फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, August 30, 2007

मिटटी


मेरे भीतर की मिटटी सूखी थी,
बरसों की सूखी ,
अब्र का कोई भी टुकड़ा,
उस पर नहीं बरसा था,
बिवाइयाँ फट गयी थी,
एक दिन - यूँ ही कुरेदा तो,
कुछ ख़्वाब मिले,
अश्कों से उन्हें गीला किया,
लोई बना कर उनकी,
वक़्त के चाक पर धर दी,
उँगलियों से तजुर्बों की,
आड़े-तिरछे रूप दे डाले,
ख्वाबों को शक्लें दे दी,
नाम दे डाले।
सूखी मिट्टी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या-क्या जोड़ता रहा मैं ।

------सजीव सारथी ---------

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

26 कविताप्रेमियों का कहना है :

RAVI KANT का कहना है कि -

सजीव जी,
बहुत अच्छा लिखा है।

मेरे भीतर की मिटटी सूखी थी,
बरसों की सूखी ,
अब्र का कोई भी टुकडा,
उस पर नही बरसा था,

बहुत खूब!

बिवाइयां फट गयी थी,
एक दिन - यूं ही कुरेदा तो,
कुछ ख़्वाब मिले,

सुन्दर रचना के लिए बधाई।

Yatish Jain का कहना है कि -

"सुखी मिटटी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या क्या जोड़ता रहा मैं । "
Bahut badiya

Manish का कहना है कि -

जिंदगी के अरमानों को सूखी फटी मिट्टी में तब्दील होते देखने के भाव को अच्छी तरह उकेरा है तुमने सजीव.
बिवाइयां फट गयी थी,
एक दिन - यूं ही कुरेदा तो,
कुछ ख़्वाब मिले,

बहुत खूब!

पर कविता का अंत प्रभावशाली नहीं बन पड़ा है। लिखते रहें।

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

सजीव जी,
बहुत ही अच्छा लिखा है आपने।

एक दिन - यूं ही कुरेदा तो,
कुछ ख़्वाब मिले,
अश्कों से उन्हें गीला किया,
लोई बना कर उनकी,
वक़्त के चाक पर धर दी,
उँगलियों से तजुर्बों की,
आड़े-तिरछे रुप दे डाले,
ख्वाबों को शक्लें दे दी,
नाम दे डाले।

सुखी मिटटी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या क्या जोड़ता रहा मैं।

बिम्ब इतना सजीव है कि हर व्यक्ति अपने जीवन से इसे जोड सकता है।

*** राजीव रंजन प्रसाद

रचना सागर का कहना है कि -

सूखी मिट्टी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या-क्या जोड़ता रहा मैं ।

शून्य में कविता को छोड कर सोचने के बहुत से आयाम आपने पाठको को दिये हैं। कविता प्रसंशा की पात्र है।

अजय यादव का कहना है कि -

सजीव जी!
बहुत ही सुंदर कविता है. मिट्टी का बिम्ब बहुत सुंदर और प्रभावी बन पड़ा है. बधाई!

shobha का कहना है कि -

सजीव जी
बहुत ही भावपूर्ण रचना है । आपके अन्दर की मिट्टी कभी भी सूखने ना पाए यही
कामना है । सस्नेह

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

सजीव जी,
ह्र्दय को स्पर्श करने वाली इस कविता की रचना के लिए बधाई स्वीकारें।
एक दिन - यूँ ही कुरेदा तो,
कुछ ख़्वाब मिले,
अश्कों से उन्हें गीला किया,
लोई बना कर उनकी,
वक़्त के चाक पर धर दी,
उँगलियों से तजुर्बों की,
आड़े-तिरछे रूप दे डाले,
ख्वाबों को शक्लें दे दी,
नाम दे डाले।
सूखी मिट्टी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या-क्या जोड़ता रहा मैं ।

वाह! एक सम्पूर्ण कविता की सब बातें हैं इसमें।

रजनी भार्गव का कहना है कि -

अब्र का कोई भी टुकड़ा,
उस पर नहीं बरसा था,
बिवाइयाँ फट गयी थी,
एक दिन - यूँ ही कुरेदा तो,
कुछ ख़्वाब मिले,
बहुत अच्छा चित्रण है.

रंजू का कहना है कि -

सूखी मिट्टी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या-क्या जोड़ता रहा मैं ।

सजीव जी बहुत खूब बधाई।

anitakumar का कहना है कि -

सजीव जी
बहुत सुन्दर लिखा है॥थोड़े ही शब्दों में बहुत कुछ कहा है। वो ख्वाब जिन्हें आपने नाम दे डाले, भगवान से प्राथना है कि जल्दी पूरे हों ।

गिरिराज जोशी का कहना है कि -

बहुत खूब!

संजीवजी,

एक बहुत ही खूबसूरत अतुकांत! लय, भाव, शब्द... सभी उत्तम!

बहुत-बहुत बधाई!!!

Avanish Gautam का कहना है कि -

अच्छी कविता...लेकिन पढ्ते वक़्त गुलज़ार याद आते है...हो सके तो दूसरे कवियो के प्रभावो से बचिये..
.


शुभकामनाओ सहित

अवनीश गौतम

tanha kavi का कहना है कि -

बहुत सुंदर रचना है सजीव जी। मिट्टी का बिंब लेकर आपने अपनी मन:स्थिति का जो रेखांकन किया है , काबिले-तारीफ है। हर एक शब्द कसे हुए हैं।

अश्कों से उन्हें गीला किया,
लोई बना कर उनकी,
वक़्त के चाक पर धर दी,
उँगलियों से तजुर्बों की,
आड़े-तिरछे रूप दे डाले,
ख्वाबों को शक्लें दे दी,
नाम दे डाले।

कविता का सही उदाहरण है यह।
बधाई स्वीकारें।

विपिन चौहान "मन" का कहना है कि -

सजीव जी..
शब्द.. लय..भाव.. बिम्ब
सभी ने प्रभावित किया है..
शुरु से लेकर अन्त तक कविता पाठक को बाँधे रखने में सक्षम है..
बधाई स्वीकार कीजिये..
आभार

"राज" का कहना है कि -

मेरे भीतर की मिटटी सूखी थी,
बरसों की सूखी ,
अब्र का कोई भी टुकड़ा,
उस पर नहीं बरसा था,


कुछ ख़्वाब मिले,
अश्कों से उन्हें गीला किया,

सूखी मिट्टी कुरेदता रहा मैं,
जाने क्या-क्या जोड़ता रहा मैं ।
**********************
सजीव जी!!!!
आपने बहुत सही लिखा है....मनोदशा को जिस तरह से आपने मिट्टी से तुलना की है.....काबिले तारीफ़ है.......मुझे कोइ खामी नज़र नही आ रही है......बहुत ही उम्दा लगी आपकी यह रचना....

Alpana Verma का कहना है कि -

अच्छी कविता है।
बधाई।
Alpana Verma

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

यह कविता प्रभावित नहीं करती क्योंकि इसमें जीवन के क्रम को, अनुभव को, सपनों को मिट्टी की गति दी गई है और कुछ नहीं। फ़िर भी शिल्प की खासियत तो है ही।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है कि -

आदमी क्या है खिलौना ही तो है।
कब मिले मिटटी में है किसको खबर।
मिटटी की याद दिलाने के लिए बधाई।

Jianxiang Huang का कहना है कि -

0729
kate spade sale
mulberry outlet
burberry outlet
nike sneakers
ravens jerseys
hermes belts for men
vans for sale
nike free 5.0
ralph lauren uk
vikings jerseys
cartier love bracelet
soccer jerseys
nike free run uk
hermes bags
dwyane wade jersey
tim duncan jersey
nike free run
dansko outlet
nhl jerseys
gucci shoes
coach outlet store
barcelona football shirts
the north face outlet store
oakland raiders jerseys
toms shoes
san antonio spurs jerseys
burberry outlet online
rolex watches,swiss watch,replica watches,rolex watches for sale,replica watches uk,rolex watches replica,rolex watches for sales
coach outlet canada
new york knicks jersey
michael jordan jersey
oakley sunglasses
gucci outlet

风骚达哥 का कहना है कि -

20150930 junda
Abercrombie & Fitch Factory Outlet
Abercrombie T-Shirts
canada goose outlet online
coach factory outlet online
Wholesale Authentic Designer Handbags
Oakley Vault Outlet Store Online
Louis Vuitton Handbags Discount Off
nike trainers
michael kors outlet
coach factory outlet
cheap toms shoes
Michael Kors Outlet Online Mall
Coach Factory Outlet Online Sale
michael kors uk
Abercrombie And Fitch Kids Online
louis vuitton
true religion jeans
cheap jordan shoes
Louis Vuitton Handbags Official Site
Mont Blanc Legend And Mountain Pen Discount
cheap uggs
tory burch outlet
ugg boots
coach outlet
Michael Kors Handbags Huge Off
Hollister uk
michael kors handbags
louis vuitton outlet
uggs australia
Discount Ray Ban Polarized Sunglasses

Gege Dai का कहना है कि -

michael kors uk
mcm backpack
michael kors canada
swarovski outlet
hermes belt
hermes outlet
nba jerseys
cartier watches
ferragamo outlet
coach outlet online
nike uk store
gucci sunglasses
foamposite shoes
louis vuitton pas cher
true religion outlet
lacoste pas cher
michael kors outlet
mac cosmetics
cheap jordan shoes
ed hardy clothing
coach outlet canada
nike outlet store
coach outlet
gucci outlet online
polo ralph lauren
michael kors handbags
air jordan 13
michael kors handbags
louboutin pas cher
swarovski jewelry
coach outlet online
celine outlet online
timberland shoes
michael kors canada
air jordan 11
16.7.18qqqqqing

chenlina का कहना है कि -

fitflop sandals
michael kors handbags
michael kors outlet
oakley sunglasses outlet
louis vuitton outlet
giuseppe zanotti sandals
adidas nmd
coach outlet
fitflops
coach factory outlet
juicy couture
fitflops sale clearance
ray ban wayfarer
timberland boots
adidas running shoes
coach outlet store online clearances
christian louboutin outlet
michael kors outlet
longchamp handbags
celine handbags
nike air max 90
coach outlet
polo ralph lauren
air jordan pas cher
adidas superstar
louis vuitton outlet
replica watches
adidas outlet
coach factory outlet
ralph lauren polo
ralph lauren outlet
timberland outlet
kate spade handbags
louis vuitton
louis vuitton
toms shoes
michael kors outlet clearance
coach outlet
christian louboutin sale
gucci handbags
chenlina20160729

raybanoutlet001 का कहना है कि -

toms outlet
michael kors handbags
nike blazer
michael kors outlet
michael kors outlet
michael kors handbags
cheap jordans
adidas nmd
michael kors handbags
fitflops

千禧 Xu का कहना है कि -

cheap oakley sunglasses
saics running shoes
air jordan uk
versace
pandora charms
chicago bears jerseys
cheap jordan shoes
arizona cardinals jerseys
ed hardy
broncos jerseys

1111141414 का कहना है कि -

irving shoes
pandora jewelry
longchamp handbags
asics running shoes
nike air zoom pegasus 32
roshe run
yeezy shoes
new england patriots jerseys
nike air force
michael kors purses

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)