फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, October 17, 2007

मुझको नहीं बुलाना तुम


अब नहीं आऊँगा, मुझको नहीं बुलाना तुम।
कि गुज़रे वक्त की तरह मुझे भुलाना तुम।।

कभी जो सामना तेरे शहर मे हो अपना;
तेरी सहेली से एक अजनबी बताना तुम।

ख्वाबों में आने की ग़र खता मैं करूँ;
बगैर माफ किये कैदी सा सताना तुम।

ग़र मेरी मौत से तेरा ज़रा भी काम बने;
हक़ तेरा पूरा है मुझपे मुझे बताना तुम।

मेरी कज़ा का जब सनम पयाम मिले;
तुम्हें कसम मेरी अश्क ना बहाना तुम।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

28 कविताप्रेमियों का कहना है :

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

पंकज जी,

सुन्दर है

गली तुम्हें कहा था क्यों छोड गये जमाना तुम

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

कुछ शेर अच्छे बन पडे हैं:

अब नहीं आऊँगा, मुझको नहीं बुलाना तुम।
कि गुज़रे वक्त की तरह मुझे भुलाना तुम।।

मेरी कज़ा का जब सनम पयाम मिले;
तुम्हें कसम मेरी अश्क ना बहाना तुम।

*** राजीव रंजन प्रसाद

Manuj Mehta का कहना है कि -

अब नहीं आऊँगा, मुझको नहीं बुलाना तुम।
कि गुज़रे वक्त की तरह मुझे भुलाना तुम।।


बहुत ख़ूब पंकज जी बहुत उम्दा कहा है अपने


ख्वाबों में आने की ग़र खता मैं करूँ;
बगैर माफ किये कैदी सा सताना तुम।

ग़र मेरी मौत से तेरा ज़रा भी काम बने;
हक़ तेरा पूरा है मुझपे मुझे बताना तुम।

बहुत ख़ूब, वाह.

shobha का कहना है कि -

पंकज जी
काफी निराशा दिखाई दे रही है । बिना आए या जाय काम कैसे चलेगा? आशा है यह निराशा कविता में ही
बह जायेगी । सस्नेह

Basant Arya का कहना है कि -

लोग आते जाते रहते है. मयखाना चलता रहता है. गम न करे

रंजू का कहना है कि -

सुंदर है ..यह शेर बहुत अच्छे लगे

ख्वाबों में आने की ग़र खता मैं करूँ;
बगैर माफ किये कैदी सा सताना तुम।

ग़र मेरी मौत से तेरा ज़रा भी काम बने;
हक़ तेरा पूरा है मुझपे मुझे बताना तुम।

अजय यादव का कहना है कि -

पंकज जी! गज़ल सुंदर है. बधाई!

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

मेरी कज़ा का जब सनम पयाम मिले;
तुम्हें कसम मेरी अश्क ना बहाना तुम।

अच्छा लिखा है..

बधाई स्वीकारें

सुनील डोगरा ज़ालिम का कहना है कि -

कुछ शेयर जरूर बेहतर हैं पर शायद कोई कमी रह गई है

सजीव सारथी का कहना है कि -

पंकज जी ग़ज़ल बहुत अच्छी है, पूरी तरह से मीटर में, भाव में कुछ नयापन खला

श्रीकान्त मिश्र 'कान्त' का कहना है कि -

पंकज जी

ख्वाबों में आने की ग़र खता मैं करूँ;
बगैर माफ किये कैदी सा सताना तुम।

लेखनी से कभी भी विरत न हों
उनको तो एक दिन स्वयं ही आना है आप जमाने के
इस आने जाने की परवाह किये बिना काव्य धर्म निर्वाह
करते रहें

अच्छा प्रयास है

parul k का कहना है कि -

पंकज जी,

ग़र मेरी मौत से तेरा ज़रा भी काम बने;
हक़ तेरा पूरा है मुझपे मुझे बताना तुम।

समर्पण……अच्छा लगा

Anish का कहना है कि -

Pankaj,
This is beyond admiration for me.

1.
There is good combination of no of words in all line.
2. Meaning is superb.

3. Selection of words r good.
4. Tukabandi is good.

Oveall, its too good.
Badhayee.

Avaneesh S. Tiwari

Gita pandit का कहना है कि -

पंकज जी!

गज़ल सुंदर है.

अब नहीं आऊँगा, मुझको नहीं बुलाना तुम।
कि गुज़रे वक्त की तरह मुझे भुलाना तुम।।

बधाई!

OnlinePharmacy का कहना है कि -

jttOEZ Your blog is great. Articles is interesting!

tramadol med का कहना है कि -

d7sMtX Nice Article.

meridia mexican pharmacy का कहना है कि -

Please write anything else!

ccsc worcester ma credit का कहना है कि -

Thanks to author.

name का कहना है कि -

Good job!

bus tours from orlando florida का कहना है कि -

actually, that's brilliant. Thank you. I'm going to pass that on to a couple of people.

bicycle tours 2007 का कहना है कि -

Wonderful blog.

great society student loan का कहना है कि -

actually, that's brilliant. Thank you. I'm going to pass that on to a couple of people.

ringtones का कहना है कि -

Magnific!

का कहना है कि -

Please write anything else!

order cialis का कहना है कि -

4KA204 actually, that's brilliant. Thank you. I'm going to pass that on to a couple of people.

free ringtones for cricket का कहना है कि -

Hello all!

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://buyonlinelasixone.com/#13069]cheap lasix[/url] - cheap generic lasix , http://buyonlinelasixone.com/#7525 lasix online

Anonymous का कहना है कि -

[url=http://buyaccutaneorderpillsonline.com/#8838]generic accutane[/url] - accutane online without prescription , http://buyaccutaneorderpillsonline.com/#12692 accutane no prescription

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)