फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, May 09, 2008

पुणे में आयोजित नव लेखन प्रतियोगिता में भाग लेना परम सौभाग्य था


सम्मर कैंप से छुट्टी मिली ही थी कि महाराष्ट्र राष्ट्र भाषा सभा ,पुणे से बुलावा आ गया जी हाँ आप सभी के आशीर्वाद एवं शुभ कामनाओं को जो मैं अपनी झोली में समेटे जा रही थी.ये सच है कि मैं अपने आप को कवयित्री नहीं मानती हूँ ...फ़िर भी महाराष्ट्र राष्ट्र भाषा सभा ,पुणे के सचिव जी से एक पत्र मिला जिसे पढ़कर मैं सच-मुच खुश थी .पहली बार मुझे कविता के ऊपर दो शब्द कहने को आमंत्रण मिला था ...मैं अब भी विद्यार्थी ही हूँ ..कुछ और विद्यार्थियों के सामने समकालीन कविता के ऊपर कुछ विचार प्रस्तुत करने के लिए मुझे तय्यारी करनी पड़ी ..मैं तैयार भी थी ...इसका श्रेय श्री जोशी जी को मिलता है जिन्होंने सदा मेरे सर पर हाथ रखा . दरअसल मित्रों केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय और महाराष्ट्र राष्ट्र भाषा सभा,पुणे के संयुक्त तत्वाबधान में महाराष्ट्र राष्ट्र भाषा सभा पुणे में २८ अप्रेल से लेकर ५ मई तक हिन्दी नव लेखक शिविर का आयोजन किया गया था.इसका उद्घाटन श्री मोहन धारिया के कर कमलों से हुआ था .. .निदेशालय की ओर से अनुसंधान अधिकारी श्रीमती सरोज अरोड़ा जी, रत्नेश कुमार मिश्र जी के अलावा मार्ग दर्शक श्री रमेश ऋषि कल्प जी दिल्ली से,अकेला भाई मेघालय से एवं सरदार मुजावर जी सतारा से पधारे थे. महाराष्ट्र राष्ट्र भाषा सभा, पुणे के सचिव श्री श.र. जोशी जी ने इन सबके अलावा भी हर रोज नव लेखकों के लिए स्थानीय मार्ग दर्शकों को बुलावा भेजा था जिन में प्रमुख थे डॉ.पद्मजा घोरपडे वीणा मनचंदा,डॉ.तुकाराम पाटील,डॉ.ओम प्रकाश शर्मा ,डॉ.निशा ढवले,डॉ.गजानन चौहान ,डॉ.दामोदर खडसे,,डॉ.स्मिता दाते, डॉ.सुनील देवधर , एवं प्रा. सुमतिलाल शाह .इन सभी ने साहित्य के विविध विधाओं पर ( कविता ,नाटक,एकांकी,पत्रकारिता,कहानी,निबंध,अनुवाद,संचार मध्यम,हिंदी संरचना,वर्तनी ) पर व्याख्यान दिया व मार्ग दर्शन किया .

आपकी- सुनीता यादव

कुछ तस्वीरें ...







आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 कविताप्रेमियों का कहना है :

Seema Sachdev का कहना है कि -

बहुत बहुत बधाई सुनीता जी और हमारे साथ अपनी मीठी यादे बांटने के लिए धन्यवाद .....सीमा सचदेव

शोभा का कहना है कि -

सुनीता जी
बहुत-बहुत बधाई। सब कुछ देख और पढ़कर बहुत अच्छा लगा।

तपन शर्मा का कहना है कि -

बहुत अच्छे सुनीता जी, "मराठी मानुष" के राज्य में हिन्दी में बोली आप!!! क्या बात है। आपको बधाई।

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

बहुत अच्छा | काश राज ये सब देख सकता और सीखता

अवनीश तिवारी

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

नव लेखन प्रतियोगिता में भाग लिया, आपका सौभाग्य है और आप हमारे साथ है यह हमारा

बधाई...

mamta का कहना है कि -

सुनीता बहुत-बहुत बधाई ।

pooja anil का कहना है कि -

सुनीता जी , आपका यह सौभाग्य देख कर ऐसी इच्छा हुई कि काश मैं भी उस वक्त पुणे में होती...!!!! अभी तो नहीं पर हो सकता है अगस्त में हम भी पुणे में होएं और तब शायद ऐसे ही किसी आयोजन में जाने का हमें भी सौभाग्य प्राप्त हो....!!!!! आपको बहुत बहुत बधाई
^^पूजा अनिल

सजीव सारथी का कहना है कि -

जितनी भी तारीफ की जाए तुम्हारी उर्जा की कम है, यूहीं ऊँचाइयों को छूते रहें , हिंद युग्म परिवार को आपसे बहुत सी उम्मीदें हैं...

tanha kavi का कहना है कि -

सुनीता जी!
आपको इस उपलब्धि के लिए बहुत-बहुत बधाई।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)