फटाफट (25 नई पोस्ट):

Saturday, February 23, 2008

हर रोज़


मैं हर रोज़ जीता हूँ
अपने मन के संग्रहालय में
रखी किताब का एक पन्ना.....

हर सुबह
मेरे सपनों के पंख जल जाते हैं
यथार्थ के तपते सूरज को
छूने की कोशिश मे.....

हर दोपहर
उठाता हूँ शब्दों का हथौड़ा,
तर्क की छेनी
तोड़ता हूँ पोषित चट्टानों को
और बनाने की कोशिश करता हूँ
एक सड़क, प्यास से पानी तक.....

हर साँझ
उतारकर रख देता हूँ किनारे
थकान के कपड़े
और नहाता हूँ
हृदय के झरने में.....

हर रात
हवन करता हूँ कुछ जख्मी विचारों का
सूली चढ़ा देता हूँ सीने की आग को
जानते हुए भी
कि ये आग कल फ़िर जी उठेगी.....

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

11 कविताप्रेमियों का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

वाह... रविकांत जी सुंदर कविता है.....बधाई

seema gupta का कहना है कि -

हर रात
हवन करता हूँ कुछ जख्मी विचारों का
सूली चढ़ा देता हूँ सीने की आग को
जानते हुए भी
कि ये आग कल फ़िर जी उठेगी.....
" दिल और मन के मनोभावों का वेदना का सुंदर चित्रण"
Regards

Harihar का कहना है कि -

हर दोपहर
उठाता हूँ शब्दों का हथौड़ा,
तर्क की छेनी
तोड़ता हूँ पोषित चट्टानों को
और बनाने की कोशिश करता हूँ
एक सड़क, प्यास से पानी तक.....

बहुत सुन्दर

शोभा का कहना है कि -

रवि जी
बहुत सुंदर लिखा है-
हर रात
हवन करता हूँ कुछ जख्मी विचारों का
सूली चढ़ा देता हूँ सीने की आग को
जानते हुए भी
कि ये आग कल फ़िर जी उठेगी.....
बधाई

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

बहुत बहुत सुंदर रचना |

अवनीश तिवारी

रंजू का कहना है कि -

हर सुबह मेरे सपनों के पंख जल जाते हैं
यथार्थ के तपते सूरज को छूने की कोशिश मे....

सुंदर भाव पूर्ण रचना है रवि जी बधाई !!

tanha kavi का कहना है कि -

रवि जी,
आपकी इस कविता की खासियत यह है कि आपने इसमें चुन-चुन कर शब्द पिरोये हैं।

हर रात हवन करता हूँ कुछ जख्मी विचारों का सूली चढ़ा देता हूँ सीने की आग को जानते हुए भी कि ये आग कल फ़िर जी उठेगी.....

इन पंक्तियों में आपकी रचना उफान पर है।
बधाई स्वीकारें।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

sahil का कहना है कि -

बहुत ही शानदार कविता,हर शब्द,हर पंक्ति ऐसी की जिसे अलग से विभूषित नहीं किया जा सकता,बधाई हो सर जी
आलोक सिंह "साहिल"

Alpana Verma का कहना है कि -

अति सुंदर रचना.

Gita pandit का कहना है कि -

रविकांत जी !

शब्दों का हथौड़ा, तर्क की छेनी तोड़ता हूँ पोषित चट्टानों को और बनाने की कोशिश करता हूँ एक सड़क, प्यास से पानी तक.....


हर रात
हवन करता हूँ कुछ जख्मी विचारों का
सूली चढ़ा देता हूँ सीने की आग को
जानते हुए भी
कि ये आग कल फ़िर जी उठेगी.....

सुंदर .....

बधाई

स-स्नेह
गीता पंडित

chenlina का कहना है कि -

fitflop sandals
michael kors handbags
michael kors outlet
oakley sunglasses outlet
louis vuitton outlet
giuseppe zanotti sandals
adidas nmd
coach outlet
fitflops
coach factory outlet
juicy couture
fitflops sale clearance
ray ban wayfarer
timberland boots
adidas running shoes
coach outlet store online clearances
christian louboutin outlet
michael kors outlet
longchamp handbags
celine handbags
nike air max 90
coach outlet
polo ralph lauren
air jordan pas cher
adidas superstar
louis vuitton outlet
replica watches
adidas outlet
coach factory outlet
ralph lauren polo
ralph lauren outlet
timberland outlet
kate spade handbags
louis vuitton
louis vuitton
toms shoes
michael kors outlet clearance
coach outlet
christian louboutin sale
gucci handbags
chenlina20160729

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)