फटाफट (25 नई पोस्ट):

Wednesday, November 22, 2006

सदियाँ बीत गयी..


कितनी सदियाँ बीत गयीं
बुलबुल नें अपना दिल बोया
रोयी तो सींच गये आँसू
नन्हा सा अंकुर फूट पडा

सैय्याद जाल में फांस गया
अब बुलबुल पिंजरे में गाती थी
याद उसे अब भी आती थी
नन्हा सा अंकुर फूट पडा है
दिल एक पेड बन जायेगा
फिर फूलों से लद जायेगा..

आकाश भरा था आँखों में
रोती थी चीख चीख रोती थी
सैय्याद समझता था गाती है
एसे ही बुलबुल मर जाती है

दिल अब बरगद हो आया है
उसकी छाती में छाया है
फूल मगर कैसे खिलते हैं
बुलबुल गा जाये तो जानें...

***राजीव रंजन प्रसाद
रचना तिथि: ८.०१.१९९६

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कविताप्रेमियों का कहना है :

Gambhir का कहना है कि -

Vichaar bahut achhey hain.
Partantrataa ko khag kaa udaaharan lekar samjhaanaa aur uskey kaaran nature par parney vaaley prabhaav ki vyaakhyaa ati-uttam lagee kaviji.
Aur teesraa para.. jismey panchhi k aakaash mein udney ki chaah k kaaran chillaney ko uskaa gaanaa samajhney ki bhool karnaa aur hamein bhi is tarah vichaarney par mazboor karnaa ,sarvottam lagaa.

Par har-baar ki tarah is baar bhi panktiyon ko aur shabdon ko vyavasthit karney ki aavashayktaa lagee.Ek baar samay nikaalkar karney ki koshish kijiyegaa.

(((Hamaarey keemtee samay mein bhi hamsey rai maangney ki apekhshaa rakhney k liye dhanyavaad.Aashaa hai aap aisey hi apekhshaa kartey rahengey)))

विभावरी रंजन का कहना है कि -

राजीव जी,
यूँ मैं सिर्फ़ एक आलोचक हूँ जो कुछ और नहीं जानता पर आपकी कविता ने तो कुछ कहने का मौका ही नही दिया।

आकाश भरा था आँखों में
रोती थी चीख चीख रोती थी
सैय्याद समझता था गाती है
एसे ही बुलबुल मर जाती है

बहुत करुणा है इन शब्दों के गुच्छों में

व्याकुल ... का कहना है कि -

Rajiv ji...
mein ravinder tomkoria vyakul aapka aabhari hun ki aapne us din phone par mera hindyugm ke header banane hetu utsahwardhan kiya ...yah aapka baddapn hai...sach kahun to hind yugm ki nive aap logon ke sahyog se hi hai....us din phone par mein aapki baat dhang se sun nahi paya chunki kaphi tej shor ho raha tha...aasha hai aap jaise log ka hindyugm ko hamesha isi prkaar sahyog milta rahega...sab kahte hai Hindi ko khun chahiye..mai kahta hun hindyugm ko aap jaise log chahiye...

hahaha...


aapka prashanshak...

aaa kitty20101122 का कहना है कि -

basketball shoes
adidas outlet
authentic jordans
fitflops
af1
van cleef arpels
jordan shoes
adidas store
longchamp handbags
jordan shoes

adidas nmd का कहना है कि -

atlanta falcons jerseys
carolina jerseys
air jordan uk
ugg outlet
michael kors outlet
adidas nmd
houston texans jerseys
moncler jackets
nike air force 1
jordan shoes

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)