फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, October 24, 2008

प्रतिध्वनि


दुख लौट आता है
जैसे लौट आती है प्रतिध्वनि

या कैसे कहूँ
कि हर प्रतिध्वनि में
लौटता है दुख ही

कि मैं जब भी हँसता हूँ
हँसी टकरा कर लौटती है
सिसकियों की आवाज़ में
लेता हूँ प्रियजनों का नाम
एक खोई हुई चाय की प्याली का नाम
पुकारता हूँ उस जगह का नाम
जहाँ से वाबस्ता हूँ मैं
कहीं से टकरा कर लौटती है मेरी आवाज़
सिसकियों की शक्ल में

यहाँ इसी दुनिया में कहीं न कहीं
कोई न कोई दीवार या गुफा या पहाड़ ज़रूर है
जिससे टकरा कर हर आवाज़
रुलाई में तब्दील हो जाती है

किसी को पता है इसके बारे में
मैं तोड़ना चाहता हूँ इस दीवार को
गुफा हो तो पाटना चाहता हूँ
पहाड़ हो तो उस पार जाना चाहता हूँ
-अवनीश गौतम

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

15 कविताप्रेमियों का कहना है :

रंजना का कहना है कि -

बहुत बहुत भावपूर्ण aur सुंदर abhivyakti.

lata का कहना है कि -

bahut badhiya. bat dil ko choo gai.

Seema Sachdev का कहना है कि -

किसी को पता है इसके बारे में
मैं तोड़ना चाहता हूँ इस दीवार को
गुफा हो तो पाटना चाहता हूँ
पहाड़ हो तो उस पार जाना चाहता हूँ
बहुत ही भावपूर्ण ,काश की हम उस दीवार को तोड़ पाते या फ़िर उस अंधेरी गुफा के अन्धकार में कोई रौशनी की किरण देख पाते ....यह जीवन है ऐसे ही चलता है | बहुत गहरी कविता |बधाई .....सीमा सचदेव

manvinder bhimber का कहना है कि -

किसी को पता है इसके बारे में
मैं तोड़ना चाहता हूँ इस दीवार को
बहुत भावपूर्ण है
दीपावली के दीयों की तरह आपके , आपके परिवार और मित्रों के जीवन में प्रकाश हो एवं सुख समृद्धि बढे ! इसी कामना के साथ दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

संगीता पुरी का कहना है कि -

बहुत ही अच्छी कविता ...और हां.....आप सबों को दीपावलि की बहुत बहुत सुभकामनाएं।

सजीव सारथी का कहना है कि -

excellent

निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -

"गुफा हो तो पाटना चाहता हूँ
पहाड़ हो तो उस पार जाना चाहता हूँ"
ज़िंदगी जब तक है, तब तक ये अनुगूंज आपका हिस्सा बनी रहेंगी....और दिल के भीतर आपका कवि परेशान हुआ करेगा....
हिंदयुग्म पर दिखने के लिए धन्यवाद....

rachana का कहना है कि -

यहाँ इसी दुनिया में कहीं न कहीं
कोई न कोई दीवार या गुफा या पहाड़ ज़रूर है
जिससे टकरा कर हर आवाज़
रुलाई में तब्दील हो जाती है

किसी को पता है इसके बारे में
मैं तोड़ना चाहता हूँ इस दीवार को
गुफा हो तो पाटना चाहता हूँ
पहाड़ हो तो उस पार जाना चाहता हूँ

काश के हम एसा कर पाते तो जीवन खुशहाल हो जाता पर नही दुःख सुख यही नियति है
सुंदर भाव
सादर
रचना

devendra का कहना है कि -

यह दीवार या गुफा या पहाड़ हमारे ही भीतर है जिससे टकराकर हर आवाज रूलाई में तब्दील हो जाती है। हमें करना यह है कि इसकी हर प्रतिध्वनी को बस ध्यान से सुनना है------सुनते-सुनते एक दिन हम जरूर इसके पार निकल जाएंगे----दीवार ढह जाएगी---गुफा पट जाएगी---------हमें करना है तो सिर्फ विश्वास-------विश्वास उस शक्ति के प्रति जिसने इस सुंदर संसार की रचना की है।
----देवेन्द्र पाण्डेय।

sahil का कहना है कि -

दुख लौट आता है
जैसे लौट आती है प्रतिध्वनि

या कैसे कहूँ
कि हर प्रतिध्वनि में
लौटता है दुख ही
गजब के मर्म,गजब की गहराई है इन पंक्तियों में.लाजवाब
आलोक सिंह "साहिल"

neeti sagar का कहना है कि -

मुझे कविता बहुत पसंद आई ! दुःख लौट आता है ,जैसे लौट आती है प्रतिध्वनी! मेरे दिल को छू गई ! वाकई दिल की गहराई से लिखी लिखी कविता जो दिल तक पहुची ! आपको बहुत-२ बधाई !

neelam का कहना है कि -

अभी कुछ दिनों पूर्व आपकी कविता के शीर्षक के नाम से हमने एक कहानी दी , बाल उद्यान में ,तो निष्कर्ष यह निकलता है समय के साथ बदल जाती है यह प्रतिध्वनि .
कविता बहुत ही मर्मस्पर्शी है ,

neelam का कहना है कि -

दुख लौट आता है
जैसे लौट आती है प्रतिध्वनि

या कैसे कहूँ
कि हर प्रतिध्वनि में
लौटता है दुख ही

कि मैं जब भी हँसता हूँ
हँसी टकरा कर लौटती है
सिसकियों की आवाज़ में

दीपाली का कहना है कि -

दुख लौट आता है
जैसे लौट आती है प्रतिध्वनि

या कैसे कहूँ
कि हर प्रतिध्वनि में
लौटता है दुख ही

बहुत सुंदर रचना....
हर शब्द सुंदर है.....और शुरुवात की पंक्ति तो बेजोड़ है.

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

एक बेहतरीन रचना लगी |

दीपावली की शुभकामनायें |

-- अवनीश तिवारी

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)