फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, February 10, 2010

कौन भला समझे अब दुख हाकिम का





झूठ  कभी  मुझको रास नहीं आया
सच सुनकर  कोई पास नहीं आया



कौन भला  समझे  अब दुख हाकिम का
 हुक्म बजाने  को   दास नहीं आया

भूखे पेट  सदा  सोये  हम   यारो
करना लेकिन उपवास नहीं आया

पाँव  बुजुर्गों  के  दाबे  हैं   हमने
यार हुनर यह अनायास नहीं आया

ईद  दिवाली    होली  त्यौहार गए 
अम्मा हिस्से अवकाश नहीं आया 

यार महाभारत बच जाता,करना
पाँचाली को उपहास नहीं आया

‘आम‘ सभी बिकते  हैं   बेभाव   यहाँ 
`श्याम `कभी बिकने ‘खास‘ नहीं आया

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

duniya me bahut kam hi log ek dusare ke dukh ko samajh paate hai...badhiya bhav....sundar rachana..badhai shyam ji

अमिताभ मीत का कहना है कि -

Bahut Badhiya Hai Bhai.

Anonymous का कहना है कि -

सच कहना मुझको रास नहीं आया
सुनकर सच कोई पास नहीं आया
सच हमेशा कडवा होता है, बहुत सुन्दर रचना श्यामजी को बहुत बहुत बधाई
धन्यवाद
विमल कुमार हेडा

kavi kulwant का कहना है कि -

wah shyam ji wah..

गीता पंडित (शमा) का कहना है कि -

हर शेर मन को भाया सखा जी....

आपकी रचनाओँ में भाषा और भाव का
सुंदर समावेश हमेशा ही देखने को मिला है.....आभार....


गीता पंडित

sumita का कहना है कि -

भूखे पेट सदा सोये हम यारो
करना लेकिन उपवास नहीं आया
गरीबो के दर्द को क्या सही तरीके से फ़रमाया है..बधाई शाम जी!

parmod का कहना है कि -

सीधे सादे शब्द लेकिन गहरी बात
ईद दिवाली होली त्यौहार गए
अम्मा हिस्से अवकाश नहीं आया
वाकई मां को क्ब अवकाश मिला है

rachana का कहना है कि -

ईद दिवाली होली त्यौहार गए
अम्मा हिस्से अवकाश नहीं आया
sahi kaha maa to bas kaam hi karti hai
सच कहना मुझको रास नहीं आया
सुनकर सच कोई पास नहीं आया
sach kaha aap ne
aap ki puri gazal hi sunder hai.
aap jo photo lagate hain vo bhi bahut achchhi hoti hai
saader
rachana

himani का कहना है कि -

भूखे पेट सदा सोये हम यारो
करना लेकिन उपवास नहीं आया
apke shabdo ne aas paas ki haqiqat ko behad sankshipt aur sadhe hue andaaj mein byan kiya hai padhkar lga jaise mai bhi to kitne dino se yehi kehna chah rahi thi..jab pathak apki rachna se itna jud jaye to samjhe ki rachna safal hui

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)