फटाफट (25 नई पोस्ट):

Saturday, April 21, 2007

खुन्नस


ऐ जिंदगी कष्ट देगी मुझको कितना?
मैं भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना

डाल, डाल मुसिबतें तू चाहे जितनी
मैं समझूँगा सीढीयाँ हैं मेरी उतनी
उन्हीं को चढकर पाऊँगा मैं अपना सपना
मैं भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना

आज फिर मेरी खुन्नस है साथ तेरे
छोड़ आया हूँ कायरता के बोझ सारे
रोक सकेगा बढ़ने से अब कोई ना
मै भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना

तुषार जोशी, नागपुर

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

11 कविताप्रेमियों का कहना है :

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

तुषार जी..
बहुत ही सुन्दर आशावादी रचना है। विशेषकर खुन्नस शब्द का प्रयोग बहुत अच्छा बन पडा है।

*** राजीव रंजन प्रसाद

ranju का कहना है कि -

मैं समझूँगा सीढीयाँ हैं मेरी उतनी
उन्हीं को चढकर पाऊँगा मैं अपना सपना
मैं भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना

बहुत ख़ूब !!!

ajay का कहना है कि -

आशावादी सोच। तुषार जी आशा है कि आगे आपकी और बेहतर रचनाएं पढ़ने को मिलेंगी।

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

फ़िर से एक आशावादी कविता लाए हैं आप। बढ़िया है, विशेषरूप से इसका शीर्षक 'खुन्नस'

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

सुन्दर लिखा है
जीवन सिर्फ फूलोँ की सेज नहीँ, काँटोँ का ताज भी है
वैसे भी
जिन्दगी मेँ अगर आसानियाँ होँ जिन्दगी दुश्वार हो जाये

विकास कुमार का कहना है कि -

"डाल, डाल मुसिबतें तू चाहे जितनी
मैं समझूँगा सीढीयाँ हैं मेरी उतनी"

दिनकर जी की पन्क्तियां याद आ गयीं
'खम ठोक ठेलता है जब नर
पर्वत के जाते पाँव उखड़'

संघर्ष का निश्चय पसंद आया.

sunita (shanoo) का कहना है कि -

जिंदगी कष्ट देगी मुझको कितना?
मैं भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना
रोक सकेगा बढ़ने से अब कोई ना
मै भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना
बहुत सुंदर एवं आशावादी रचना है।
सुनीता(शानू)

गिरिराज जोशी "कविराज" का कहना है कि -

सुन्दर आशावादी रचना!

पंकज का कहना है कि -

रचना की आत्मा पवित्र है,
लेकिन अगर थोड़ी मेहनत और करते तो प्रवाह भी बेहतर हो सकता था।

"डाल, डाल मुसिबतें तू चाहे जितनी
मैं समझूँगा सीढ़ियाँ हैं मेरी उतनी
"
ज़िन्दगी जीने का ये नज़रिया कितना खूबसूरत है।
वाह।

sahil का कहना है कि -

उन्हीं को चढकर पाऊँगा मैं अपना सपना
मैं भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना

adamy urja का sanchar करती panktiyan. badhai हो
alok singh "sahil'

sahil का कहना है कि -

उन्हीं को चढकर पाऊँगा मैं अपना सपना
मैं भी निश्चय जीकर दिखला दूँगा अपना

adamy urja का sanchar करती panktiyan. badhai हो
alok singh "sahil'

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)