फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, October 15, 2007

अरमान, आँख ही को, पत्थर थमा गये..


पंछी थे डाल डाल के, जाने कहाँ गये
अरमान आँख ही को पत्थर थमा गये॥

तेरी ज़ुल्फ के अंधेरे, सागर को ढक न पाये
दो बूंद, पलक ही के, कोरों पे छलक आये
वो शाम मन में बैठी, अंगार हो गया तन
आँहों के कदम धीमें, पायल न झनक जाय
दिल रबर की चादर, तुम खींचते हो रहबर
मुझे तोड जो न पाये, अंबर बना गये।

पंछी थे डाल डाल के, जाने कहाँ गये
अरमान आँख ही को, पत्थर थमा गये॥

कोई मेरा हाल पूछे, तेरे दर का मैं पता दूं
दरवेश वो है सब कुछ, उसे किस तरह लुटा दूँ
जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं
सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।

पंछी थे डाल डाल के, जाने कहाँ गये
अरमान आँख ही को, पत्थर थमा गये॥

तुम्हें क्या पता कि मेरे भीतर ही मेरा मैं है
मेरी मौत मुझपे परदा ना डाल सकी जानम
तेरा नाम सुबहो शाम बन कर अज़ान गूँजा
आँख में गया कुछ, जो गुल पे खिली शबनम
मेरे गम में तेरा दम ना, घुट जाये मेरे हमदम
जो तुम गये तो मेरे, दोनों जहाँ गये।

पंछी थे डाल डाल के, जाने कहाँ गये
अरमान आँख ही को, पत्थर थमा गये॥

*** राजीव रंजन प्रसाद
3.10.2007


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

45 कविताप्रेमियों का कहना है :

Udan Tashtari का कहना है कि -

बढ़िया है राजीव..लिखते रहो.बेहतरीन, जल्द मुलाकात होगी:

पंछी थे डाल डाल के, जाने कहाँ गये
अरमान आँख ही को, पत्थर थमा गये॥


--क्या बात है!! खूब!!

सजीव सारथी का कहना है कि -

कोई मेरा हाल पूछे, तेरे दर का मैं पता दूं
दरवेश वो है सब कुछ, उसे किस तरह लुटा दूँ
जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं
सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
वाह राजीव जी, शब्दों का कैसा जाल बुना है आपने मज़ा आया पढ़ कर, हालांकि कविता थोड़ी जटिल है, कम से कम तीन बार पढ़नी पढी, पर इसे भी आपकी सफलता ही कहूँगा

kamlesh का कहना है कि -

kuch pankityaan bahut sundar lagin...

buss ek nivedan hai...angrezi shabdon ka prayog na karen...
aap ki kavitaayen adhiktar bhav pradhaan hotin hai..aur angrezi shabdon ke prayog se ek halkapan aa jaata hai...padhte samay pathak ka dhayan mukhya vishay se ek baar hath jaata hai, kuch palon ke liye....
angrezi shabd hasya kavitaon mein prayog hone lagein hain aajkal...par unka aisa hona hamari badalti sanskriti se sambadh rakhta hai ....

...
likhte rahiye

रंजू का कहना है कि -

सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।

बहुत सुंदर राजीव जी ...

आँख में गया कुछ, जो गुल पे खिली शबनम
मेरे गम में तेरा दम ना, घुट जाये मेरे हमदम

बहुत ही भाव पूर्ण और प्यारी सी रचना लगी आपकी यह ..

बहुत बहुत बधाई सुंदर रचना के लिए !!

आर्य मनु का कहना है कि -

अरमान आँख को ही॰॰॰॰॰॰
अत्युत्तम रचना । प्रथम पंक्ति पढकर ही पता चल गया कि ये राजीव जी की कलम ही हो सकती है, जहाँ भावों की प्रधानता, वहाँ राजीव जी ।
यूँ तो पूरी रचना ही तारीफ के काबिल है, किन्तु अंतिम दो पैरा बहुत उम्दा लगे , क्योकि रचना पूरी तरह से तुकबन्दी युक्त नही थी, इसलिये कहीं कहीं सारथी सा' से समर्थित होते हुये रचना को २-३ बार पढना पढा ।वैसे अपनी बात को कहने के लिये सदैव तुकबन्दी की जरुरत नही होती, ये भी आप ही से सिखा हूँ ।
परस्पर विरोधाभासी बातें ????
एक बार पुनः आपकी कलम को नमन प्रेषित करता हूँ ।
आर्यमनु, उदयपुर ।

Gaurav Shukla का कहना है कि -

"अरमान आँख ही को पत्थर थमा गये"

बहुत खूब, बहुत नये बिम्ब अति प्रभावी बन दिये हैं आपने :)
नई सी कविता लगी, हमेशा की तरह सशक्त भाव

"दिल रबर की चादर, तुम खींचते हो रहबर
मुझे तोड जो न पाये, अंबर बना गये।"

"जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं"

बहुत सुन्दर

"सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी"
कविता बहुत सुन्दर है, बाकी देशज शब्दों के प्रयोग से कविता को सुग्राह्य बना देने के शैली लाजवाब है
अनुपम रचना के लिये बधाई

सस्नेह
गौरव शुक्ल

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

राजीव जी,
सुन्दर शब्दों बिम्बों से सजी कविता है... हमेशा की तरह.
दिल रबर की चादर, तुम खींचते हो रहबर
मुझे तोड जो न पाये, अंबर बना गये।
सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
आँख में गया कुछ, जो गुल पे खिली शबनम
मेरे गम में तेरा दम ना, घुट जाये मेरे हमदम

shobha का कहना है कि -

राजीव जी
अच्छा लिखा है अपनी चिर-परिचित शैली में । प्रेम में दार्शनिकता का समावेश अच्छा किया है ।
कोई मेरा हाल पूछे, तेरे दर का मैं पता दूं
दरवेश वो है सब कुछ, उसे किस तरह लुटा दूँ
जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं
सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
बधाई स्वीकारें ।

Gita pandit का कहना है कि -

"अरमान आँख ही को पत्थर थमा गये॥ "

"तेरी ज़ुल्फ के अंधेरे, सागर को ढक न पाये
दो बूंद, पलक ही के, कोरों पे छलक आये"

"दिल रबर की चादर, तुम खींचते हो रहबर
मुझे तोड जो न पाये, अंबर बना गये।"

:जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया"


"तेरा नाम सुबहो शाम बन कर अज़ान गूँजा
आँख में गया कुछ, जो गुल पे खिली शबनम"

"सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी"


वाह .......वाह.......

बहुत बहुत बधाई
राजीव जी,

विपुल का कहना है कि -

हर शब्द से अनुभव झलकता है | पढ़ कर ही पता चल जाता है क़ि राजीव जी ने लिखा है |हर बार की तरह इस बार भी बहुत ही ज़्यादा अच्छा लिखा है आपने |
यह पंक्तियाँ तो कमाल की थीं ..

सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
"जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं"

विपुल का कहना है कि -

हर शब्द से अनुभव झलकता है | पढ़ कर ही पता चल जाता है क़ि राजीव जी ने लिखा है |हर बार की तरह इस बार भी बहुत ही ज़्यादा अच्छा लिखा है आपने |
यह पंक्तियाँ तो कमाल की थीं ..

सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
"जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं"

जै बांवरा का कहना है कि -

१। दिल रबर की चादर, तुम खींचते हो रहबर
मुझे तोड जो न पाये, अंबर बना गये।
२। सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
३। आँख में गया कुछ, जो गुल पे खिली शबनम
मेरे गम में तेरा दम ना, घुट जाये मेरे हम।

राजीव जी,
अगर मैं औरो की तरह ये कहूँ कि वाह राजीव जी, क्या बात है, तो ये कविता पर अन्याय होगा। चूँकि आप कविता लिखते लिखते बार बार अपना सयंम खो देते हो। नंबर १ की दो पंक्तीयों में आप प्रेमी से कह रहे हैं उस ने तुम्हें अम्बर बना दिया। लेकिन नंबर २ पर आप ने प्रेमी को खुदा बना दिया।
नंबे ३ पर आप का दावा है कि तुम्हारे गम में उस का दम ना निकल जाये। जब कि आप की कविता आप के प्रेमी के प्रति रोष परकट करती हुई मालूम होती है।
भावों की कङीयों को सही ढंग से जोङने की कला ही कविता है। ऍक निवेदन है कि झूठी प्रसन्सा से बचें। कइ बार लोग इस लिये भी प्रसन्सा करते हैं कियूँ कि उन्हें कविता के बारे में अधिक मालूम भी नही होता।
यदि आस पास कोइ जाना माना कवि रहता हो तो उस से आप अपनी कविताऍ सुधवा लें तो जलद आप की कविता निखर सकती है।
मेरी शुभ कामनाऍ सदैव आप के साथ हैं। शुरूात बुरी नही है।
हितैषी,
जै बांवरा

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

बांवरा जी,

बेहद प्रसन्नता हुई आपकी समालोचना पढ कर। आपसे अपेक्षा है कि आप हिन्द युग्म पर नीयमित पधारें।

यह कविता प्रेमिका को संबोधित नहीं है, पूर्णत: आध्यात्मिक मनोवृत्तियों की स्याही से लिखी गयी है जहाँ प्रेम ईश्वर और कवि तीनों जी एक दूसरे के पूरक हैं। क्या कोई भी एक दूसरे के बिना रह सकता है? हाँ कविता आप तक नहीं पहुच सकी यह मेरी संप्रेषणीयता की कमी है, मैं कोशिश करूंगा कि मेरे बिम्ब जटिल न हो और आम पाठक तक सहजता से पहुँचें।

आपने लिखा है कि "ऍक निवेदन है कि झूठी प्रसन्सा से बचें। कइ बार लोग इस लिये भी प्रसन्सा करते हैं कियूँ कि उन्हें कविता के बारे में अधिक मालूम भी नही होता।" आपका स्नेह शिरोधार्य। एसी प्रसंशा की मुझे आवश्यकता नहीं जो झूठी हो। हाँ मैं जाने-माने कवियों के पास जाने की जरूरत नहीं समझता मेरे पथदर्शक मेरे पाठक ही होंगे..और आप भी उनमें से एक हैं।

*** राजीव रंजन प्रसाद

अजय यादव का कहना है कि -

राजीव जी!
बहुत सुंदर गीत लिखा है, परंतु बिम्ब निश्चय ही कुछ जटिल हो गये हैं. कहीं कहीं दोबारा पढ़ना पढ़ा. परंतु कुल मिला कर गीत बहुत अच्छा लगा. बधाई!

Manuj Mehta का कहना है कि -

मेरा मानना है राजीव जी, इस तरह की शायरी शायर को इक और ऊँचे पयेदान पर ले जाती है. इतनी उम्दा शायरी के लिए मेरी तरफ़ से बधाई.

"कोई मेरा हाल पूछे, तेरे दर का मैं पता दूं
दरवेश वो है सब कुछ, उसे किस तरह लुटा दूँ
जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं
सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।"


वाह क्या बात है.

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

रजीव जी,

थोड़ी जटिलता के चलते कविता का भाव समझने में वक्त तो लगा.. मगर सच में शब्द सागर से जो मोती चुन चुन पिरोये है.. सच में कबिले तारीफ है.
वरन कहना चहुँगा कि तारीफ की कोई सुपरलेटिव डिग्री होती तो वो इस्तेमाल करता..

सस्नेह...

श्रीकान्त मिश्र 'कान्त' का कहना है कि -

मित्र राजीव जी

आपकी रचना के लिये पुल बांधने की आवशयकता नहीं पड़ती है किसी को. न ही आपकी विशिष्ट शैली को किसी प्रमाण पत्र की आवश्यकता है. रचनाकार किसी की अपेक्षानुसार रचना करता है मेरे अपने अनुभव से कवि स्वयं भी कविता का रचनाकार होने का दंभ भरे तो यह मिथ्या ही है

कविता वह बीज है जो किसी भी संवेदनशील हृदय में
पड़कर अपना अंकुरण पोषण स्वयमेव ही उसकी छाती
को भेदकर करवा लेती है. कवि उसका जन्मदाता मात्र होकर उसके साये में वैसे ही प्रतिष्ठा रूपी प्रसाद
पा जाता है जैसे कोई पुजारी किसी मंदिर की सेवा
अर्चना में

अतः मैं कविताओं को पुत्री बेटी अथवा जो भी कहें
वही समझता हूं

यह रीतिकाल नहीं है मित्र जहां हमें राजा को
प्रसन्न कर अशर्फियां लेकर उदर पोषण करने
के लिये उनकी प्रसन्नता के लिये रचना करनी है हमारा काम है ...

आप के ही शब्दों में

"कानों में बारूद डाल विस्फोट करना" साहित्य के लिये, भी और युग धर्म के लिये भी ..
अब इतनी लम्बी टिप्पणी क्यों यह कहने की आवश्यकता नहीं. पाठक की शब्दावली एवं पठनीयता का निरंतर विकास भी साहितयकार का
दायित्व है काव्य में शिल्पगत दोष का निराकरण एवं परिमार्जन पाठक का सहज अधिकार है, और उसका निर्वहन का सतत प्रयास हम
सब करते भी रहते हैं रहेंगे

आपकी इस रचना की निम्न पंक्तियां मेरे हृदय को छू गयी हैं.

जिसे नंगे पाँव चल कर परबत पे रख के आया
उसे मंदिरों में पूजो, मैं आत्मा घुटा दूं
सजदा है मेरी तनहा आँखों की बेबसी
अब क्या तलाश होगी, तुम हो खुदा गये।
पंछी थे डाल डाल के, जाने कहाँ गये
अरमान आँख ही को, पत्थर थमा गये॥

शुभकामनायें

Anupama Chauhan का कहना है कि -

Rajeevji after a long time a romantic poem with touch of pain and sentiments.......bade dino baad aai hu yugm pe magar aapko padha to man khush ho gaya....mehsoos ho raha hai ki kitna kuch miss kar rahi hu.

OnlinePharmacy का कहना है कि -

udJf0K Your blog is great. Articles is interesting!

buy viagra online buy viagra online deal herbal vi का कहना है कि -

7EfsEP Please write anything else!

meridia and pamelor का कहना है कि -

Good job!

comforters hotel and motel का कहना है कि -

Please write anything else!

name का कहना है कि -

Good job!

brittany kelley amateur poker tour का कहना है कि -

Wonderful blog.

a cook s culinary tour का कहना है कि -

Hello all!

foremost insurance company का कहना है कि -

Hello all!

ringtones का कहना है कि -

Nice Article.

का कहना है कि -

Nice Article.

cheap generic cialis का कहना है कि -

KR7iXS actually, that's brilliant. Thank you. I'm going to pass that on to a couple of people.

free ringtones polyphonic का कहना है कि -

Wonderful blog.

Anonymous का कहना है कि -

No deposit bonuses - POKER money bankrolls
all possible no deposit bonuses free poker sponsorship - make money online Good luck at the tables.

Donald Duck

Anonymous का कहना है कि -

found your site on del.icio.us today and really liked it.. i bookmarked it and will be back to check it out some more later

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://buycialispremiumpharmacy.com/#lkisy]buy cialis online[/url] - buy cialis online , http://buycialispremiumpharmacy.com/#fbaoc buy cheap cialis

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://buyviagrapremiumpharmacy.com/#iijnb]buy viagra online[/url] - buy viagra online , http://buyviagrapremiumpharmacy.com/#pkizp buy viagra online

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://viagraboutiqueone.com/#ojjll]buy generic viagra[/url] - cheap viagra , http://viagraboutiqueone.com/#peejx generic viagra

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://buyonlineaccutanenow.com/#euung]accutane online without prescription[/url] - accutane without prescription , http://buyonlineaccutanenow.com/#ozxsq buy cheap accutane

Anonymous का कहना है कि -

Great Comment and Great Post , blog , you can see my sit if you want ;thank alot buy and sell item.

Anonymous का कहना है कि -

Hi, zolpidem online - buy cheap generic ambien online http://gouhelp.com/, [url=http://gouhelp.com/]ambien without prescription [/url]

Anonymous का कहना है कि -

Li, Provigil Without Prescription - buy modafinil online no prescription http://www.provigilbenefitsonline.net/, [url=http://www.provigilbenefitsonline.net/]Buy Provigil[/url]

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://buyonlineaccutaneone.com/#ykimd]buy accutane[/url] - buy cheap accutane , http://buyonlineaccutaneone.com/#bdgtb accutane 20 mg

Anonymous का कहना है कि -

5, [url=http://www.costofeffexor.net/]Effexor No Prescription[/url] - Effexor For Sale - buy effexor without prescription http://www.costofeffexor.net/ .

Anonymous का कहना है कि -

12, [url=http://gtboy.com/]Doxycycline Medication[/url] - Doxycycline Chlamydia - buy doxycycline 100mg http://gtboy.com/ .

Anonymous का कहना है कि -

Great Post and Comment-Super Blog You Have
http://xn--d-nga.com// - http://xn--d-nga.com// - directory traduction-
directory traduction-
http://www.bestdirectoryinternational.com// - http://www.bestdirectoryinternational.com// - directory reunion
directory reunion-
http://xn--businss-vya.com// - http://xn--businss-vya.com// - start your business-
start your business-

aaa kitty20101122 का कहना है कि -

kobe 11
jordan shoes
cheap jordans
nike roshe uk
michael kors outlet
michael jordan shoes
reebok outlet
air max 2016
michael kors factory outlet
adidas outlet

adidas nmd का कहना है कि -

atlanta falcons jerseys
carolina jerseys
air jordan uk
ugg outlet
michael kors outlet
adidas nmd
houston texans jerseys
moncler jackets
nike air force 1
jordan shoes

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)