फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, December 16, 2007

आश्वासन



पहला दिन
पहला आश्वासन
बहका दिया कवि का मन
महका दिया कवि का चमन
हार गया दिल उसी दिन
जैसे कमलपत्र पर अश्रू के कण ..


क्या सचमुच भेंट होगी?
या शब्द-शब्द में
कविता के लिए
बन जायेगा कोई चित्र
किसी शबरी के आँख का
जिसकी हथेली में समंदर
उसके द्वीप में काई का घर ....
और कवि के लिए ....
चांदनी रात
रेती का रथ
और हाँ रेती का सिंहासन भी.....


- सुनीता यादव

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

14 कविताप्रेमियों का कहना है :

Avaneesh Tiwari का कहना है कि -

rachana sundar lagee
lekin such puchho to mujhe arth kam samjhaa |

shesh sab sundar
snsneh -
avaneesh tiwaree

alok kumar का कहना है कि -

सुनीता जी, अच्छी कविता कही जा सकती है,काफ़ी हद तक मैं अवनीश जी के विचारों से सहमत हूँ.
शब्द तो बड़े ही करीने से सजाये गए हैं,परन्तु भाव बहुत स्पष्ट नहीं हो पाया,
सप्रेम
आलोक सिंह "साहिल"

सुनीता का कहना है कि -

कवि किसी प्रेम करता है ...किसी के द्वारा दिए गए आश्वासन से बहक जाता है ...आश्वासन आख़िर आश्वासन ही है जब समझ जाता है ..उसका दिल हार जाता है ...उसे लगता है इंतजार की घडी कब समाप्त होगी? या उसकी विरह में रची गयी कविताओं के साथ-साथ कोई चित्र भी बन जायेगा किसी शबरी के आंख का....जिसकी हथेली में अश्रू के समंदर ...उसके द्वीप में .. अंतस में काई का घर .....और ख़ुद के लिए रेती का रथ ,सिंहासन जिसकी कल्पना खूबसूरत होने के बावजूद वह चांदनी रात में प्रेयसी की याद में उठी अश्क के ज्वार में बिखर जाता है....

भाव समझने में कठिनाई हो रही हे तो प्रयास करूंगी अगली बार सरल शब्दों में लिखूं ....

shobha का कहना है कि -

सुनीता जी
बहुत सुंदर लिखा है.
क्या सचमुच भेंट होगी?
या शब्द-शब्द में
कविता के लिए
बन जायेगा कोई चित्र
किसी शबरी के आँख का
जिसकी हथेली में समंदर
उसके द्वीप में काई का घर ....
बधाई स्वीकारें

RAVI KANT का कहना है कि -

सुनीता जी,
सुंदर लगी रचना। कविता की चित्रात्मकता अच्छा प्रभाव छोड़ती है।

Alpana Verma का कहना है कि -

सुनीता जी आप की कविता पढी और आप की व्याख्या भी.
यह एक कोम्पक्ट कविता लगी जिसमे बहुत सारी बातों का थोड़े में कह दिया गया है-
ये पंक्तियाँ: ''जिसकी हथेली में समंदर
उसके द्वीप में काई का घर ....''अनूठी कल्पना लगीं.
शीर्षक 'आश्वासन ' उपयुक्त है क्योंकि आश्वासन अधिकतर अनिश्चितता को ही जन्म देते हैं.इन पर टिका जीवन पेंडुलम की तरह हो जाता है.
चित्र भी कविता को समझने में सहायक है.
अच्छी रचना है.
धन्यवाद.

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

सुनीता जी बहुत बढ़िया शब्द संयोजन है..

थोडे शब्दों में बहुत कुछ बखान करती कविता..
अलपना जी से सहमत..
बधाई स्वीकारें

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

बिम्ब जटिल अवश्य हो गये हैं किंतु रचना बहुत अच्छी है। बधाई स्वीकारें..

*** राजीव रंजन प्रसाद

सजीव सारथी का कहना है कि -

सुंदर भाव उत्कृष्ट रचना

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

और बढ़िया लिखिए

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

थोड़ा आसान लिखिए और थोड़ा विस्तृत...आपकी रचना बहुत अच्छी बन जाएगी...

chenlina का कहना है कि -

fitflop sandals
michael kors handbags
michael kors outlet
oakley sunglasses outlet
louis vuitton outlet
giuseppe zanotti sandals
adidas nmd
coach outlet
fitflops
coach factory outlet
juicy couture
fitflops sale clearance
ray ban wayfarer
timberland boots
adidas running shoes
coach outlet store online clearances
christian louboutin outlet
michael kors outlet
longchamp handbags
celine handbags
nike air max 90
coach outlet
polo ralph lauren
air jordan pas cher
adidas superstar
louis vuitton outlet
replica watches
adidas outlet
coach factory outlet
ralph lauren polo
ralph lauren outlet
timberland outlet
kate spade handbags
louis vuitton
louis vuitton
toms shoes
michael kors outlet clearance
coach outlet
christian louboutin sale
gucci handbags
chenlina20160729

Unknown का कहना है कि -

cardinals jersey below
los angeles clippers jerseys the
dolce and gabbana shoes easy
moncler outlet coloring
michael kors handbags weekly
jets jersey my
bengals jersey today!
washington redskins jerseys my
cheap nba jerseys the
cheap michael kors handbags my

1111141414 का कहना है कि -

cheap jordans
nike air max
adidas stan smith men
pandora bracelet
michael kors outlet online
longchamp
michael kors outlet
louboutin shoes
http://www.uggoutlet.uk
timberland outlet

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)