फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, April 16, 2010

इश्क उस से ही किया जाता है...........


मुहब्बत में जो खता होती है
उसकी खुशबू ही जुदा होती है

इश्क उस से ही किया जाता है
जिस से उम्मीदे वफ़ा होती है

मौत से जिस्म ही नहीं मरता
दिल से धड़कन भी जुदा होती है

सब्र करने से पता चलता है
दर्दे दिल की भी दवा होती है

उसकी कुदरत में एक शय है जो
मेरी चाहत पे फ़ना होती है

मौत ही है कि जो नहीं आती
जिन्दगी रोज़ खफा होती है

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

15 कविताप्रेमियों का कहना है :

Imran Ahmed का कहना है कि -

Arun bhai Mujhe ye nahi pata chal pa raha hai ki ye kavita apne likhi hai. Ya is kavita ko mai nahi samajh paa raha hoo.

इश्क उस से ही किया जाता है
जिस से उम्मीदे वफ़ा होती है
Isqk kiya nahi jata ho jata hai. Aur jab hota hai, chahe wo dharm, jaati, samaj ke khilaf kyu na ho. Soch ke business hoti hai na ka ISQK.


मौत से जिस्म ही नहीं मरता
दिल से धड़कन भी जुदा होती है

It is very ordinary.

मुहब्बत में जो खता होती है
उसकी खुशबू ही जुदा होती है


Please this is all old material pls write smthing new ans all

दीपक 'मशाल' का कहना है कि -

Maaf karna dost Imran bhai se main bhi ittefaq rakhta hoon..
मौत ही है कि जो नहीं आती
जिन्दगी रोज़ खफा होती है
ye sher achchha laga.

M VERMA का कहना है कि -

सब्र करने से पता चलता है
दर्दे दिल की भी दवा होती है
@ Imran Ahmad
इतना लम्बा कमेंट यह कहने के लिये कि Please this is all old material pls write smthing new ans all.
साहित्य में कही हर बात 'ओल्ड' ही होती है. उसे नये तरीके से हम न जाने कितनी बार पुनर्प्रस्तुत करते रहते है.

सुन्दर रचना अच्छी गज़ल

rachana का कहना है कि -

मौत ही है कि जो नहीं आती
जिन्दगी रोज़ खफा होती है
kya sunder baat
सब्र करने से पता चलता है
दर्दे दिल की भी दवा होती है
sahi kaha aap ne
sunder gazal
rachana

वाणी गीत का कहना है कि -

इश्क उस से ही किया जाता है
जिस से उम्मीदे वफ़ा होती है
उम्मीदे वफ़ा बनी रहे ...

सब्र करने से पता चलता है
दर्दे दिल की भी दवा होती है..
सब्र भी कायम रहे ..
अच्छी कविता ...!!

विमल कुमार हेडा का कहना है कि -

अगर कही किसी को ओल्ड नजर आ रहा है तो भी OLD IS GOLD
सब्र करने से पता चलता है
दर्दे दिल की भी दवा होती है
रचना अच्छी लगी बधाई, धन्यवाद
विमल कुमार हेडा

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

इश्क उस से ही किया जाता है
जिस से उम्मीदे वफ़ा होती है

मुझे तो बहुत अच्छी लगी यह ग़ज़ल...बधाई देना चाहूँगा

kavyanchal का कहना है कि -

अरुण जी!
…इस ग़ज़ल की ख़ुश्बू ही ज़ुदा मिली, इसलिये इसको काव्यांचल डॉट कॉम पर प्रकाखित कर दिया गया है।

डॉ टी एस दराल का कहना है कि -

सब्र करने से पता चलता है
दर्दे दिल की भी दवा होती है

यह शेर बढ़िया लगा ।

इश्क उस से ही किया जाता है
जिस से उम्मीदे वफ़ा होती है

इससे असहमत ।
लेकिन अच्छा प्रयास है।

naturallysaint का कहना है कि -

gazal mein kuch naya nahin milta, syaahi yoon roz tabah hoti hai!

:D pyaar

Mrinal Verma का कहना है कि -

Sir, I really appreciate ur work in this area...n the words you are using is very touchy...kahin naa kahin log apni life ko isme jaroor dekhenge...specially wo group jo kahin naa kahin life k bot saare mod dekh chuka hai...

prerna का कहना है कि -

Excellent Sir, Your work is realy appreciable. Words u have used realy touch the core of heart. realy nice.

It must have been vry difficult to think and write, i men i think so............ relay difficult. Vry nic.

Deepali Sangwan का कहना है कि -

मौत ही है कि जो नहीं आती
जिन्दगी रोज़ खफा होती है

kya baat hai..
acchi gazal hai,
aur jahan tak log ise purane khayal kahenge to main kahungi

""sirf andaaz e bayan baat badal deta hai,
warna duniya mein koi baat nayi bat nahi ...!!""

aapki gazal acchi hui hai.. aage bhi accha kehte rahiye.
badhai

himani का कहना है कि -

जिंदगी रोज खफा होती है..सच ही कहा अब तो लगता है कि उम्मीद करना ही बेमानी है शायद उम्मीद ही बेवफा होती है

Sohan Chauhan का कहना है कि -

मौत ही है कि जो नहीं आती
जिन्दगी रोज़ खफा होती है !

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)