फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, February 02, 2007

तुम्हारी कमी


ज़िंदगी तो कटती है
धीरे-धीरे कट जायेगी
पर
कमी तुम्हारी रह जायेगी।

छू लूँ आसमान तो क्या
तुम्हारे बिना,
तुमको छूने की हसरत
कवाँरी रह जायेगी।।

लाख बरसे घटायें तो क्या
लाख गाये हवाएँ तो क्या
'तुमको पा न सका'
इन फ़िज़ाओं में , ये
मेरी आह की चिंगारी रह जायेगी।।


कवि- मनीष वंदेमातरम्

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 कविताप्रेमियों का कहना है :

गिरिराज जोशी "कविराज" का कहना है कि -

संक्षिप्त मगर भावयुक्त सम्मपूर्ण कविता.

जीवन में अपनों का योगदान सचमुच अमूल्य होता है और उनके बिना जीवन निरस. यह पंक्तिया खास तौर से पसंद आयी -

छू लूँ आसमान तो क्या
तुम्हारे बिना,
तुमको छूने की हसरत
कवाँरी रह जायेगी।।

Divine India का कहना है कि -

सुंदर कविता मन में अधीरता को जगाता है…धन्यवाद!

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

कुछ पंक्तियाँ संवेदित करती हैं

"तुमको छूने की हसरत
कवाँरी रह जायेगी"

अच्छी कविता है|

raybanoutlet001 का कहना है कि -

coach outlet online
cheap nhl jerseys
michael kors outlet store
abercrombie and fitch
new balance shoes
ralph lauren
gucci sito ufficiale
cheap ray bans
replica watches
saics running shoes

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)