...bahut shandaar gazal hai !

निखिल आनंद गिरि का कहना है कि -

आतिश जी का शुक्रिया...मनोज जी, जवाब दीजिए, ये शेर किसका है...
फरहत साहब की प्रोफाइल देखी है मैंने.....पुराने शायर मालूम पड़ते हैं....कुछ तो गड़बड़ है, नियंत्रक महोदय क्या कर रहे हैं.....हिंदयुग्म पर ऐसा पहली बार तो हुआ नहीं है....

himani का कहना है कि -

तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम के बाद।।
क्या बात है ...जैसे कई कहानियां कह दी एक ही पंक्ति में

himani का कहना है कि -

शब्दों का समां ऐसा बंधा कि एक एक लाइन ने दिल को छू लिया लेकिन जिस बारे में आतिश जी ने बात की है उसका स्पष्टीकरण देना बहुत जरुरी है।

himani का कहना है कि -

शब्दों का समां ऐसा बंधा कि एक एक लाइन ने दिल को छू लिया लेकिन जिस बारे में आतिश जी ने बात की है उसका स्पष्टीकरण देना बहुत जरुरी है।

sada का कहना है कि -

तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात के गम।
तू किसी रोज मेरे घर में निकल शाम के बाद।।

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

paraslim force का कहना है कि -

bhut hi accha likha ha

manu का कहना है कि -

itefaaq lag rahaa hai hamein...
do she'r ek jaise honaa.....

manu का कहना है कि -

मसअला मेज पे ये सोचके छोड़ आया हूँ
अब न निकला तो निकल आयेगा हल शाम के बाद


ऐसे शे'र का रचियता हमें नहीं लगता कि जान बूझकर कहीं से कोई शे'र उठाएगा...

Rajendra Swarnkar का कहना है कि -

मनोज वर्मा 'मनु' को अब तक जवाब दे देना चाहिए था , बल्कि स्वप्निल के लिखने के तुरंत बाद आ जाना चाहिए था ।

नेट पर साहित्यिक सामग्री को चौराहे पर पड़ी लावारिस वस्तु मानते हुए हथियाने के कई मा'मले अभी सामने आए हैं ।


- राजेन्द्र स्वर्णकार

Anonymous का कहना है कि -

Dear,
Atish JI , thanks to introduse me about Mr. Abbas, I had read those lines and I was realy very surpraised ,
And feel that unforchunetly that particular sher is same,
(ye such h ki mene abbas sahab ko abhi tak nhi pada tha, lekinis she`r ka ilham unhe phele hua islye is she`r pr unka huk hota h.)
kintu meri Is molik gajal me kai matle or kai she`r or bhi hn.
jese:-
"kr to aae hn mrasim ki pahal sham ke bad, dekhna ye h ki kya hal sham ke bad.
" tu nahi h to baharon me kasis keya ma'ne, kon dekhega ye ronak be'mahal sham ke bad.
" ek lamha bhi mira gham jo tu mehsus kare, ho na paegi tujhe rat sehel sham ke bad.
" tu h suraj teri fitrat se m bakif hu magar, tu bhi jata h behral pighal sham ke bad........ etc.
jabab me deri ka karan bhai ke navjat bete ka 4-5 dino se delhi me hospitalized hona raha.
aapi ki mohabbaton ka sukriya,

Anonymous का कहना है कि -

Dear,
Atish JI , thanks to introduse me about Mr. Abbas, I had read those lines and I was realy very surpraised ,
And feel that unforchunetly that particular sher is same,
(ye such h ki mene abbas sahab ko abhi tak nhi pada tha, lekinis she`r ka ilham unhe phele hua islye is she`r pr unka huk hota h.)
kintu meri Is molik gajal me kai matle or kai she`r or bhi hn.
jese:-
"kr to aae hn mrasim ki pahal sham ke bad, dekhna ye h ki niklega kya hal sham ke bad.
" tu nahi h to baharon me kasis keya ma'ne, kon dekhega ye ronak be'mahal sham ke bad.
" ek lamha bhi mira gham jo tu mehsus kare, ho na paegi tujhe rat sehel sham ke bad.
" tu h suraj teri fitrat se m bakif hu magar, tu bhi jata h behrhal pighal sham ke bad........ etc.
jabab me deri ka karan bhai ke navjat bete ka 4-5 dino se delhi me hospitalized hona raha.
aapi ki mohabbaton ka sukriya,

animesh का कहना है कि -

दिल तक उतर गई...आपकी लाईने


बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना

Anonymous का कहना है कि -

Wow this is a great resource.. I’m enjoying it.. good article

raybanoutlet001 का कहना है कि -

michael kors handbags
air jordan uk
nike blazer
michael kors handbags
michael kors handbags
michael kors handbags wholesale
michael kors handbags clearance
ralph lauren
michael kors uk
fitflops

raybanoutlet001 का कहना है कि -

raiders jerseys
pandora jewelry
ed hardy uk
mont blanc pens
nhl jerseys
hermes belts
ray ban sunglasses
abercrombie and fitch kids
ralph lauren outlet
los angeles clippers jerseys

raybanoutlet001 का कहना है कि -

michael kors handbags clearance
nike blazer pas cher
michael kors handbags
patriots jerseys
yeezy boost 350 black
michael kors outlet store
red valentino
adidas nmd r1
longchamp bags
nike air huarache

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)