फटाफट (25 नई पोस्ट):

Monday, September 17, 2007

काव्य-पल्लवन के लिए अपना विषय जमा कीजिए


इस बार का काव्य-पल्लवन के जल्दी आयोजित हो जाने का लाभ यह हुआ कि अगले काव्य-पल्लवन के लिए बहुत-सा वक़्त मिल गया।

अक्टूबर महीने के काव्य-पल्लवन के लिए हम विषय आमंत्रित कर रहे हं।

आप अपना विषय लिखकर २१ सितम्बर २००७ (मध्यारत्रि) तक kavyapallavan@gmail.com पर ईमेल कर दें। याद रखिए विषय समसामयिक हो, जिस पर सार्थक चर्चा हो, हर कोई लिख सके, अधिकतम ४-५ शब्दों का हों।

प्राप्त विषयों में से कोई एक विषय चुनकर २४ सितम्बर २००७ को हिन्द-युग्म पर सूचनार्थ प्रकाशित कर दिया जायेगा।

जो पाठक नये हैं वो काव्य-पल्लवन के बारे में और काव्य-पल्लवन के पुराने अंकों को नीचे की कड़ियों पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

काव्य-पल्लवन क्या है?

अंक-१
अंक-२
अंक-३
अंक-४
अंक-५
अंक-६
अंक-७

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 कविताप्रेमियों का कहना है :

anitakumar का कहना है कि -

काव्य पल्लवन के लिए विषय मांगने के लिए धन्यवाद
मैं विषय देना चाहूंगी-" युवा पीढ़ी", "आज की नारी", "रिश्ते","सपने"।……:)

vaibhav का कहना है कि -

Kavya Pallwan ke leye mera vishay hai POLIO AUR HAMARA DESH

Shishir Mittal (शिशिर मित्तल) का कहना है कि -

रामसेतु का ध्वंस

vipul का कहना है कि -

Mai kavya pallavan ke liye vishye dena chahunga " Life in India "

सजीव सारथी का कहना है कि -

एक विषय देना चाहूँगा " सूफी"
सूफी शब्द से शायद सभी परिचित होंगे, सूफी अध्यात्म का एक ऐसा रूप है जहाँ खुदा या इश्वर कोई सातवें आसमान पर बैठा दर्शक नही है वह प्रेमी की आरजू है, साँसों की जुस्तजू है, वो जिसका विसाल भी प्यारा है और वियोग भी, मेरा ख़्याल है की इस विषय पर हमारे सभी कवि मित्र कुछ चमत्कारिक प्रयोग कर पायेंगे

रंजू का कहना है कि -

मैंने जो दो विषय सोचे हैं वो हैं

.१.अभिव्यक्ति.

ya .........

२. गीत का जन्म

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

" अंध-विस्वास और आधुनिक समाज "

मैं यह विषय देना चाहूँगा,

-धन्यवाद

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)