फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, February 01, 2008

विश्व पुस्तक मेला में हिन्द-युग्म के स्टैंड पर ज़रूर पधारें


हिन्दी साहित्य को कला की हर विधा से जोड़ना- हिन्द-युग्म के प्रमुख उद्देश्यों में से है। इस दिशा में हिन्द-युग्म ने अनेकों प्रयास किये हैं। पिछले तीन महीनों से इसी दिशा में इसकी पूरी टीम जिस बड़े लक्ष्य को पाना चाहती थी, आज उसके पूरे हो जाने की सूचना देने का वक़्त आ गया है। हमें यह बताते हुए अत्यंत खुशी हो रही है कि हिन्द-युग्म आज यानी १ फरवरी २००८ को इंटरनेट के माध्यम से तैयार अपना पहला म्यूज़िक अलबम 'पहला सुर' ज़ारी कर रहा है।

इस अलबम में १‍० संगीतबद्ध गीत हैं और १० कविताएँ। हिन्द-युग्म के स्थाई पाठक/श्रोता सभी गीतों को पहले भी सुन चुके हैं, उन्हीं के दिशानिर्देशों, सलाहों, सुझावों के आधार पर हमारी टीम ने इन गीतों पर दुबारा काम किया है।

हिन्द-युग्म मानता है कि इसने अपना यह अलब्म अपने पाठकों की मदद से ही पूरा कर पाया है, इसलिए इस अलबम का विमोचन हर एक पाठक करे। 'पहला सुर' का विमोचन करने के लिए नीचे के चित्र पर क्लिक करें।


हिन्द-युग्म को यह बताते हुए भी अत्यंत हर्ष हो रहा है कि २-१० फरवरी २००८ के मध्य प्रगति मैदान, नई दिल्ली में आयोजित हो रहे 'विश्व पुस्तक मेला २००८' हम अपना स्टैंड लगा रहे हैं। जहाँ हम इस म्यूजिक अलबम को बिक्री के लिए रखेंगे। लोगों में इंटरनेट पर हिन्दी के प्रयोग के प्रति जागरूकता और रूझान पैदा करने के लिए 'इंटरनेट और हिन्दी' पर सर्वेक्षण भी करेंगे। हिन्दी और कला प्रेमियों को इंटरनेट से जोड़ने का हरसम्भव प्रयास हमारे कार्यकर्ता करेंगे।

चूँकि 'विश्व पुस्तक मेला' के इतिहास में यह पहली घटना है कि इंटरनेट पर हिन्दी के लिए काम करने वाली कोई संस्था अपना स्टैंड/स्टॉल लगा रही है। अतः सभी हिन्दी और कला प्रेमियों से आग्रह है कि हिन्द-युग्म के स्टैंड पर पधारकर हमारा उत्साह बढ़ायें।

स्टैंड का पता-

हॉल नं॰ १२ए
स्टैंड नं॰ एस-१/१३१
प्रगति मैदान, नई दिल्ली


हिन्द-युग्म अपने इसी अलबम का भव्य विमोचन प्रगति मैदान में ३ फरवरी २००८ को करने जा रहा है। हिन्द-युग्म चाहता है कि इंटरनेट जगत से पाठक/श्रोता इस आयोजन में ज़रूर से ज़रूर आयें और आयोजन की शोभा बढ़ायें।

आयोजन स्थल- हॉल नं॰ ६, मेज़ानाइन फ़लौर, कॉन्फ्रेंश रूम-१, प्रगति मैदान, नई दिल्ली
समय- दोपहर २-४, ३ फरवरी २००८
मुख्यातिथि-
श्री अशोक बाल्यान (एच आर निदेशक, ओएनजीसी)
श्री अमित दहिया (संस्थापक, देलही पोएट्री)
श्री प्रदीप शर्मा (वरिष्ठ उद्‌घोषक, ऑल इंडिया रेडियो)

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

13 कविताप्रेमियों का कहना है :

seema gupta का कहना है कि -

" एक बहुत अच्छा प्रयास और एक अच्छी शुरुआत के लिए ढेर सारी शुभ कामनाएं"

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

पुस्तक मेला के लिए शुभकामनाएं

अवनीश तिव्वारी

Raviratlami का कहना है कि -

आपके लगन, प्रयासों व विज़न को नमन् !

भविष्य के लिए ढेरों शूभकामनाएँ.

mamta का कहना है कि -

पुस्तक मेला के लिए बधाई और शुभकामनाएं।

Sanjeet Tripathi का कहना है कि -

शुभकामनाएं

कथाकार का कहना है कि -

काश, मैं आ पाता वहां
शुभ कामनाएं

anuradha srivastav का कहना है कि -

हम सबकी शुभकामनायें युग्म के साथ है। सफलता जरुर मिलेगी।

Divya Prakash का कहना है कि -

मुझे पूरा विश्वास है कि,ये शुरुवात जरुर इंटरनेट पे हिन्दी के प्रयोग की गति को बढ़ायेगी |
शुभकामनाओं के साथ ,दिव्य प्रकाश

amit का कहना है कि -

बहुत-२ बधाई और सफ़लता के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ। :)

Naresh का कहना है कि -

bhahut -bhahut bhadaia,आपके लगन, प्रयासों व विज़न को नमन् !

shobha का कहना है कि -

यह प्रयास सराहनीय है. सफल होगा यही विश्वास है.

Alpana Verma का कहना है कि -

बहुत बहुत हार्दिक बधाई
और शुभकामनाओं सहित.
अगर सम्भव होता तो हिंद युग्म के स्टैंड पर जरुर आती.

Gita pandit का कहना है कि -

एक बहुत अच्छा प्रयास

हार्दिक बधाई

शुभकामनाएँ।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)