फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, August 20, 2009

गज़ल-श्याम सखा


उठ रहा कैसा दिल से धुआं देखिये
हो गया इश्क शायद जवां देखिये

आप ही आप बस आ रहे हैं नजर
शौक से अब तो चाहे जहां देखिये

बात अपनी भले ही पुरानी सही
आप बस मेरा तर्जे-बयां देखिये

रहबरों रहजनों में हुई दोस्ती
अब जो लुटने लगे कारवां देखिये

आपकी तो ये ठहरी अदा ही मगर
लुट गया अपना तो कुल जहां देखिये

शोर कैसा खुदाया !ये बस्ती में है
उठ रहा है ये कैसा धुआं?देखिये

खत्म होने को ही है ये दौरे-खिजां
अब आप रौनके-गुलिस्तां देखिये

गर ये ऐसी ही रफ्तार कायम रही
कुछ दिनों बाद हिन्दोस्तां देखिये

दुल्हने सुब्‌ह अब सो के उठने को है
अब जरा सूरते आसमां देखिये

जाने वाला तो कब का चला भी गया
पांव के सिर्फ बाकी निशां देखिये

गोपियां मुझसे गोकुल की हैं पूछतीं
श्याम’को अपने ढूंढे कहां देखिये

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

26 कविताप्रेमियों का कहना है :

Anonymous का कहना है कि -

आपके लिखने का अंदाज़ पसंद आया , बहुत अच्छा लिखा , बहुत बहुत बधाई
वीमल कुमार हेडा

Nirmla Kapila का कहना है कि -

आपकी गज़ल पढते हुये सोच रही थी कि किस किस गज़ल की तारीफ करूँ मगर हर शेर एक से बढ कर एक है\ लाजवाब गज़ल के लिये बहुत बहुत बधाई

AlbelaKhatri.com का कहना है कि -

shyaamji sakhaa saaheb,

mazaa hi aagaya

behtareen ghazai.........umdaa she'r....
waah !

अमिताभ मीत का कहना है कि -

बात अपनी भले ही पुरानी सही
आप बस मेरा तर्जे-बयां देखिये

जाने वाला तो कब का चला भी गया
पांव के सिर्फ बाकी निशां देखिये

bahut khoob bhai. bahut acchhe sher kahe haiN.

पी.सी.गोदियाल का कहना है कि -

गर ये ऐसी ही रफ्तार कायम रही
कुछ दिनों बाद हिन्दोस्तां देखिये

दुल्हने सुब्‌ह अब सो के उठने को है
अब जरा सूरते आसमां देखिये

जाने वाला तो कब का चला भी गया
पांव के सिर्फ बाकी निशां देखिये

गोपियां मुझसे गोकुल की हैं पूछतीं
श्याम’को अपने ढूंढे कहां देखिये

शब्द वाकई निराले पिरोये !

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

बात अपनी भले ही पुरानी सही
आप बस मेरा तर्जे-बयां देखिये

लाजवाब गज़ल!!!

neelam का कहना है कि -

खत्म होने को ही है ये दौरे-खिजां
अब आप रौनके-गुलिस्तां देखिये

गर ये ऐसी ही रफ्तार कायम रही
कुछ दिनों बाद हिन्दोस्तां देखिये

ye dono kuch jiyaadah hi man ko bhaaye .

ओम आर्य का कहना है कि -

उठ रहा कैसा दिल से धुआं देखिये
हो गया इश्क शायद जवां देखिये
वाह वाह ......क्या अन्दाजे व्यान है ......हम भी ळुट गये इस कविता पर जनाब

Harihar का कहना है कि -

खूब लड़ियों में पिरोये भाव सब
श्यामजी का अन्दाजे-बयां देखिये ।

बधाई श्यामजी

विनय ‘नज़र’ का कहना है कि -

बहुत उम्दा रचना है!
---
मानव मस्तिष्क पढ़ना संभव

Anonymous का कहना है कि -

aap ne bahut umda ghazal likhi hai

sada का कहना है कि -

जाने वाला तो कब का चला भी गया
पांव के सिर्फ बाकी निशां देखिये ।

बहुत ही लाजवाब प्रस्‍तुति, बधाई ।

Shamikh Faraz का कहना है कि -

श्याम जी बहुत ही खुबसूरत गज़ल.. यह शे'र बहुत ही सुन्दर लगे.

उठ रहा कैसा दिल से धुआं देखिये
हो गया इश्क शायद जवां देखिये

बात अपनी भले ही पुरानी सही
आप बस मेरा तर्जे-बयां देखिये

योगेन्द्र मौदगिल का कहना है कि -

BhaiSaheb....Behtreen GAZAL ke liye BADHAI swikaren.

Anonymous का कहना है कि -

where are you ? Italy me?

Gazal acchee lagee. But please make more effort still you are a kid

Manju Gupta का कहना है कि -

हमेशा की तरह सिद्ध हस्त ,लाजवाब गज़ल . बधाई .

anonymous no. 2 का कहना है कि -

By and large a good ghazal in traditional concept. You seem to have vindicated your earlier position.

manu का कहना है कि -

bahut khoobsoorat ghazal kahi hai shyaam ji...

har she'r laajwaab......!!!!!

श्याम सखा 'श्याम' का कहना है कि -

दोस्तो,आप सभी ने जिस तरह इस गज़ल को लपक कर अपनाया है मं अभिभूत व आभारी हूं
श्याम सखा श्याम

अर्चना तिवारी का कहना है कि -

खत्म होने को ही है ये दौरे-खिजां
अब आप रौनके-गुलिस्तां देखिये



वाह ! बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...

venus kesari का कहना है कि -

bahut khoob

venus kesari

shanno का कहना है कि -

श्याम जी,
क्या खूब लिखते हैं आप! बहुत ही सुंदर.

जाने वाला तो कब का चला भी गया
पांव के सिर्फ बाकी निशां देखिये.

shanno का कहना है कि -

श्याम जी,

ग़ज़ल के जादू में हम सब खो गये
अब आप टिप्पणी का मजा लीजिये.

Anonymous का कहना है कि -

bahut dino bad ek sundar gazal

kishor

श्याम सखा 'श्याम' का कहना है कि -

दोस्तो एक राज़ भी खोल दूं
यह योगेन्द्र मौदगिल मेरा छोटा भाई है,लेकिन गज़ल लेखन में मेरा सीनियर है,कमबख्त मुझसे बढिया गज़ल कहता है
श्याम सखा श्याम मौदगिल

shanno का कहना है कि -

तो.....श्याम जी, इस ग़ज़ल लेखन में योगेन्द्र जी का कितना.......हाथ है....(या नहीं)? Just joking. आप दोनों को ही बधाई.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)