फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, October 15, 2006

लौ तुम्हारी थी


तन मन पर छा जाने वाली, लौ तुम्हारी थी
मेरी तमस में जलने वाली, लौ तुम्हारी थी

दुनिया भर से बेपर्वा मैं, डगमगाता था
उठकर राह पे लानेवाली, भौं तुम्हारी थीं
मेरी तमस में जलने वाली, लौ तुम्हारी थी

तुमसे मिलकर काम बुरा मैं, कोई कर न सका
रह रह याद आने वाली, सौं तुम्हारी थीं
मेरी तमस में जलने वाली, लौ तुम्हारी थी

दसवीं चोट से काम बन गया, बन बैठा शहज़ादा
लेकिन दसवीं ही मेरी थी, नौं तुम्हारी थीं
मेरी तमस में जलने वाली, लौ तुम्हारी थी


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 कविताप्रेमियों का कहना है :

Anonymous का कहना है कि -

"लौ तुम्हारी थी"
हाँ तुम्हारी थी.

-अच्छी रचना ।

hemjyotsana का कहना है कि -

bhut bhut ache bhav.......
behtreen rachnaa hai....
hemjyotsana.wordpress.com

sahil का कहना है कि -

bahut hi acchhi prastuti.
alok singh "sahil"

jeje का कहना है कि -

nike polo
jordans for cheap
chrome hearts online
kobe 9
longchamp online shop
hermes belts for men
adidas stan smith
ultra boost
retro jordans
timberland boots

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)