फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, April 25, 2007

ख्वाबों के ज़ज़ीरे


देखे हैं डूबे हुये ख्वाबों के ज़ज़ीरे यहाँ
देखे हैं भटकते चाहतों के काफिले यहाँ...

हकीकत से हारी है दिल वालों की दुनियाँ
गम-ए-दिल की है ये हम पर मेहरबानियाँ
नहीं बस सका मेरे प्यार का आशियाँ
सुनने को तरसे हम खुशियों की शहनाइयाँ

देखे हैं डूबे हुये ख्वाबों के ज़ज़ीरे यहाँ
देखे हैं भटकते चाहतों के काफिले यहाँ...

अब तो रह गई पीछा करती कुछ परछाइयाँ
मेरे हसींन ख्यालों मे बसी कुछ निशानियाँ
जमाने की तरह बेवफा नहीं मेरी तनहाइयाँ
आज फिर लुटी है ज़िन्दगी करते मौत की नीलामियाँ

देखे हैं डूबे हुये ख्वाबों के ज़ज़ीरे यहाँ
देखे हैं भटकते चाहतों के काफिले यहाँ...

*********अनुपमा चौहान***********

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 कविताप्रेमियों का कहना है :

Gaurav Shukla का कहना है कि -

खूबसूरत नज़्म है
वेदना को बहुत सुन्दरता से उकेरा है आपने

"देखे हैं डूबे हुये ख्वाबों के ज़ज़ीरे यहाँ
देखे हैं भटकते चाहतों के काफिले यहाँ"

सुन्दर
सस्नेह
गौरव शुक्ल

ajay का कहना है कि -

देखे हैं डूबे हुये ख्वाबों के ज़ज़ीरे यहाँ
देखे हैं भटकते चाहतों के काफिले यहाँ...

खूबसूरत नज्म। बधाई अनुपमा जी।

रंजु का कहना है कि -

हकीकत से हारी है दिल वालों की दुनियाँ
गम-ए-दिल की है ये हम पर मेहरबानियाँ
नहीं बस सका मेरे प्यार का आशियाँ
सुनने को तरसे हम खुशियों की शहनाइयाँ

देखे हैं डूबे हुये ख्वाबों के ज़ज़ीरे यहाँ
देखे हैं भटकते चाहतों के काफिले यहाँ...

BAHUT KHOOB ,,,

गिरिराज जोशी "कविराज" का कहना है कि -

बहुत ही खूबसूरत नज़्म!!!

sunita (shanoo) का कहना है कि -

सुन्दर लिखा है
बधाई,..
सुनीता

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

बहुत सुन्दर नज़्म है। ख्वाबों को "ज़ज़ीरे" कहना बहुत ही सुन्दर बिम्ब है। चाहतों के काफिले भटकना भी बात को गहराई प्रदान कर रहा है। कुछ अन्य पंक्तिया जो सराहनीय हैं वे हैं:
"हकीकत से हारी है दिल वालों की दुनियाँ"
"अब तो रह गई पीछा करती कुछ परछाइयाँ"
"जमाने की तरह बेवफा नहीं मेरी तनहाइयाँ"

सस्नेह।

*** राजीव रंजन प्रसाद

मोहिन्दर कुमार का कहना है कि -

सुन्दर लिखा है अनुपमा जी
हकीकत से हारी है दिल वालों की दुनियाँ
गम-ए-दिल की है ये हम पर मेहरबानियाँ
नहीं बस सका मेरे प्यार का आशियाँ
सुनने को तरसे हम खुशियों की शहनाइयाँ

Divine India का कहना है कि -

अनुपमा,
मैं थोड़ा अपरिचित था तुम्हारे इस अंदाज से किंतु काफी अच्छा लगा यह पढ़कर…बहुत सटीक सलीके अंदाज में प्रेम और स्नेह की अभिव्यक्ति को शब्द दिये हैं…धन्यवाद!!!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)