फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, June 06, 2008

डर


बड़ा ख्याल रखा
डर डर कर कि
तुम्हारी निरव वाणी के
सन्नाटे से मेरी
मुरझाई चेतना का संतुलन न बिगड़े
गीर न पड़ूं धम से
पर तुम्हारी निश्छल हंसी का
क्या भरोसा
जाने कब अपना दायरा भूल कर
छेड़ दे कोमल तन्तु
उजागर कर दे
उलझे अरमान
और बिखरी तमन्नायें …
अन्तस का पिघलता लावा
आंखों में उभार दे
इसलिये तो
जीवन को
स्वार्थी प्यार से
कस कर हथेली से दबाये
रोके रखा
डर बैठाया मन पर कि
क्या होगा अगर
सचमुच मैं मर गया तो ?
मेरी अकड़ और अहं का टूटना
या कि किताबी भाषा में … आत्मा का मिलन…
इससे तो बेहतर
क्यों न जी लें
हम अलग अलग शरीर में ।

-हरिहर झा

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 कविताप्रेमियों का कहना है :

सन्तोष गौड राष्ट्र्प्रेमी का कहना है कि -

क्या भरोसा
जाने कब अपना दायरा भूल कर
छेड़ दे कोमल तन्तु
उजागर कर दे
उलझे अरमान
और बिखरी तमन्नायें …
अन्तस का पिघलता लावा
आंखों में उभार दे
बहुत उत्तम भाव ओ शब्द प्रयोग है.
यह भी देखें-
rashtrapremi.blogspot.com

शोभा का कहना है कि -

हरिहर जी
बहुत अच्छी कविता।विशेष रूप से-
उलझे अरमान
और बिखरी तमन्नायें …
अन्तस का पिघलता लावा
आंखों में उभार दे
इसलिये तो
जीवन को
स्वार्थी प्यार से
कस कर हथेली से दबाये
रोके रखा
वाह! बधाई स्वीकारें।

रंजू ranju का कहना है कि -

डर बैठाया मन पर कि
क्या होगा अगर
सचमुच मैं मर गया तो ?
मेरी अकड़ और अहं का टूटना
या कि किताबी भाषा में … आत्मा का मिलन…
इससे तो बेहतर
क्यों न जी लें
हम अलग अलग शरीर में ।

बहुत सुंदरयह कविता लगी आपकी हरिहर जी ..ख़ास कर यह पंक्तियाँ सच के बहुत करीब है

nehrucentre का कहना है कि -

बहुत अच्छा खयाल है, सुन्दर और सरल, साधुवाद,

सस्नेह,

दिव्या माथुर
लन्दन्

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

अच्छी कविता है हरिहर जी। प्रतीकात्मक तरीके से आप बड़ी बात कह गये हैं।

devendra का कहना है कि -

---इससे तो बेहतर
हम क्यों न जी लें
हम अलग-अलग शरीर में ।
----सुन्दर रचना।--देवेन्द्र पाण्डेय।

संत शर्मा का कहना है कि -

पर तुम्हारी निश्छल हंसी का
क्या भरोसा
जाने कब अपना दायरा भूल कर
छेड़ दे कोमल तन्तु
उजागर कर दे
उलझे अरमान
और बिखरी तमन्नायें …
अन्तस का पिघलता लावा
आंखों में उभार दे
Khubsurat.

सतीश वाघमारे का कहना है कि -

"तुम्हारी निरव वाणी के
सन्नाटे से मेरी
मुरझाई चेतना का संतुलन न बिगड़े
गीर न पड़ूं धम से"

बहुत बढिया , हरिहरजी !

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

वाह, बहुत सुन्दर

Seema Sachdev का कहना है कि -

मेरी अकड़ और अहं का टूटना
या कि किताबी भाषा में … आत्मा का मिलन…
इससे तो बेहतर
क्यों न जी लें
हम अलग अलग शरीर में ।
बहुत ही सुंदर भाव

Gaurav का कहना है कि -

I was searching for some special meaning in the words - the poem should have taken me to somewhere but it did not do it. I was looking for some strong feeling to come out whether of some real fear, helplessness, sadness or whatever but all I got here are some good words without bringing a that single binding cohesive and compelling force. This fear is an imaginary fear, a fear of a confused mind to become a lover. In other words a poem about a fear which belongs to "what ifs" category. It's probably the penchant for today's poems not rousing you in a defined way but to keep you confused and prisoned in useless emotions.

Roney Kever का कहना है कि -

Kitkatwords is one of the best online English to Hindi dictionary. It helps you to learn and expand your English vocabulary online. Learn English Vocabulary with Kitkatwords. Visit: http://www.kitkatwords.com

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)