फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, January 19, 2009

अन्तर्मन


जीवन में दूसरों के
झाँकने का सुख
असीम है
ख़ुद को बाहर रख
घर में
औरों का घुसना
कितना सरल है
बेटी भाग गई
बेटे ने घर छोड़ा
बाप को प्रीत पराई लगी
ये प्रपंच
अक्षुण आन्नद देता है
स्वान्तः सुखाय
चितार्थ करती
पर निंदा
के अनमोल पलों को
मैंने भी भोगा है
पराई गलियों में,
भटकते-भटकते
स्वयं में भटकी जो एक रोज़
अंत विहीन वीरानगी,
घटा घोप स्याह अन्धकार के अलावा
कुछ भी दृष्टिगत् न हुआ
कुछ आगे बढ़ी तो
एक छोटे से प्रकाश से
आशा बंधी
पर वो भी आ रहा था
बगल के घर से
मेरा कहीं कुछ नहीं था
दर्द के झुंड
पाप के पौधे
गर्द,धुंध
कितना दूषित था
वातावरण मेरे भीतर
गा रहा था एक फ़कीर
"जो दिल देखा आपना
मुझसे बुरा न कोय "
मन गागर छलकी
पश्चाताप के मोती बिखरे
और अन्तर्मन उज्जवलित हो गया

यूनिकवयित्री- रचना श्रीवास्तव

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

18 कविताप्रेमियों का कहना है :

manu का कहना है कि -

पश्चाताप के मोटी बिखरे ....और अंतर्मन प्रज्ज्वाल्लित हो गया.........
बहुत अच्छी कविता लगी पहली नज़र में तो ...शायद दुबारा पढ़ कर ...दोबारा कुछ कहूं...

Nirmla Kapila का कहना है कि -

बहुत सुन्दरता से शब्दों के मोतिओं को पिरोया है बधाई

Jimmy का कहना है कि -

bouth he aacha post kiyaa aapne read ker ki aacha laga


Site Update Daily Visit Now And Register

Link Forward 2 All Friends

shayari,jokes,recipes and much more so visit

copy link's
http://www.discobhangra.com/shayari/

mamta का कहना है कि -

दिल को छू गई आपकी ये रचना ।

neelam का कहना है कि -

पश्चाताप के मोती बिखरे
और अन्तर्मन उज्जवलित हो गया

बस यही है जीवन का विस्तार ,अनुपम

vikram7 का कहना है कि -

यर्थात को झलकाती सुन्दर रचना , वधाई

तपन शर्मा का कहना है कि -

सुंदर रचना...

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

रचना जी ,
आपकी रचना अच्छी है |
यह गहरी है और कम शब्दों वाली भी है |
लेकिन ऐसी मजबूत रचना में मेरे जैसे कमजोर पाठकों को पहली बार में ही समझ नही आती |
बधाई |

अवनीश तिवारी

शोभा का कहना है कि -

जीवन में दूसरों के
झाँकने का सुख
असीम है
ख़ुद को बाहर रख
घर में
औरों का घुसना
कितना सरल है
बेटी भाग गई
बेटे ने घर छोड़ा
बाप को प्रीत पराई लगी
ये प्रपंच
अक्षुण आन्नद देता है
बहुत सुन्दरता से शब्दों के मोतिओं को पिरोया है बधाई

आलोक सिंह "साहिल" का कहना है कि -

RACHNA JI AAPKI RACHNA bahut hi prabhavi lagi..
ALOK SINGH "SAHIL"

rachana का कहना है कि -

कभी कभी तो लगता है मेरा कुछ भी नही है आप सभी का प्यार है जो कविता ह्रदय से निकल शब्दों में ढल कागज़ पर उतर आती है और हिंद युग्म के मंच पर चढ़ के आप सब का सानिध्य और प्रेम पाने को मचल जाती है .
दिल की गहराइयों से धन्यवाद इन अमूल्य शब्दों का
आप सभी की आभारी
रचना

संगीता पुरी का कहना है कि -

बहुत सुंदर रचना...।

विपुल का कहना है कि -

अच्छी रचना

"जो दिल देखा आपना
मुझसे बुरा न कोय "

इन्ही पंक्तियों मे सब कुछ था

manu का कहना है कि -

पहले बेहद जल्दी में था.....सो अब दुबारा आया हूँ ...
वाकई में जिन बातों को दूसरे के जीवन में देखकर हम चटखारे लेते हैं वो ही हम पर बीते तो क्या गुजरती है.......और जब ख़ुद में झाँकने के बाद अगर वाकई आंसू निकल आयें तो वो रोना ..हंसने से लाख गुना बेहतर होता है ...सब धो देते हैं वो आंसू.....
बहुत अच्छे ढंग से कविता अदा की है आपने...

सीमा सचदेव का कहना है कि -

रचना जी आपकी रचना बहुत प्रभावशाली है | च्च है न हम दूसरो की बातें
सुनने में कितने मोहित हो उठते है लेकिन जब स्वय पर
बीते तो अहसास होता है | औ ये आंसू.......क्या सौगात
है न हर मौके पर साथ निभाते है |मुझे दो पंक्तियाँ याद आ रही
है :- आंसू से भरने पर आँखें और चमकने लगती है
सुरभित हो उठता समीर जब कलियाँ झरने लगती है
सुन्दर रचना के लिए बधाई.....सीमा सचदेव

richa,singapore का कहना है कि -

Jab doosron pe beetti hai to sun ke ek news lagti hai jab khud pe ati hai to ghatna ban jati hai..agar yeh fark mit jaye to doosron ka dard hum khud mein mehsoos karen to shayd yeh prapanch khatm ho jaye. Shayad aapki rachna ke madhyam se hum sab yeh samajh payen.
Aaj humen aise hi man ko chu lene wali rachnao ki aur rachan ji apki zarurat hai. Bahut achche

अमिता का कहना है कि -

रचना जी बहुत सुंदर शब्दों मैं जीवन का सार बता दिया सुंदर कविता के लिए बधाई अमिता

Safarchand का कहना है कि -

Rachna ji ko Anarman se parichaya hone ki badhaii. Iss umra mein aisee gambheer aur hindustani 'panghat' ki gupshup ke beech Antarman dikhaa, to dekhne wale kii jai ho !
Do cheezein antarman se seedhaa sampark karaatii hain---ek 'Pachaataap', aur doosra "Kritagyataa".
Badhai Rachna jii...ab apne ko kos rahaa hoon ki ye kavitayein pahele kyon nahii padhii.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)