फटाफट (25 नई पोस्ट):

Tuesday, July 15, 2008

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से


यूं तो
अधिकार तनिक नहीं
फ़िर भी
सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से

किस संकल्प हेतू
ढोया तुमने
यह एकेलापन
स्वपनों का होम कर
प्रतिकार में हाथ जलाये

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से

क्या है जिसे
उर उमंग बना
हंस लेती हो
किस तरह
रेत के सपाट तल पर
भावनाओं की
नाव खेती हो

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से


क्यों नैनों के द्वार पर
लगा पलकों का पहरा है
कौन राज
ह्र्दय में
पैठ मारे गहरा है

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से


किंचित फ़ूलों का मौसम
अभी नहीं बीता है
अंकुर बिम्बों का
आज भी जीता है
हरित है
चाहे पलाश नहीं
जीवन्त राहे हैं
भविष्य की सोच कर
वर्तमान हताश नहीं

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

13 कविताप्रेमियों का कहना है :

रंजना [रंजू भाटिया] का कहना है कि -

किंचित फ़ूलों का मौसम
अभी नहीं बीता है
अंकुर बिम्बों का
आज भी जीता है
हरित है
चाहे पलाश नहीं
जीवन्त राहे हैं
भविष्य की सोच कर
वर्तमान हताश नहीं

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से

बहुत बहुत खुबसूरत लगी आपकी यह रचना .

sahil का कहना है कि -

sahilबहुत ही sunder कविता
आलोक सिंह "साहिल"

देवेन्द्र कुमार मिश्रा का कहना है कि -

क्यों नैनों के द्वार पर
लगा पलकों का पहरा है
कौन राज
ह्र्दय में
पैठ मारे गहरा है
कविता बहुत खुबसूरत लगी

शोभा का कहना है कि -

मोहिन्दर जी
बहुत सुन्दर लिखा है-
किंचित फ़ूलों का मौसम
अभी नहीं बीता है
अंकुर बिम्बों का
आज भी जीता है
हरित है
चाहे पलाश नहीं
जीवन्त राहे हैं
भविष्य की सोच कर
वर्तमान हताश नहीं
अब आप पूछ ही लीजिए।

Smart Indian का कहना है कि -

"किस तरह
रेत के सपाट तल पर
भावनाओं की
नाव खेती हो"

बहुत सुंदर.

BRAHMA NATH TRIPATHI का कहना है कि -

बहुत अच्छी अभिव्यक्ति मोहिंदर जी

क्यों नैनों के द्वार पर
लगा पलकों का पहरा है
कौन राज
ह्र्दय में
पैठ मारे गहरा है

बहुत ही सुंदर

राष्ट्रप्रेमी का कहना है कि -

किंचित फ़ूलों का मौसम
अभी नहीं बीता है
अंकुर बिम्बों का
आज भी जीता है
हरित है
चाहे पलाश नहीं
जीवन्त राहे हैं
भविष्य की सोच कर
वर्तमान हताश नहीं

सोचता हूं कि पूछ ही लूं तुम से

मोहिन्द्रजी बहुत अच्छा किन्तु हम सोचते ही रह जाते हैं और जीवन्त राहों पर आगे नहीं बढ पाते.

devendra का कहना है कि -

दूसरों के दर्द को महसूस करते हुए भी कुछ न कह पाने की विवशता----और अंतिम पंक्तियों में -----किंचित फूलों का मौसम अभी नहीं बीता है ---लिखकर आशा का संचार ----वाह ! क्या बात है। --अच्छी लगी कविता।--देवेन्द्र पाण्डेय।

तपन शर्मा का कहना है कि -

क्या है जिसे
उर उमंग बना
हंस लेती हो
किस तरह
रेत के सपाट तल पर
भावनाओं की
नाव खेती हो

बहुत सुंदर...क्या बात है..

Shailesh Jamloki का कहना है कि -

मोहिंदर जी,
मुझे आपकी कविता समझने मै यहाँ कुछ परेशानी हुई

१) "स्वपनों का होम कर" का अर्थ समझ नहीं आया
२) "प्रतिकार मै हाथ जलाये " क्या होता है?

मुझे आपकी कविता के भाव तीन चार बार पढ़ कर समझ आये

मैंने ये समझा है की कवी किसी पूछ रहा है
की कैसे वो इतना बड़ा त्याग कर के हंस के, सुखी से रह रही है, किस प्राण की वजह से उसने ये त्याग किया? क्या है उसके दिल मै जो वो छुपा रही है,,,, और चेहरे पर वो भावः भी नहीं आने दे रही है..फिर कुछ अंत मै अपने आप ही उत्तर ढूंढ लेता है की "वो किसी उम्मीद के सहारे अछे होने के कामना से ये सब कुछ हंसी से जी रही है "

मोहिंदर जी मुझे सही करे अगर मै गलत समझा हूँ तो..

आप की कविता बस पाठको तक उसी तरह नहीं पहुच पति जिस तरह पहुचना चाहता है..

बाकी मैंने तो तीन बार पढ़ कर जो समझा उसका बहुत आनंद लिया

सादर
शैलेश

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

शैलेश जी,

लगता है आपने मन से कविता को पढा.
मैंने यह रचना एक ऐसी लडकी को ध्यान में रख कर लिखी है जो अपने जीवन के चार दशक पार कर चुकी है, अभी अविवाहित है.. कारण मालूम नहीं .. और हमेशा हंसती रहती है.

आपने इन पंक्तियों का अर्थ जानना चाहा है
) "स्वपनों का होम कर" का अर्थ समझ नहीं आया
२) "प्रतिकार मै हाथ जलाये " क्या होता है?

जब हम हवन करते हैं तो आहूती देते है.. घी, फ़ल, नवेद्य, जल या अन्य वस्तुओं की.. इसी को होम कहते हैं.. क्योंकि ज्वाला कभी कभी तीव्र होती है तो हाथों को आंच भी लग जाती है. एक मुहावरा भी है...होम करो और हाथ जलाओ.
स्वप्नों के होम से मेरा अर्थ है अपनी मनोभावनाओं का त्याग तुम किस लिये कर रही हो...

शायद अब मैं अपनी बात पाठकों तक पहुंचाने में सफ़ल हो सकूं

सजग पठन के लिये धन्यवाद

विपुल का कहना है कि -

मत पूछिए मोहिंदर जी ऐसा कोई भी सवाल जिसका जवाब देने में किसी को तकलीफ हो !

करण समस्तीपुरी का कहना है कि -

मोहिंदर जी,
रचना वस्तुतः उत्कृष्ट है ! किंतु मैं भी शैलेश जमलोकी जी से सहमति रखता हूँ ! आपके स्पष्टीकरण के बावजूद मुझे "प्रतिकार में हाथ जलाए" पर थोड़ा संदेह है ! प्रतिकार के स्थान पर किसी अन्य समानार्थक शब्द का उपयोग भावाभिव्यक्ति को आसान बना सकता था !!!
धन्यवाद !

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)