फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, August 15, 2007

मेरे तिरंगे प्यारे


नोट- प्रस्तुत रचना मेरी शुरुआती रचनाओं में से एक है। जोकि 15-12-1999 को लिखी गयी थी।
यह एक फिल्मी गाने की धुन पर आधारित है जो उसी दौरान प्रदर्शित हुई थी।


मेरे तिरंगे प्यारे जब तू लहराये,
सारा वतन झूमे सारा वतन गाये,
याल्ला-याल्ला बल्ले-बल्ले।
याल्ला-याल्ला बल्ले-बल्ले।

अपने झण्डे की इस जग में
अजब अनोखी शान है;
जान नहीं इस दिल में बसती
झण्डे में ही जान है।
इसके लिये क्या कुछ कर जाएँ
दिल में यही अरमान है।
लहरायेंगे फहरायेंगे दुनिया चाहे जल्ले-२।
याल्ला-याल्ला बल्ले-बल्ले।

हिन्दू मुस्लिम बाद में हैं हम
पहले हैं भारतवासी,
शीर्ष पे अपना वतन है यारों
बाद में है काबा काशी।
काम करो और नाम बढ़ाओ
हे जन-गण जीवन राशि।
भेद मिटा दो प्रेम बढ़ा लो
लग जाओ सब गल्ले गल्ले।

याल्ला-याल्ला बल्ले-बल्ले।
याल्ला-याल्ला बल्ले-बल्ले।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

15 कविताप्रेमियों का कहना है :

piyush का कहना है कि -

कविता अच्छी है............
भाव भी गहरे है परंतु प्रस्तुति करण ठीक नही बैठता.........
यदि पदयंत् कुछ और होता यल्ला यल्ला बल्ले बल्ले कि जगह तो कावित और सुंदर हो सकती थी
क्यूँकी इस ही कि टुक मिलने के चक्कर मे आपने अन्य पदयों का भी टुक बिगड़ दिया है जैसे
गल्ले गल्ले
तथा
जल्ले जल्ले
आदि

शुभकामनाएँ

piyush का कहना है कि -

क्षमा करे पंकज जी मै ने ये ना पड़ा कि यह कविता आपके शुरुआती दीनो कि है..........तथ किसी फ़िल्म से प्रेरित है.........
उस हिसाब से रचना अच्छी है क्यूँकी फ़िल्मो के गीत इस ही तरह के होते है .......
क्षमा करें........
धन्यवाद

shobha का कहना है कि -

कविता तो कुछ खास नहीं किन्तु आज के दिवस पर देश के बारे में जो
भी कहा जाए कम ही है । सभी देश के लोगो में देश भक्ति की भावना
रहे और राष्ट के लिए सर्वस्व समर्पण का इरादा हो तो अच्छा होगा ।
क्योंकि अगर देश है तो हम हैं , देश के स्वाभिमान से बड़ा कुछ भी नहीं ।

RAVI KANT का कहना है कि -

पंकज जी,
शुरुआती दिनों के हिसाब से तो ठिक है अन्यथा रचना कुछ ज्यादा प्रभावित नही करती। कथ्य में नयापन नही है।
’भेद मिटा दो प्रेम बढ़ा लो’ प्रासंगिक है।

तपन शर्मा का कहना है कि -

पंकज जी,
विचार अच्छे हैं, और चूँकि कविता शुरुआती दिनों की है तो उस हिसाब से अच्छी है।
तपन शर्मा

anuradha srivastav का कहना है कि -

पंकज जी जान कर अच्छा लगा कि ये आपके शुरुआती दिनों की कविता है ।
अन्तिम पंक्तियाँ छोड दी जाये तो कविता बहुत ही अच्छी है ।

विपिन चौहान "मन" का कहना है कि -

पंकज जी ..
गीत शुरुआती दिनों का है..
अच्छा है..
पढ कर मजा आया ...
पैरोडी ठीक बनाई है

Anonymous का कहना है कि -

:) ह्ह्ह्म्म्म्म अच्छा है

सुनील डोगरा ज़ालिम का कहना है कि -

मजा नहीं आया। शुरूआती दिन लिखना शायद सहानुभूति बन गई। परन्तु यह कविता जरा भी आकर्षक नहीं है पता नहीं कैसे आपका मन दसे हिन्द युग्म जैसे मंच पर डालने के लिए राजी हो गया।

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

सबसे बडी बात है राष्ट्रभक्ति का जज़्बा, जो कि इस रचना में कूट कूट कर भरा हुआ है।

Gaurav Shukla का कहना है कि -

अच्छी कविता है पंकज जी

बधाई

सस्नेह
गौरव शुक्ल

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

यदि याल्ला याल्ला बल्ले बल्ले से आप प्रेरित नहीं होते तो रचना का स्तर निश्चय ही बहुत बढ़ जाता।
जैसा कि सबने कहा, देशभक्ति से ओतप्रोत भाव हैं आपके।

गिरिराज जोशी का कहना है कि -

भाव अच्छे हैं, प्रस्तुतिकरण ठीक-ठाक... जिस माहौल में आपने यह रचना प्रकाशित की है, वहाँ केवल जय हिन्द ही लिखा हो तो भी बहुत अच्छा लगता है, आपकी रचना भी माहौल के अनुकूल है।

बधाई!!

रचना सागर का कहना है कि -

फिल्मी गीत अय्र पैरोडी भी तो एक विधा ही है। यह कविता इसी श्रेणी की है।

बब्ली का कहना है कि -

बहुत तल्खी के साथ कहना पड रहा है कि भारत में भजनों और देश्प्रेम की कविताओं के लिये पेरोडी का ही भरोसा है. ये कविता नहिं भडेंती है.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)