फटाफट (25 नई पोस्ट):

Tuesday, July 17, 2007

गठबंधन आशाओं से




यह् क्या खेल शुरू होने से पहले
तुमने पासे अपने डाल दिये हैं
तरकश भरा है तीरो से और
मन में असंख्य भ्रम पाल लिये हैं

क्या जब मानव धरा पर आया
थे सब सुख उसकी झोली में
क्या राहें पुष्पों से अटी पडीं थी
और राग थे उसकी बोली में

कुछ तो है अनन्त काल से
जो ईश्वर की रचना है
कुछ मानव की जोड तोड है
जो इस धरती पर अपना है

कितने सूरज हैं इस ब्रह्मांड में
फिर भी अन्धकार ही हावी है
यही विषय हम चुन लें तो
जीवन विशलेषण प्रभावी है

अन्धकार था तभी तो मानव ने
प्रकाश का अविष्कार किया
इसी धरा में जो छुपा हुआ था
उसी से इस धरती का श्रृगाँर किया

चाह मन में और दृढ संकल्प ही
हर कठिनाई में पूँजी है
आस विश्वास प्रचुर हो जीवन में
यही सफलता की कूँजी है

उचित दिशा में हो लक्ष्य निर्धारण
न शंका हो, बिना किसी कारण
कार्य एंव उर्जा का सही हो ज्ञान
सफलता निश्चित है ये लो जान

उठो, कितने कार्य अभी शेष हैं
चलो, राहें अभी साधनी होंगी
विषधर रिक्त चन्दन वन करने होंगे
त्याग निर्मूल शँकायें
आशाओं से गठबंधन करने होंगे

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

11 कविताप्रेमियों का कहना है :

सुनीता शानू का कहना है कि -

बहुत अच्छा लगा पढ़कर मन में आत्म विश्वास को पैदा करती आपकी रचना बेहद प्रभावी है...
इसे पढ़ कर बचपन की एक कविता याद आती है...
नर हो न निराश करो मन को
कुछ काम करो कुछ काम करो,
जग में रह कर कुछ नाम करो,
यह जन्म हुआ यूँ व्यर्थ ना हो,
कुछ तो उपयुक्त करो तन को,
नर हो न निराश करो मन को,
कुछ काम करो कुछ काम करो...

सुनीता(शानू)

Gaurav Shukla का कहना है कि -

मोहिन्दर जी,

आपने फिर अपने अनुभवों का सार कविता के माध्यम से सुना दिया, बहुत प्रेरक रचना है
पढ कर ही नयी ऊर्जा का संचार होता सा लगा|

"चाह मन में और दृढ संकल्प ही
हर कठिनाई में पूँजी है
आस विश्वास प्रचुर हो जीवन में
यही सफलता की कूँजी है"

मूलमन्त्र
बहुत सुन्दर

बधाई

सादर
गौरव शुक्ल

Kavi Kulwant का कहना है कि -

बहुत अच्छी कविता है.. मोहिंदर जी.. बधाई हो.
कवि कुलवंत

मनीष वंदेमातरम् का कहना है कि -

क्या जब मानव धरा पर आया
थे सब सुख उसकी झोली में
क्या राहें पुष्पों से अटी पडीं थी
और राग थे उसकी बोली में


आपकी कविता मन में आस जगाती है

सुन्दर कविता़

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

कविता नहीं यह तो जीवन-दर्शन हैं, आप तो दार्शनिक-कवि हैं।

अन्धकार था तभी तो मानव ने
प्रकाश का अविष्कार किया
इसी धरा में जो छुपा हुआ था
उसी से इस धरती का शृँगार किया

साथ ही साथ संदेश भी है (वीर रस से ओत-प्रोत)-

उठो, कितने कार्य अभी शेष हैं
चलो, राहें अभी साधनी होंगी
विषधर रिक्त चन्दन वन करने होंगे
त्याग निर्मूल शँकायें
आशाओं से गठबंधन करने होंगे

Seema Kumar का कहना है कि -

"अन्धकार था तभी तो मानव ने
प्रकाश का अविष्कार किया
इसी धरा में जो छुपा हुआ था
उसी से इस धरती का श्रृगाँर किया"

जीवन के अंधेरों में प्रकाश ढ़ूँढ़ने का संदेश देती है आपकी कविता ।

Anonymous का कहना है कि -

आशा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण है ये कविता.. अद्भुत..पहले राजीव जी की आशावादिता और अब मोहिन्दर जी प्रेरणा देने वाली एक बेजोड़ कृति। नई उम्मीदें जगाती है ये पंक्तियाँ। धन्यवाद मोहिन्दर जी।

Admin का कहना है कि -

अन्धकार था तभी तो मानव ने
प्रकाश का अविष्कार किया
इसी धरा में जो छुपा हुआ था
उसी से इस धरती का शृँगार किया

कविता सचमुच नहीं है। प्रेरणा है संघर्ष की शक्ति है।

बहुत बहुत बधाई।

Anonymous का कहना है कि -

:)

सही है। आशाओं से गठबंधन तो करना ही होगा। अच्छा दर्शन, बधाई!!!

विश्व दीपक का कहना है कि -

यह् क्या खेल शुरू होने से पहले
तुमने पासे अपने डाल दिये हैं

मोहिन्दर जी , मेरे विचार से आप इन दो पंक्तियों के बीच थोड़ा विराम डाल साकते थे।ऐसा इस रचना में मुझे कई जगह दीखा है। वैसे यह मेरा मत है। आप चाहें तो मेरे मत पर थोड़ा ध्यान दे सकते हैं। :)

यह तो शिल्प में मैं थोड़ा उलझ गया था, लेकिन भाव एवं बिंबों ने आपका स्थान मेरे सामने बहुत ऊपर कर दिया है। शैलेश जी सच हीं कहते हैं कि आप तो दार्शनिक कवि हैं। आपसे हमेशा कुछ न कुछ सीखने को मिलता रहता है।
अच्छी रचना के लिए बधाई स्वीकारें।

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

मोहिन्दर जी..
अस्वस्थता के कारण देर से प्रतिकृया दे रहा हूँ क्षमा करेंगे। आपकी कविताये आपके दर्शन को प्रस्तुत करती हैं।

कितने सूरज हैं इस ब्रह्मांड में
फिर भी अन्धकार ही हावी है
यही विषय हम चुन लें तो
जीवन विशलेषण प्रभावी है

और जो प्रकाश की किरणें आपकी हैं:

उठो, कितने कार्य अभी शेष हैं
चलो, राहें अभी साधनी होंगी
विषधर रिक्त चन्दन वन करने होंगे
त्याग निर्मूल शँकायें
आशाओं से गठबंधन करने होंगे

बहुत सुन्दर रचना।

*** राजीव रंजन प्रसाद

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)