फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, August 27, 2008

जीवन गान गाओ !


जीवन जल रहा है, क्यों सिसकी भर रहा है,
आग उगल रहा है, दावानल बन रहा है ।

मेघा बरस जाओ ! तप्त उर को हर्षाओ,
जीवन गान गाओ, विश्व की तपन मिटाओ ।

गरल निकल रहा है, जगत में फैल रहा है,
विष पीने को विवश, इंसान भटक रहा है ।

मन मंथन कराओ, दिलों में सुधा बहाओ,
जीवन गान गाओ, मनुज को राह दिखाओ ।

तम में घिर गया है, आलोक कहीं छिपा है,
सूझता न किसी को, अंतहीन यह विभा है ।

दिलों में दीप जला, रोशनी से नहलाओ,
जीवन गान गाओ, पथ प्रकाश से सजाओ ।

गंध भूल गया है, इंसान बहक गया है,
पुष्प भूल गया है, सिर्फ धन महक रहा है ।

फूलों को खिलाओ, जग में गंध बिखराओ,
जीवन गान गाओ, मन में खुशबू बसाओ ।

दुख स्थाई बना है, सुख वंचित हो गया है,
दुखों के सागर में, लगा डुबकियां रहा है ।

न रह पाएंगे दुख, तुम जिंदगी को जीओ,
जीवन गान गाओ, खुशियां खूब बिखराओ ।

शैतान हृदय छुपा, भगवान मूर्ति बना है,
मूर्ति कहाँ बोलती, दूसरों को डसना है ।

रब को दिल बसाओ, खुदी का सबब मिटाओ,
जीवन गान गाओ, खुदा को भी पा जाओ ।

कवि कुलवंत सिंह

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 कविताप्रेमियों का कहना है :

रज़िया "राज़" का कहना है कि -

क्या खूब लिख़ा है, सर आपने! बधाइ स्वीकारें।

sahil का कहना है कि -

खासा अच्छा लगा.पर आपसे और अधिक कसाव की उम्मीद थी.
आलोक सिंह "साहिल"

तपन शर्मा का कहना है कि -

कुलवंत जी,
हर दो पंक्तियों को अलग अलग पढ़ें तो अच्छी लग रही हैं.. पर एक साथ पढ़ने पर उतना मजा नहीं आ रहा जितना आपसे उम्मीद रहती है...

--तपन शर्मा

diya22 का कहना है कि -

वाकई में प्रत्येक दो पंक्ति अपने में पूर्ण अर्थ रखती है.और उत्साहवर्द्धक है.

diya22 का कहना है कि -

वाकई में प्रत्येक दो पंक्ति अपने में पूर्ण अर्थ रखती है.और उत्साहवर्द्धक है.

tanha kavi का कहना है कि -

शब्द अच्छे हैं, भाव ठीक है, परंतु कविता एक स्तर की नहीं हो सकी है। आपसे बहुत उम्मीदें हैं। कृप्या ध्यान रखें।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

Kavi Kulwant का कहना है कि -

Aap sabhi mitron kaa haardik dhanyavaad...

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)