फटाफट (25 नई पोस्ट):

Thursday, May 17, 2007

नयनों की बात



नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है
तन-मन में एक बिजली-सी कौंध जाती है
साँसों की लय में गुम हो जाती है साँसें
शबनम जैसे जल के शोला हो जाती है


नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है
तन-मन में एक बिजली-सी कौंध जाती है


उन्मादित हो उठती है दिल की धड़कन
मादक सा हो आता है सब सूनापन
अल्साई सुबह-सी बेला की ठंडक में
कोई तमन्ना मचल सी जाती है


नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है
तन-मन में प्यार की मादकाता फैल जाती है


झुकी-झुकी नम सी हो जाती हैं बोझील पलकें
धुँधली-धुँधली साँझ जब घिर आती है
मधुर मिलन को मचलता मन मेरा
महुआ की सुगंध जिस्म में दौड़ जाती है


नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है
सतरंगी सपनों से दुनिया सज़ जाती है


मेहंदी रच जाती है करों पर
नयनों में काजल घुल जाता है
सावन से काले गेसू का जादू
मनवा भटका सा जाता है
उर में जैसे कोई रागनी छिड़ जाती है
भीगी-भीगी मुस्कान से प्रीत सज़ जाती है


नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है
तन-मन में एक बिजली-सी कौंध जाती है !!


करों ......हाथों

उर ...हृदय


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

60 कविताप्रेमियों का कहना है :

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

हमेशा की तरह एक अच्छी रोमांटिक रचना।

"झुकी झुकी नम सी हो जाती है बोझील पलकेधूंधली धूंधली साँझ जब घिर आती हैमधुर मिलन को मचलता मन मेरा महुआ की सुगंध जिस्म में दौड़ जाती है"

बहुत बधाई।

*** राजीव रंजन प्रसाद

salman का कहना है कि -

is baar kuch hat kar vishudh romantic rachna dekh kar dil prassan ho gaya , bahut dino se ranjana ji se nivedan tha ki kuch vishusdh anuragi kavita preshit kare, is baar woh yahan dekh kar dil prassan ho gaya, unko iske liye sadhuwad,

ranjana ji kavay ke chetra mai ek bahu aayami waykative hai jitni khubsirati se woh nari ki viraha ko uske dard ko apne kavay main ubharti hai utni hi khubsurati se uske pyar se bhare dil ka chitran apne kavay main karti hai , iska sabse bada udharan yeh kavita hai, bahut hi khubsuarti se nari haraday ki prem ko ubhara hai apne kavay mai dhabado ka shara dekar ranjana ji ne uske kliye dhanvad

RANA का कहना है कि -

Are Mohtarma ab kya taarif karen aapki!!! Ab aap in cheezon se upar uth chuki hain! Behad romantic poem hai..."Mahua" jaise shabdon ka prayog kavita ko rustic feel deta hai aur ek "desipan" ka jo ehsaas hota hai na wo achhi tareh aapne dilaaya hai is kavita ke madhyam se...
Intezaar rahega aagali rachana ka...

Rahul का कहना है कि -

bahut hi badhiya ...
"झुकी झुकी नम सी हो जाती है बोझील पलकेधूंधली धूंधली साँझ जब घिर आती हैमधुर मिलन को मचलता मन मेरा महुआ की सुगंध जिस्म में दौड़ जाती है"
bahut hi pyaare shabd...

mahua ki sugandh ...
madakata aur prem .. waah

Tushar Joshi, Nagpur (तुषार जोशी, नागपुर) का कहना है कि -

नयनो की बात
जब नयनो से हो जाती है
तन मन में एक
बिजली सी कोंध जाती है
सांसो की लय में
गुम हो जाती है साँसे
शबनम जैसे जल के
शोला हो जाती है

बडी मनभावन कविता है। बहोत पसंद आयी। रंजना जी आपको बधाई।

Shikha का कहना है कि -

Ranju di,

Har baar ki Tarah, bahut hi achha laga padh kar... Bahut khoobsurt khayaal hai... :)

"Ek baar phir se naya kamaal kar dikhaaya aapne,
Nasamjho ko bhi naino ki bhasha padhna sikhaaya aapne..."

Rishi का कहना है कि -

nice one no words to descibe its depth.

Anonymous का कहना है कि -

Aadab Mohtrma
Aap ki kriti ko pad kar laga mano Nayano ki bhasha ko aap se behter or koi nahi samajh sakta.

Shabdo ko karambadh kar aap ne jo madakta kis p[arkar ek mala ke roop main piroya hai wo wakai bahoot khoobsoorat hai.

Aap aise hi likhte rahi yahi dua hai meri

Nirbhay का कहना है कि -

Shabdon Ko Shabdon Se Jord Kar
Taar Prem Geet ke Ched Kar
Aapne Likh Di hai Kavita ek aisi
Prashansha Kartein Hain Jise sabb dekh Kar..

Bohat hi nishchal bhavon ke sath ek behad khoobsurat rachna, Bohatt acha laga pard kar.

-- Nirbhay

Poonam का कहना है कि -

Excelent superb koi jabab he nahi." hai milen ko mechteta mun mera mahua ki sughend jism mei daud jati hai"

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

मिलन की घडियों का सजीव चित्रण कर दिया आप ने रंजू जी, कभी कभी तो दिल भी दुत्रगति से दौडने लगता है और काबू में रखना मुशकिल होता है जब वो सामने होते हैं...

RATIONAL RELATIVITY का कहना है कि -

Dil ki bhasa nayano se hi padhi jati hai
Pyar me inki khumari badh hi jati hai
Alsai aakhon ki chingari sare wazudi ko jala deti hai,
Jo hum zuba se nahi kah pate
Ye bojhil aankhe bakhubi kah jati hai.
रंजु जी,आपकी य़ह रचना बहुत सुंदर और हसीन है.
-Dr.R.Giri

samreen.mirza का कहना है कि -

Badi pyaari si kavita hai, scah mei dil ko chujati hai, lagta hai yeh aapna haal bhi bata jaati hai.

Manish का कहना है कि -

naino ki bhasha toh hum bhi jante thee.....
dilo ko naino se chune ka hunar hum bhi jante thee.....
padd ker aap ki rachna ko pahli baar mahsus huaa.....

naino ki baat jab naino so hoo jati hai.....

tan-man mai bijli si kondh jaati hai...
satrangi sapno se duniya saj jati hai...

ji wah......bahut khoob.........
Dil ko chuu gaya aap ka yeh khayal .....


Iss sunder kavita ke liye aap ko bahut bahut badhayia.....

गिरिराज जोशी "कविराज" का कहना है कि -

हिन्द-युग्म पर लगातार प्रेम वर्षा हो रही है, मोहिन्दरजी, पंकजजी, डॉ. विश्वासजी के बाद आपकी यह कविता...

आपकी प्रत्येक पंक्ति में अथाह प्रेम झलक रहा है... "नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है"... वाह!... बिना मिलावट के विशुद्ध प्रेम!

आह! आनन्द! आनन्दम!!!

Anonymous का कहना है कि -

Wah.Kiya baat hai apki. App Etna ascha likhti hai .....Realy 2 gud......

Barstey hai jab yeh mery nain tumahari yaad mein
Bahut sey logon ko yeh suhata nahi hai

nain bhery rehtey hai hain tery yadon sey
Ushal jaey unme sey kush ansu koi kiya karey
khuli akhon ko yeh drish bahata nahi.....


Arica

Asheesh Dube का कहना है कि -

साँसों की लय में गुम हो जाती है साँसें... सुन्‍दर भावाभिव्‍यक्ति है।

masoomshayer का कहना है कि -

नयनों की बात जब नयनों से हो जाती है
तन-मन में एक बिजली-सी कौंध जाती है
साँसों की लय में गुम हो जाती है साँसें
शबनम जैसे जल के शोला हो जाती है

bahut hee khoob likhtee ho ranjana har shabd ek kavita hai
Anil

amanimpex का कहना है कि -

nayno ki bhasha koi tum se seekhe, bahot achhe, keep it up, its a beautiful poem

rajan का कहना है कि -

Ohhh my God!!!! its really nice dear...I was knowing ki aap achcha liktee hain...lekin aap itna itna achcha likhti hain yeh malum nahi thaa...just Keep it up my dear friend...God Bless u dear...:)

aryan का कहना है कि -

wah wqah jee....

teri ankhon main bas jane ki chahat thi kabhi....
har ik aahat se jhalkti teri aahat thi kabhi....
jhuki jhuki si nigahon ka bharam rakh na ske....
dariya e mai main doob jana hi aadat thi kabhi.....

...
aapki rachnaon main bilkul aaki tarah paqeezgi hai....khush rahoiyte aur likhti rahiye....

Manoj का कहना है कि -

ranjana mam...........aapka likha ye nayno ki bat....mujhe bahut achha laga.........rly mein

Ravi का कहना है कि -

nice poem

Addy का कहना है कि -

thanks for send me this wonderful poetry infact i am very pleased to read it.....thanks again for this beautiful poem like u....

Regards,
Aditya

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

बातें बहुत सरल मगर बहुत प्यारी हैं। प्यार के बोल हैं, उसमें कवयित्री का दिल भी समाहित है, फ़िर प्यारा गीत बनने से कौन रोक सकता था।

शबनम जैसे जल के शोला हो जाती है
बिलकुल सही फरमाया आपने।

उर में जैसे कोई रागनी छिड़ जाती है

इतने पाठकों ने इतना कुछ कहा, कहाँ से लाऊँ तारीफ के शब्द!

sunita (shanoo) का कहना है कि -

रंजना जी बहुत सुंदर बोल है कविता के, सुन्दर अभिव्यक्ति,मन को छूने वाली कविता है...
सुनीता(शानू)

Sanju का कहना है कि -

Hi mam, apne bahut acha likha hai. thnks for your nice poem. In respect of your poems i say something from our opinion

"On open minds and empty hearts,
despairs flowers doth grow.

But on a heart of passion and a spirit stalwart,
the wine of love does flow.

The hidden grove of eternal love,
is locked with seals many.

The innocent eye and playful soul,
opens them with laughter merry.

Chilling stories and violent visions of daemons from afar,
are laid to rest and turned to dust by beauty that evil can't bar.
"
हमेशा की तरह एक अच्छी रोमांटिक रचना।

Sanju

Gita ( Shama) का कहना है कि -

सुन्‍दर
भावाभिव्‍यक्ति

हमेशा की तरह
एक अच्छी
रोमांटिक रचना।
रंजना जी
बधाई।

देवेश वशिष्ठ ' खबरी ' का कहना है कि -

मेहंदी रच जाती है करों परनयनों में काजल घुल जाता हैसावन से काले गेसू का जादूमनवा भटका सा जाता हैउर में जैसे कोई रागनी छिड़ जाती हैभीगी-भीगी मुस्कान से प्रीत सज़ जाती है

नयनों की बात जब नयनों से हो जाती हैतन-मन में एक बिजली-सी कौंध जाती है !!

सफल श्रंगारी रचना।
बधाई।

neelmani का कहना है कि -

ranjana g bahut he deep likha hai

such kahu maza Ah gaya

har labz [red]tarif-a-kabil[/red] tha

aisay he likthtay rahain..

Congrateszz 2 U

flowlinefire का कहना है कि -

नयनो की आभिलाशा
नयनो की भाषा
नयनो की आशा
---रंजना जी बहुत सुंदर वणॆन किया है।
विनोद

Faiyaz का कहना है कि -

Ranjana ji.......

Waqai mai mere paas aap ki taarif k liye alfaaz nahin hain........aap ki yeh kavita itni pyari aur dil ko chu lene wali hai k mai kya kahun........
Mai to hamesha se aap ki in Kavitaon ka fan hoon....magar yeh kavita sach mai kuch hat k hai aur dil ko bahut acha laga.....
khuda aap ko hamesha khush aur tandrust rakhe aur aap yuhn hi hamesha itne pyari kavita likhte rahe......aur hamari khush kismati hogi k hum aap k kavitayen padh sake.....

take care.......

anil का कहना है कि -

Ranjana ji Bhavanao ki Abhvaykti ke is sabse aham kirdar "Nayan" per likhke aapne dil jeet liya. Aap ki lekhni din per din pariskrit hoti ja rahi hai. Aaj ke pragtiwadi yug me is tarah ke rachnaye kabhi kabhi hi milti hai.

Swami Anil (Anil Tiwari)

sajeev sarathie का कहना है कि -

बहूत अछे .... सुन्दर भाव ... और प्रस्तुती उस से भी मधुर ... बधाई

purvabhatia का कहना है कि -

Cool...one of your best written poems :)

All the best for more!

Divine India का कहना है कि -

क्या कहूँ जब लोगों ने इतना कुछ अच्छा कहा है…तो अब कहने को कुछ भी नहीं बचा…मगर मेरा मात्र यह कहना है कि नयनों की जो परिभाषा की अपेक्षा थी वह कुछ और गहरी हो सकता थी…।
कोई उम्मीद सी सिहरन भी उठ जाती है भावों में यह नयनों का ही समर्पण है जिसमें समां कर उतर जाते है किसी के हृदय में

tanha kavi का कहना है कि -

der hui isliye kshama chahata hoon. maine apki rachna usi din padh li thi,lekin tippani dene ka waqt na nikaal paya.
sach mein aapki rachna badi hi sundar hai. poora desi mahaul taiyaar kiya hai apne. kabhi kabhi gaanv ki bhi yaad dilaayi hai apne upamaon se.

ek badi si sundar aur manbhavan rachna ke liye badhai sweekarein.

manav का कहना है कि -

Waaah Waaah beautifull Ranju...Pyar ke rang acche charaye hai tumne nayno me...really amazing....!!!

Gaurav Shukla का कहना है कि -

अच्छा लिखा है

वसंत का कहना है कि -

Read these lines.

झुकी-झुकी नम सी हो जाती हैं बोझील पलकें
धुँधली-धुँधली साँझ जब घिर आती है
मधुर मिलन को मचलता मन मेरा
महु‌आ की सुगंध जिस्म में दौड़ जाती है

Arent's they romantic? I like them the most. Too good poem. Keep writing.

hunny का कहना है कि -

bahut hi khub , Ranju ji aap Bahut aacha likhti hai. ankho ki bhasa padhna to koi aap se sikhe.

Gulshan का कहना है कि -

Ranjana Ji,

Bahut sunder romantic kavita di hai aapne. Especially, मधुर मिलन को मचलता मन मेरा महुआ की सुगंध जिस्म में दौड़ जाती है... man ko chhune wala hai...baddhai..

पंकज का कहना है कि -

कुछ बेहतरीन उपमायें:
साँसेंशबनम जैसे जल के शोला हो जाती है.
और
मन मेरा महुआ की सुगंध जिस्म में दौड़ जाती है.

श्रंगार और पूर्ण श्रंगार।
रचना पढ़ये और खो जाइये कलम के जादू में।

utkarsh का कहना है कि -

mam ur poetry is really awesome....

Anonymous का कहना है कि -

Abb bhai aisaa bhi kuch khaas nahin likhaa to jitnaa shore machaa diyaa public ney.....

normal see baat kahi hai.. vo bhii
parameters mein nahin hai .

I would say its ok ok types .. not so good.

inderjit का कहना है कि -

Ranjana ji, congrats for " naino ki bhasha......' We wish....aap eise he likhati rahen.
With warm good wishes,
******Ij Singh.

sanju का कहना है कि -

"EK PYARI SI KHUBSURAT RACHNA"
"EK AISI RACHNA JO AAPKO BARISH KI RIMZIM ME ZOOMNE K LIYE MAZBUR KAR DE"
"EK AISI RACHNA JO SHAM KI MADHUR BELA ME AAPKO SOCHNE K LIYE MAZBUR KAR DE"
"EK AISI RACHNA JO MILAN KI ROMANTIC PAL ME AAPKO KUCHH KAHNE K LIYE MAZBUR KAR DE"

Anonymous का कहना है कि -

SUBHAN - ALLAH...........SUBHAN - ALLAH

vinu का कहना है कि -

nayano kee bhasha badi sunderta aap samjha rahe hai,
ham samjhne kee koshis kiye ja rahe hai,


"Mere nayan'"

naino ke bhasa,
samjhne ke koshis,
karta hoon,

madakta,
chanchalta,
prem ,tolne kee koshis karta
hoon,
aur
nayno kee
bhasha
apne ahasaash se,
in band ankho main
chitr banatee hai
man kee ankhai,
bunti hai
ek sunder kahani
nayan,julf, jism,ada,
par wo sab
tut jata hai
ek kalpana
ke tarah
bas bahatee hai
tap tap
kuch namkeen bundai
jinko ludakte hue mahsoos
kar sankta hai mera man
par dekh nahi sakti hai
ankhai,
jo sunder hai,
bhawpurn hai
gol ,moti kajrari, chanchal,
par jyoti vihin,
jiske bina sab nirarthak hai
aknhon ka rona ek arth hai
baki sab varth hai
kynuki main hoon ek banzar jameen
chaltee firti machine
ek "drasthiheen"

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

रंजना जी,
पचासवीं टिप्पणी है पर रचना उतनी गहरी नहीं है कि इतनी तारीफ की जाए.वैसे लोगों ने बहुत पुल बाँधे हैं तारीफों के पर मैं व्यक्तिगत स्तर पर इसमें कोई खास काव्यरस नहीं ढूंढ पाया.यदि आप प्रेमगीत लिखना चाहती थीं तो यह तो ध्यान रखती कि ये समीर के गीतों की तरह चन्द घिसे पिटे शब्दों में ना बंध कर रह जाए.यदि काव्य कोई नई बात ना कहे या नए ढंग से ना कहे तो उसका क्या औचित्य हो सकता है?
अनुभवी होने के नाते हम आपसे बहुत अधिक की उम्मीद करते हैं.कृपया उन्हें पूरा कीजिए. आप काफी अच्छा लिख सकती हैं इससे.

Sanjeet Tripathi का कहना है कि -

बहुत ही बढ़िया!
ठीक महुए की मादकता की तरह,

DEEPAK का कहना है कि -

naynao ki batt,kya kahu srif tina kah sakta hu ki kisi nari may sab say kubsurat uski aakhe hoti hai........or phir pyar to naynao say hi hosakta hai

TAPASHWANI का कहना है कि -

nahi koi ahashas bacha hai,
na koi ummid hai baaki,
jaane kitne sadiyon se,
mere dil ki sanse pyasi,

ab to har dar uska bhi ,
mujhko to suna lagta hai,
na chahe dil, marne ka,
na jina, achchha lagta hai,


ye duniya raash nahi aati,
na iske bin ji sakta hu,
usko chhune ka hak to hai,
par usko chhune se darta hun.

tan sital hai yaar magar,
na jaane kyun dil jalta hai,
hun ruka hua main warson se ,
dil me hardam kuchh chalta hai


tapashwani

रंजू का कहना है कि -

आप सब दोस्तो का धन्यवाद जो इतने प्यार से मेरी इस रचना को अपने पढ़ा
जो कमियाँ बताई गयी हैं मैं उन का ध्यान रखूँगी ..आप सब यूँ ही अपना सहयोग बनाए रखे ..तहे दिल से आप सबका शुक्रिया ....

Anonymous का कहना है कि -

Gaurav solanki ji !

tney sare logon kee bheed mein koi to nikalaa jis ke saath mere vichaar miltey hain....

aap ki baat solah aane sahii hai.

comments ke counts se kavitaa kaa achaa honaa nirdhaaritt nahin kiyaa jaa saktaa.....

Ranju aap likhti rahey ... Gaurav aap bhi likhtey rahein.

mujhe aap dono ki agali kavitaaoon kaa intezaar raheygaa.

अशोक लालवानी का कहना है कि -

रंजना जी...

कुछ है जो लबों पे आ नही सकता इसलिए
ख़ामोशी की भाषा, पलकों के सहारे कही और सुनी जाती है।

आपकी रचना अच्छी है मगर शब्द चयन तथा शैली को और बेहतर करने को कोशिश कीजिये।
आपकी अगली रचना का इंतजार रहेगा।

रंजू का कहना है कि -

नमस्ते बेनाम जी ..हाँ जी मैं मानती हूँ कि कॉमेंट्स किसी कविता के अच्छे होने का मापदंड नही है पर पढ़ने वाले की प्रतिक्रिया लिखने वाले को एक नयी सोच और उत्साह देती है :)....आपके लिखे ने मुझे और अच्छा लिखने को प्रेरित किया है आगे भी यूँ ही अपनी अनमोल राय देते रहे लेकिन अपने नाम के साथ ...मुझे ज़्यादा अच्छा लगेगा :)जब नाम है तो बेनाम क्यूं रहे . मेह्फिल में सब तुमसे अनजान क्यूं रहे
...तहे दिल से आपका शुक्रिया !!:)



अशोक जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया ..मैं आपकी बात का ध्यान रखूँगी!!

ajay का कहना है कि -

सरल श्रंगारिक रचना।

mahashakti का कहना है कि -

सुंदर और भावपूर्ण रचना के लिये बधाई स्विकार करें

abhay का कहना है कि -

ome  |   Questions |  Experts |  Categories

Tasveer Banaye Kya Koi
Kya Koi Likhe Tujh Pe Kavita
Rangon Chhandon Mein Samayegi
Kis Tarah Se Itni Sundarta
Ek Dhadkan Hai Tu Dil Ke Liye
Ek Jaan Hai Tu Jeene Ke Liye

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)