फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, February 13, 2009

तुम जो काट चुके हो वो सर तो मिलें


तुम्हारी यादों से बने वो घर तो मिलें
मैं इन्हें तोड़ दूँ पर पत्थर तो मिलें

आए रावण तेरी लंका नहीं तो नहीं सही
कम से कम भेजे हुए बंदर तो मिलें

मैं इन लोगों को अब कैसे पहचानूंगा
तुम जो काट चुके हो वो सर तो मिलें

माना के ये तुझे रोक नहीं पाए
टूटे हुए ही सही वो लंगर तो मिलें

कश्तियों से भी सच उगलवा लेंगे
रेत में धँसे वो समंदर तो मिलें

--पराग अग्रवाल

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

Anonymous का कहना है कि -

गर है तुकांत कविता तो यूँ ही पढ़ लेंगे
मगर है ये गजल तो इसमें बहर तो मिले ...........

sumit का कहना है कि -

काफी समय बाद दिखे पराग भाई,

गज़ल बहुत ही अच्छी लगी, हर शे'र बढिया है, पर 1,3 और 4 का जवाब नही

बहुत मजा आया गज़ल पढकर, बहर की जानकारी नही है पर ये रचना लय मे लग रही है इसलिए गज़ल कहा

sumit का कहना है कि -

काफी समय बाद दिखे पराग भाई,

गज़ल बहुत ही अच्छी लगी, हर शे'र बढिया है, पर 1,3 और 4 का जवाब नही

बहुत मजा आया गज़ल पढकर, बहर की जानकारी नही है पर ये रचना लय मे लग रही है इसलिए गज़ल कहा

neelam का कहना है कि -

तुम्हारी यादों से बने वो घर तो मिलें
मैं इन्हें तोड़ दूँ पर पत्थर तो मिलें

बढ़िया लगी

आलोक सिंह "साहिल" का कहना है कि -

अच्छी ग़ज़ल..पराग जी.......तीसरा शेर पसंद आया.......
आलोक सिंह "साहिल"

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

शेर अच्छे हैं |
भाव भी अच्छे हैं | बहर आदि नियमों के पैमाने पर तो जानकार ही बता सकते हैं कि कितनी खरी ग़ज़ल है |

बधाई |

-- अवनीश तिवारी

sangeeta का कहना है कि -

पराग ,
अच्छी रचना ,
तुम्हारी यादों से बने वो घर तो मिलें
मैं इन्हें तोड़ दूँ पर पत्थर तो मिलें
पसंद आया.

बधाई

तपन शर्मा का कहना है कि -

पराग आये महीनों बाद, पर आये तो सही
गज़ल बे-बहर है तो, कोई फर्क पड़ता नहीं

पहला तीसरा आये पसंद, पर नहीं थी कुछ सधी
आगे भी आपको पढ़ेंगे, ये उम्मीद कुछ बँधी

rachana का कहना है कि -

कश्तियों से भी सच उगलवा लेंगे
रेत में धँसे वो समंदर तो मिलें
अच्छा लगा
रचना

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)