फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, January 30, 2008

अमलेन्दु त्रिपाठी की कविता


जनवरी महीना खत्म होने को है और टॉप २५ कविताओं के प्रकाशन के भी हम अंतिम चरण में हैं। २४वें स्थान पर हिन्द-युग्म पर बहुत पहले से आ रहे मगर प्रथम बार प्रकाशित हो रहे अमलेन्दु त्रिपाठी की कविता प्रकाशित कर रहे हैं।

कविता- क्या यही जिंदगी है

कवयिता- अमलेन्दु त्रिपाठी, इलाहाबाद

आज मानव लड़ रहा है
आगे बढ़ने के लिए नहीं
खड़े रहने के लिए
जो जहाँ है
वही जूझ रहा है
सिर्फ़ अपने अस्तित्व के लिए
ढ़ेरो मिट जाते है
कीड़े मकोड़ो की तरह
कुछ एक बच जाते हैं
परंतु
वे भी नहीं जान पाते
कि हम बच गए
जिंदगी की जंग जीत गए
क्यों
तब तक
जिंदगी खत्म हो जाती है
वक्त ही नहीं मिलता
होश ही नहीं रहता
जानने का
कि हम जीत गये
क्या यही है जिंदगी?
इसी के लिए सपने देखते हैं
और जूझते हैं
हमसे तो भला है
वो राह का पत्थर
जो पड़ा है चैन से
खाकर ठोकरें पथ पर
क्या हुआ
न उसका ग़म है
क्या होगा
न उसकी चिंता
पड़ा है पथ पर
आती जाती है जनता
क्या मेरे जन्म का
प्रयोजन यही है
शायद नहीं
था तो कुछ और
मगर
हो गया कुछ और
क्यों
एक छाप छोड़ना चाहा था
अंत:करण में
हर किसी के
मगर
तलाश रहा हूँ
थोड़ी सी जगह
इसी जमीं पर

निर्णायकों की नज़र में-


प्रथम चरण के जजमेंट में मिले अंक-७॰५, ६, ४॰८
औसत अंक- ६॰१


द्वितीय चरण के जजमैंट में मिले अंक-४॰७, ६॰१ (पिछले चरण का औसत)
औसत अंक- ५॰४


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कविताप्रेमियों का कहना है :

seema gupta का कहना है कि -

जिंदगी खत्म हो जाती है
वक्त ही नहीं मिलता
होश ही नहीं रहता
जानने का
कि हम जीत गये
क्या यही है जिंदगी?
इसी के लिए सपने देखते हैं
और जूझते हैं
"बहुत अच्छा परिचय कराया आपने जिन्दगी के ऐसे रूप से जो शायद हर एक आम इन्सान जीता है. बधाई"

Alpana Verma का कहना है कि -

सच कहती है अमलेन्दु त्रिपाठी की कविता कि अपनी पहचान बनने की कोशिश में या फ़िर जन्म का प्रयोजन खोजने में ही कई बार जीवन गुजर जाता है,मगर तलाश तो जारी रखनी ही होगी.

sahil का कहना है कि -

सिर्फ़ अपने अस्तित्व के लिए
ढ़ेरो मिट जाते है
कीड़े मकोड़ो की तरह
कुछ एक बच जाते हैं
परंतु
वे भी नहीं जान पाते
कि हम बच गए
जिंदगी की जंग जीत गए
बहुत ही अच्छी पंक्तियाँ.एक सशक्त प्रस्तुति
बधाई हो
आलोक सिंह "साहिल"

mehek का कहना है कि -

bahut bahut sach kaha,aaj manav jeevan se jyada,apne aham ke astitva ke liye ladh raha hai.
bahut achhi kavita badhai.

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

अमलेन्दु जी,

बहुत बहुत बधाई...
बढिया लिखा है..

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)