फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, May 11, 2011

नागार्जुनों सुनो


जुलाई 2009 के यूनिकवि रहे अखिलेश श्रीवास्तव हिंद-युग्म के लोकप्रिय कवियों मे रहे हैं। बदलते परिवेश मे जीवन की कठोर विडम्बनाएँ तीखे व्यंग्य की धार के साथ इनकी कविताओं मे मुखरित होती हैं। मार्च माह प्रतियोगिता की प्रस्तुत कविता के बहाने उनकी हिंद-युग्म पर लम्बे अंतराल के बाद दस्तक है, जिसे इस माह सातवाँ स्थान मिला है। इससे पहले उनकी एक कविता ’पिता’ अक्टूबर माह मे प्रकाशित हुई थी।

पुरस्कृत कविता: नागार्जुनों सुनो

पुलिसिया अट्टहासों के बीच
जब कुछ दबंग
उठा ले जाते है
मेरे निर्दोष पड़ोसी को,
मैं इसे ईश्वर का नैसर्गिक
न्याय करार देते हुए
कर देता हूँ
लाइट ऑफ
एंजाय करता हूँ नाइट।

मेरी संवेदना
लालगढ़ स्टेशन के पहले ही
चाय पीने उतर जाती है,
मैं नही चला पता कलम
जब लालगढ़ के लालों के
हाड़ों पर पुलिस
खून पोत कर लिख देती है क्रांति।
शायद इसलिए क्योकि
ख्यातिनाम पुरस्कारों/सम्मानों की
कमेटी में कोई भी
मार्क्सवादी कवि नही है।

मैं फाइल के बजट के दस प्रतिशत
की शर्त पर देशसेवा करता हूँ,
कमजोर और बूढ़ी नारियों को
मैं पुरूषों के समकक्ष मानता हूँ।
पर देशसेवा की शर्त
जवान लड़कियो के लिए कुछ कम है,
बशर्ते उनके डियो की खुशबू
मेरी लपलपाती जीभ को पसंद हो।

मैं खिखिया कर हँसता भी हूँ,
जब भरे चौराहे, बीच दुपहरिया
सूरज के बेटे
झटक देते है
जुगनुओं के दुपट्टे।

नागार्जुनो सुनो
मैं भी कवि हूँ
तुम्हारी अगली पीढ़ी का।
_____________________________
पुरस्कार: हिंद-युग्म की ओर से पुस्तकें।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 कविताप्रेमियों का कहना है :

Rachana का कहना है कि -

मेरी संवेदना
लालगढ़ स्टेशन के पहले ही
चाय पीने उतर जाती है,
SUNDER

सूरज के बेटे
झटक देते है
जुगनुओं के दुपट्टे।

नागार्जुनो सुनो
मैं भी कवि हूँ
तुम्हारी अगली पीढ़ी का।
BAHUT KHOOB KYA SOCH HAI BADHI
RACHANA

देवेन्द्र पाण्डेय का कहना है कि -

तीखी धार
दूर तक करती है मार।
..बधाई।

Disha का कहना है कि -

पुलिसिया अट्टहासों के बीच
जब कुछ दबंग
उठा ले जाते है
मेरे निर्दोष पड़ोसी को,
मैं इसे ईश्वर का नैसर्गिक
न्याय करार देते हुए
कर देता हूँ
लाइट ऑफ
एंजाय करता हूँ नाइट।


यही आज का सच है कि दूसरों की परेशानियों में हम अंधे-गूँगे और बहरे की भूमिका निभाते हैं और जब अपने पर बीतती है तो दहाड़ मार कर चिल्लाते हैं.।

RITESH का कहना है कि -

नागार्जुन जी के जनवादी आक्रोश को आवाज देता कवि सचमुच आप उनके अगली पीढ़ी के कवि है.
स्वागत हैं
जनवादी अभिव्यकि के लिए साधुवाद

लीना मल्होत्रा का कहना है कि -

prakhar. dhardar. aur hathode ki tarah chetna par prahar karti ek kavita. badhai.

شركة مكافحة حشرات بالرياض का कहना है कि -

شركة عزل خزانات بالرياض
شركة تنظيف اثاث بالرياض

شركة مكافحة حشرات بالمدينة المنورة
شركة جلي بلاط بالرياض
افضل شركة تنظيف شقق بالرياض
شركة نقل عفش بالرياض سوق مفتوح
شركة تنظيف الموكيت بالرياض
افضل شركة تنظيف مجالس بالرياض
شركة تنظيف مجالس بالرياض
شركة تنظيف مسابح بالرياض
شركة تنظيف منازل بالرياض

شركة مكافحة حشرات بالمدينة المنورة

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)