फटाफट (25 नई पोस्ट):

Saturday, October 31, 2009

ख़त्म होता महीना


कुछ आश्वासनों को जन्म देता है
घर का मालिक टाँगता है
हर ज़रूरत को
पहली तारीख की नोक पर
रख ले धर्य
पहली तारीख पर ला दूँगा दवा
रात भर खाँसती
माँ से बेटे ने कहा
बाबा पेट बहुत दुखता है
चूरन भी अब काम नहीं करता है
बिटिया मिलने वाली है तनखाह
बड़े डाक्टर को दिखा दूँगा
दर्द से तड़पती बेटी से पिता ने कहा
सुनो जी फट गई है मेरी धोती
पड़ौसी की नियत भी है खोटी
धन्नो लगा ले धोती में गांठ
जैसे-तैसे बचा ले अपनी लाज
चिथड़े में लिपटी बीवी से पति ने कहा
पहली तारीख की पहली किरण
उम्मीद में जला चूल्हा,
उम्मीद की बनी चाय
उम्मीद का दमन पकड़े हर शय मुस्काए
उम्मीद के कपड़े पहन,
सजा उम्मीद की चप्पल पैर में
उत्साह भरा निकला वो घर से
लौटा तो प्रश्न भरी आँखें
चिपक गईं उससे
देखत को भेली बाटत को चुरकुना
गरीब की तनखाह का यही हाल है होना
कुछ पैसे बनिए को दिए
कुछ मकान के किराये में गए
दोस्तों का उधार चुकाया
जो बचे वो ये रहे
बेबसी पिघल के गालों पर लुढ़क गई
माँ, धन्नो और बिटिया ने
अपनी ज़रूरतों की गठरी बांध
दुछत्ती पर डाल दी
वे जानती हैं कि इन्हें करना होगा
पुनः पहली तारीख का इंतज़ार

कवयित्री- रचना श्रीवास्तव

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 कविताप्रेमियों का कहना है :

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

रचना जी बहुत बढ़िया रचना समाज को आईना दिखती हुई और एक भरपूर संवेदना से निहित काव्य..
बहुत बढ़िया लगा ..बधाई

akhilesh का कहना है कि -

yeh savendanseelta hi hai jo doosre ki pristhitiyo ko mahsoos ker leti hai.

kaviyo ki samvedanseelta sachayee
likti rahegi.
badhayee

Shamikh Faraz का कहना है कि -

उम्मीद में जला चूल्हा,
उम्मीद की बनी चाय
उम्मीद का दमन पकड़े हर शय मुस्काए
उम्मीद के कपड़े पहन,
सजा उम्मीद की चप्पल पैर में
उत्साह भरा निकला वो घर से

रचना जी बहुत सुन्दरता के साथ आपने यह बात कहकर कविता को कवितामय बना दिया.

Dipak 'Mashal' का कहना है कि -

Aaj samaj ke gareeb tabke ke dard ko saamne lane wali aisi hi rachnaon ki jarurat hai.... agar aisi kavitayen aati rahin to samvedansheelta jinda rahegi, jisse ki in logon ke liye kuchh karne ka zazba bhi paida hoga... aapki is rachna ke aage nat mastak hoon.

Jai Hind

Kamal का कहना है कि -

रचना जी ,
लघुता की कथा को आपने कुशलता से ब्यापक बना दिया .
लूट कर लाने और कूट कर खाने वाले सामान्य समुदाय पर एक संवेदनशील एवं सराहनीय रचना .

कमल किशोर सिंह , न्यू यार्क .

M VERMA का कहना है कि -

सुन्दर रचना.
"माँ से बेटे ने कहा
बाबा पेट बहुत दुखता है
चूरन भी अब काम नहीं करता है"

मार्मिक एहसासो से ओतप्रोत

Devendra का कहना है कि -

देखत को भेली बांटत को चुरकुना
-----------------------------
माँ धन्नो और बिटिया ने अपनी जरूरतों की गठरी बांध दुछत्ती पर डाल दी
-----------------------------
इन पंक्तियों सेगरीब की उम्मीद और अभाव का मार्मिक चित्रण उभर कर सामने आता है।
--बधाई।

shyam1950 का कहना है कि -

देखत को भेली बाटत को चुरकुना
गरीब की तनखाह का यही हाल है होना
ye muflisi shayad is desh ki niyati ban chuki hai..samvedasheel kavi ise gahre tak mahsoos karta hai par kiya kya jaye ? mere mitr kavi maharaj krishan Santoshi ne bahut pahle ek pankti sunai thee-"ANDHAPAN IS DESH MEIN KOI ROG NAHIN EK DARSHAN HAI"
Ghar mein AAG lagi hui jaise samasya hai JANSANKHYA KI.. kya chunav se pahle ya chunav ke bad ya media ya koi aur is bare mein kusak bhi raha hai ? soubhgya se aap logon ke pas ek plateform hai ek site banani hogi jis par sirf aur siraf is ek mudde par bat ho ek shor paida ho charon taraf ki bhai AAg lagi hui hai ..isi tarh se har samasya ko lekar ek site banai jani chahiye ..shayad shayad koi tuka teer ban jaye..
aapki rachna bahut sundar kasi hui aur bhavpoorn hai .. achh lag raha hai aap sabke beech apne ko pana ..

Harihar का कहना है कि -

बेबसी पिघल के गालों पर लुढ़क गई
माँ, धन्नो और बिटिया ने
अपनी ज़रूरतों की गठरी बांध
दुछत्ती पर डाल दी
वे जानती हैं कि इन्हें करना होगा
पुनः पहली तारीख का इंतज़ार
दुखद स्थिति का बयान करती संवेदनशील कविता !

rachana का कहना है कि -

कविता पसंद करने के लिए और अपने विचार लिखने के लिए आप सभी का धन्यवाद .आप के विचारों का सदा ही मुझे इंतजार रहता है.आप के शब्द मेरे लिए बहुत खास होते हैं
.पुनः धन्यवाद
रचना

manu का कहना है कि -

इतने दिन बाद हिंद युग्म देखा है आज...
कुछ कवितायें गजलें भी पढ़ी हैं...
काफी दिन बाद आपको पढ़ा...बहुत अच्छा लगा.....

अपनी ज़रूरतों की गठरी बांध
दुछत्ती पर डाल दी
वे जानती हैं कि इन्हें करना होगा
पुनः पहली तारीख का इंतज़ार

बहुत ही बेहतर अंत...

Safarchand का कहना है कि -

bahut praudh, samvedansheel aur yatharthvadi rachna hai ye Rachnaji ki. Kaviyatrii ke paas drtishti aur abhiyakti samarthya dono hain. Badhai Rachnaa ji. Nazar naa lage,maine jeevan bhar pahlii tariikh ka sukh-dukh bhooga hai. Ek pakh rah gaya,..jaise mukadme ki tareekhein padtii hain waise hi museebatoon ki bhi tariikh hotii hai pahlii tariikh...
Barambaar badhaii, iss sunder, saadi aur prabhavshalii kavitaa ke liye.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)