फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, December 06, 2006

'मेरे कवि मित्र' से 'सृजनगाथा' तक


ब्लॉगरो,

'मेरे कवि मित्र' के रचनाकारों की आवाज़ अब दूर-दूर तक सुनायी दे रही है। वेबज़ीन 'सृजनगाथा' के ताज़ा विशेषांक में इस ब्ल।ग के दस रचनाकरों में से कुछ रचनाकारों की रचनाएँ वहाँ भी प्रकाशित हुयी हैं। इनलोगों की तारीफ़ में, मुझे कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। आप स्वयं पढ़ें और मूल्यांकन करें-


६ कविताएँ- अनिल वत्स

२ गीत- अनिल कुमार त्रिवेदी

५ गज़लें- पंकज तिवारी

अस्मनियाँ- मनीष वॅदेमातरम्

वेश्या- गिरिराज जोशी

समय निकालकर 'सृजनगाथा' पर आवें।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कविताप्रेमियों का कहना है :

Anonymous का कहना है कि -

सभी बन्‍धुओं को बधाई एवं शुभकामनाऐ

गोकुल मदारी का कहना है कि -

जैसी बकवास तुम्हारी है वैसी ही तुम्हारे मित्रों की होगी. पहले सीखो कविता क्या है फिर अपने को कवि समझना. इधर उधर के शब्द जोड़ लेना क्विता नहीं होता मियां फ़न्ने खां

Anonymous का कहना है कि -

आप अभी को बधाई और भविष्य के लिये शुभकामनायें।

jeje का कहना है कि -

nike polo
jordans for cheap
chrome hearts online
kobe 9
longchamp online shop
hermes belts for men
adidas stan smith
ultra boost
retro jordans
timberland boots

liyunyun liyunyun का कहना है कि -

longchamp le pliage
nike air force
retro jordans
lebron 14
kobe bryant shoes
ferragamo belt
adidas ultra boost uncaged
Kanye West shoes
asics running shoes
michael kors factory outlet
503

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)