फटाफट (25 नई पोस्ट):

Friday, July 14, 2006

आख़िर जीना कौन नहीं चाहता!


कि एक कुनबा था
हँसता-खेलता
एक तीसरे ने चुगली की
आँगन में दीवार खड़ी हो गई
बड़ों ने एक दूसरे के सिर फाड़े
बच्चों ने कपड़े
आये दिन
आँगन में पत्थर बरसने लगे
दिन साज़िश में गुजरता
रात दहशत में
घर में मुर्दानी छा गई
खुशियों को काठ मार गया
आँगन का अंधियारा इतना गाढ़ा हो गया
कि खुद की बर्बादी भी नज़र नहीं आती

॰॰॰ कि एक दिन
यूंही
एक लड़के ने
उस दीवार पर दीया जला दिया
उसी साझी दीवार पर
दोनों आँगन रौशन हो गये
बच्चे किलकारी मार आँगन में जमा हुये
मर्द चारपाई डालकर लेटे रहे
औरतें सब्जी चाकू ले आयीं
सबके चेहरे दमक उठे
अंधेरा पिघला
खुशी बही
जिंदगी तैरने लगी
आख़िर जीना कौन नहीं चाहता?
---मनीष वंदेमातरम्
(१७-०७-२००५)

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कविताप्रेमियों का कहना है :

कुमार आशीष का कहना है कि -

मर्द चारपाई डालकर लेटे रहे
औरतें सब्जी चाकू ले आयीं
बहुत सुन्‍दर गहरी सम्‍प्रेषणीयता है।

alok kumar का कहना है कि -

AKHIR KAUN JINA NAHI CHAHTA, Manish ji apne kya khoob rachi!
Jindagi ko jee pane ki ek adani si koshish ka jo sunder chitran apne kiya hai wo wakai kabile tarif hai.

Rakesh Pathak का कहना है कि -

मनीष जी ,
सचमुच भाव बहुत ही अच्छे और उतनी ही अच्छी सम्प्रेसनियेता ..काश! येसा अपने नेता सोचते तो आज भारत और पाकिस्तान ,या हिंदू मुस्लिम के बिच ये दुरिया नही होती .......न ही दो संप्रदाय ,जात कौम के बीच घमासान ............यह कविता उन्हें पढ़नी चाहिए .....................

sada का कहना है कि -

बहुत ही अच्‍छा लिखा है, बधाई ।

jeje का कहना है कि -

true religion uk
michael kors outlet
adidas nmd runner
cheap jordans
adidas tubular
adidas nmd r1
air jordan
michael kors handbags
kyrie irving shoes
michael kors outlet online

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)