फटाफट (25 नई पोस्ट):

Sunday, August 20, 2006

खोज


मैं एक बीज हूँ खोया सा
बेखबर गर्भ में सोया सा।
बरसातों की देर है बस
फिर अंकुरों का रोयाँ सा।

मैं पवन वेग में कण-कण सी
मैं व्रुक्ष-पात में बूँद-बूँद।
मैं गीले नभ के छोर छिपी
हिमकण की आँखें मूँद-मूँद।

मैं श्यामल नभ की छाया हूँ
मैं उस असीम की काया हूँ।
जो सप्तरंग में सिमट गयी
वह इंद्रधनुष की माया हूँ ।

किरणों की उष्म दहक हूँ मैं
माटी से लिपटी महक हूँ मैं ।
हाथ में विहग के हाथ दिये
आकाश जगाती चहक हूँ मैं ।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 कविताप्रेमियों का कहना है :

Beji का कहना है कि -

सत्य सुन्दर शब्दों में....
कब बरसेंगे मेघ...कब अंकुरित होंगे ??

गिरिराज जोशी का कहना है कि -

तुषारजी शुक्रिया!!!

मनिषा जी कविताएँ इसी तरह प्रस्तुत कर हमें रसपान करवाते रहियेगा।

कविता बहुत अच्छी लगी, और भी पंक्तिया हो तो उन्हें भी जोड़ने के बाद हमें सूचित अवश्य कीजियेगा।

- गिरिराज जोशी "कविराज"

Anonymous का कहना है कि -

Ripudaman Pachauri said...

सुन्दर|
कविता अच्छी लगी|

sahil का कहना है कि -

मैं एक बीज हूँ खोया सा
बेखबर गर्भ में सोया सा।
बरसातों की देर है बस
फिर अंकुरों का रोयाँ सा।

क्या खूब समन्वय है मनीषा जी भावों का, अच्छा लगा
आलोक सिंह "साहिल"

Madhu का कहना है कि -

हिन्दि मे खोज!
http://www.yanthram.com/hi/

हिन्दि खोज अपका सैटु के लिये!
http://hindiyanthram.blogspot.com/

हिन्दि खोज आपका गुगुल पहेला पेजि के लिये!
http://www.google.com/ig/adde?hl=en&moduleurl=http://hosting.gmodules.com/ig/gadgets/file/112207795736904815567/hindi-yanthram.xml&source=imag

jeje का कहना है कि -

true religion jeans
irving shoes
yeezy shoes
air max
huarache shoes
nike huarache
kobe 11
kobe basketball shoes
michael kors handbags
lebron 13

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)