फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, October 28, 2007

मैं...(भाग-१)


मैं...रोज़ सपना देखता हूँ...

...कि एक पर्वत है मर्यादाओं का,
कि एक सागर है आंसुओं का;
कि एक पुल है टूटा-हुआ सा॥

मैं... रोज़ सपना देखता हूँ.....

कि एक इन्द्रधनुष है मेरे पास,
कि आकाश तुम्हारा है,
कि हम दोनो पंछी है; (पर कटे हुए-से)

मैं... रोज़ सपना देखता हूँ...

कि एक देह है मृतप्राय;
कि कुछ शब्द हैं निष्प्राण,
कि एक रिश्ता है अजनबी-सा...

मेरा सपना टूट रहा है..

आज बीत चला है...
दरवाज़े पर दस्तक देता है कल;
नए सपने लिए...

आओ हम-तुम कुछ नए सपने जियें....

कोई फर्क नही पड़ता.....
यदि आज का सपना,
बिना चीख-पुकार के ही,
दम तोड़ दे.............

निखिल आनंद गिरि
+919868062333

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

11 कविताप्रेमियों का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

ह्म्म्म्म्म ..... आगे ....

shobha का कहना है कि -

प्रिय निखिल
एक प्यारी सी कविता लिखी है तुमने । सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें सपने देखे हैं तुमने । सपने देखना
कभी मत छोड़ना । मेरा सपना टूट रहा है..


आज बीत चला है...


दरवाज़े पर दस्तक देता है कल;


नए सपने लिए...


आज टूट रहा है तो क्या हुआ कल फिर आएगा । एक नई सुबह लेकर । आशा की डोर कभी मत छोड़ना ।
शुभकामनाओं एवं आशीर्वाद सहित

श्रीकान्त मिश्र 'कान्त' का कहना है कि -

निखिल जी

आज बीत चला है...
दरवाज़े पर दस्तक देता है कल;
नए सपने लिए...

आओ हम-तुम कुछ नए सपने जियें....

कोई फर्क नही पड़ता.....
यदि आज का सपना,
बिना चीख-पुकार के ही,
दम तोड़ दे.............

आपकी शैली और उपरोक्त पंक्तियां मुझे विषेश रूप से अच्छी लगीं

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

आओ हम-तुम कुछ नए सपने जियें....

कोई फर्क नही पड़ता.....
यदि आज का सपना,
बिना चीख-पुकार के ही,
दम तोड़ दे.............

वाह!! अगली कडी की प्रतीक्षा में।


*** राजीव रंजन प्रसाद

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

आज दोनों की दोनों कविताएँ अमृता प्रीतम की याद दिलाती हैं। सपनों की दुनिया और ज़मीनी हक़ीकत का अंतर स्पष्ट करती आपकी यह कविता काव्य-रस भी देती है।

tanha kavi का कहना है कि -

कि एक सागर है आंसुओं का;
कि एक पुल है टूटा-हुआ सा॥

कि हम दोनो पंछी हैं

यदि आज का सपना,
बिना चीख-पुकार के ही,
दम तोड़ द

निखिल भाई,
मुझे आपकी रचना बहुत पसंद आई। बहुत सारे ख्वाब ...... बहुत सारी आशाएँ और अंत में उन्हीं सपनों के दम तोड़ने पर फर्क न पड़ने का भाव, कविता में उतार-चढाव लाता है। यही इसकी खासियत भी है।
अगले भाग के इंतजार में-
विश्व दीपक 'तन्हा'

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

गिरि जी,

कि एक देह है मृतप्राय;
कि कुछ शब्द हैं निष्प्राण,
कि एक रिश्ता है अजनबी-सा...

मेरा सपना टूट रहा है..

आज बीत चला है...
दरवाज़े पर दस्तक देता है कल;
नए सपने लिए...

आओ हम-तुम कुछ नए सपने जियें....

कोई फर्क नही पड़ता.....
यदि आज का सपना,
बिना चीख-पुकार के ही,
दम तोड़ दे.............

बढिया बहुत बढिया...

anuradha srivastav का कहना है कि -

बहुत खूब निखिल आशावादी होना अच्छी बात है।

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

निखिल जी,
सपने देखना तो जरूरी है... साथ ही सपनो को साकार करना और भी ज्यादा जरूरी... सुन्दर कविता है.

रंजू का कहना है कि -

कि एक इन्द्रधनुष है मेरे पास,
कि आकाश तुम्हारा है,
कि हम दोनो पंछी है; (पर कटे हुए-से)..

बहुत खूब निखिल बहुत सुंदर सपना सुंदर भाव और सुंदर लफ्जों में सजा
बधाई आप यूं ही सपने देखते रहे ...इंतज़ार रहेगा अगले सपने का :)

sahil का कहना है कि -

निखिल भाई, बहुत ही प्यारी कविता.मैं भारतवासी जी के विचारों से भी इत्तफाक रखता हूँ.
बधाई हो
आलोक सिंह "साहिल"

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)