फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, November 26, 2008

****** तेरा सलोना बदन


तसुव्वरात में लाऊँ तेरा सलोना बदन
कहो मै कैसे भुलाऊँ तेरा सलोना बदन

मगन यूँ होके तुझे मैं निहारूँ, मेरे बलम
पलक-झपक मैं छुपाऊँ तेरा सलोना बदन

नयन तेरे हैं ये मस्ती के प्याले मेरी प्रिया
मैं दिल में अपने बसाऊँ तेरा सलोना बदन

ढलकती-सी तेरी पलकें, ये बांकपन तेरा
नजर से जग की बचाऊँ तेरा सलोना बदन

किताब है ये ग़ज़ल की, कि है ये राग यमन
किसी को मै न सुनाऊँ तेरा सलोना बदन

बड़े कुटिल हैं इरादे जनाब ‘श्याम’ के तो
भला मैं कैसे बचाऊँ तेरा सलोना बदन

मफ़ाइलुन. फ़इलातुन मफ़ाइलुन फ़ेलुन

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कविताप्रेमियों का कहना है :

manu का कहना है कि -

बा-बहर...अच्छी ग़ज़ल..

manu का कहना है कि -

अब एक ठिठोली, बस मुझे एनी माउस की तरह न लें .................................. हर कोई मक्ता ग़ज़ल की जान बन जाता नहीं, ये तक्ख्ल्लुस "बे-तक्ख्ल्लुस" को समझ आता नहीं.

sahil का कहना है कि -

laajwab gajal sir ji,maja aa gaya.
ALOK SINGH "SAHIL"

rachana का कहना है कि -

किताब है ये ग़ज़ल की, कि है ये राग यमन
किसी को मै न सुनाऊँ तेरा सलोना बदन
ये बहुत ही प्यारा लगा अच्छा लिखा है आपने
सादर
रचना

तपन शर्मा का कहना है कि -

किताब है ये ग़ज़ल की, कि है ये राग यमन
किसी को मै न सुनाऊँ तेरा सलोना बदन..

अच्छा लिखा श्याम जी... ब

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)